scorecardresearch
 

इस्तीफे की पेशकश के बाद आनंदीबेन की दो टूक- कहीं नहीं जाऊंगी, गुजरात में ही रहूंगी

मंगलवार सुबह से आनंदीबेन अपने मुख्यमंत्री आवास पर ही रहीं. वहीं पर अधिकारियों के साथ बैठकों का दौर चला. आनंदीबेन की पहली बैठक गुजरात के मुख्य सचिव जेएन सिंध के साथ रही.

X
आनंदीबेन पटेल आनंदीबेन पटेल

सोशल मीडिया के जरिए आनंदीबेन पटेल ने सोमवार को गुजरात के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे की पेशकश की. सियासी गहमागहमी के बीच उनके उत्तराधि‍कारी की तलाश शुरू हो गई है, वहीं उन्होंने राज्यपाल बनाए जाने के भी कयास लग रहे हैं. लेकिन इस बीच आनंदीबेन ने साफ शब्दों में कहा है कि वह गुजरात में ही रहेंगी और कहीं नहीं जाएंगी.

मंगलवार सुबह से आनंदीबेन अपने मुख्यमंत्री आवास पर ही रहीं. वहीं पर अधिकारियों के साथ बैठकों का दौर चला. आनंदीबेन की पहली बैठक गुजरात के मुख्य सचिव जेएन सिंध के साथ रही, जहां उन्होंने दक्षिण गुजरात में बने बाढ़ के हालात को लेकर डिजास्टर मैनेजमेंट के साथ भी बैठक की. इस मीटिंग में उन्होंने बाढ़ के हालात की जानकारी ली और निर्देश दिया कि जानमाल के कम से कम नुकसान पर लोगों को मदद और पूरी सहुलियत मिले. उन्होंने आपदा से निपटने के लिए सरकारी मशीनरी संग पूरी प्लानिंग की.

सौरभ पटेल से विंड पॉलिसी पर चर्चा
आनंदीबेन की दूसरी मीटिंग वित्त और ऊर्जा मंत्री सौरभ पटेल के साथ रही. दोनों के बीच विंड पॉलिसी 2016 के लेकर बातचीत हुई. दोपहर होते-होते उन्होंने अपनी सुरक्षा में तैनात सभी कमांडो और मुख्यमंत्री आवास के सुरक्षाबलों से मुलाकात की. आनंदीबेन सुरक्षा कमांडो के साथ करीब एक घंटे का वक्त बिताया. यही नहीं, उन्होंने सभी कमांडो के साथ एक-एक कर फोटो भी खिंचवाए.

कमांडो दस्ते से मुलाकात पर भावुक हुईं आनंदी
आनंदीबेन अपने कमांडो दस्ते के साथ बातचीत में थोड़ी भावुक भी दिखीं. इस दौरान उन्होंने कहा कि वह गुजरात छोड़ कहीं नहीं जाएंगी. सूत्र बताते हैं कि आनंदीबेन ने सुरक्षाबलों से कहा कि वह गुजरात में ही रहेंगी. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें कोई जिम्मेदारी नहीं चाहिए. वह 2017 तक गुजरात की विधायक बनी रहेंगी. मंगलवार को बीजेपी के कई नेता आनंदीबेन पटेल से मिलने के लिए पहुंचे. मुलाकात का ये दौर दिन ढलने तक जारी रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें