scorecardresearch
 

थोक बाजार पर पड़ रहा है नोटबंदी का असर

अब तक लगभग 60-70 प्रतिशत ट्रकों पर इसका असर साफ दिख रहा है, यह ट्रक कोई काम नहीं कर रहे है, इसका सीधा असर दिहाड़ी मजदूरों पर भी साफ देखा जा रहा है. ट्रकों के बंद होने के कारण हार्डवेयर, कंस्ट्रकशन का सामान राज्य में नहीं आ पा रहा है

नोटबंदी का थोक बाजार पर असर नोटबंदी का थोक बाजार पर असर

नोटबंदी का असर अब धीरे-धीरे बढ़ता जा रहा है, अब इसका असर थोक बाजार पर भी पड़ना शुरु हो गया है. दरअसल दिल्ली और दूसरे राज्यों में सामान पहुंचाने वाले ट्रक खुले पैसों की कमी के कारण चलना बंद हो गए है.

अब तक लगभग 60-70 प्रतिशत ट्रकों पर इसका असर साफ दिख रहा है, यह ट्रक कोई काम नहीं कर रहे है, इसका सीधा असर दिहाड़ी मजदूरों पर भी साफ देखा जा रहा है. ट्रकों के बंद होने के कारण हार्डवेयर, कंस्ट्रकशन का सामान राज्य में नहीं आ पा रहा है जिससे इन कामों पर अधिक प्रभाव पड़ रहा है. हालांकि बाजार में रोजाना इस्तेमाल में आने वाली चीजों की कोई कमी नहीं है.

दरअसल ट्रक के द्वारा माल ढुलाई का काम अधिकतर कैश के जरिए ही होता है जिसके कारण मुश्किलें बढ़ रही है. दिल्ली गुड्स एसोसियेशन के अध्यक्ष राजेंद्र कपूर ने कहा कि बाजार के काम में लगातार कमी आ रही है सरकार को जल्द से जल्द कोई रास्ता निकालना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें