scorecardresearch
 

दिल्ली: गणतंत्र दिवस पर शाहीन बाग में फहराया गया तिरंगा

गणतंत्र दिवस के अवसर पर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के बीच शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों ने आज रविवार सुबह तिरंगा फहराया.

शाहीन बाग में 15 दिसंबर से सीएए के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है (फाइल-PTI) शाहीन बाग में 15 दिसंबर से सीएए के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है (फाइल-PTI)

  • शाहीन बाग में आज प्रदर्शन का 43वां दिन
  • 'शाहीन बाग में प्रदर्शन का मास्टरमाइंड नहीं'

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली के शाहीन बाग में तिरंगा फहराया गया है. यह तिरंगा शाहीन बाग में उस जगह फहराया गया है, जहां पिछले करीब डेढ़ महीने नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स (NRC) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है.

इस बीच शाहीन बाग में आज सुबह 9.30 बजे करीब 10 लाख लोग एक साथ राष्ट्रगीत जन गण मन गाकर विश्व के किसी भी राष्ट्रगान को एक साथ गाए जाने वाले रिकॉर्ड को तोड़ने की कोशिश करेंगे.

shaheen-flag_012620093523.pngशाहीन बाग में लहराया गया तिरंगा (ANI)

80 फुट ऊंचाई पर 45 फुट लंबा तिरंगा शाहीन बाग की दबंग दादी फहराएंगी.

इससे पहले जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) के छात्र शरजील इमाम के बयान पर अब शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने जवाब भी दिया है.

इसे भी पढ़ें--- Republic Day parade: 71वां गणतंत्र दिवस आज, राजपथ पर दिखेगी शौर्य की झलक

'महिलाएं चला रही आंदोलन'

शाहीन बाग का कहना है कि किसी एक व्यक्ति को प्रदर्शन का आयोजक नहीं कहा जा सकता है. हम ऐसे किसी भी बयान से खुद को अलग करते हैं. हम फिर से कहते हैं कि शाहीन बाग में कोई आयोजन समिति नहीं है. शाहीन बाग के लोगों का कहना है कि इस प्रदर्शन का कोई मास्टरमाइंड नहीं है. इस आंदोलन को महिलाएं चला रही हैं.

इसे भी पढ़ें--- कौन है भड़काऊ बयान देने वाला शरजील, जिसने कहा- असम को भारत से अलग करेंगे

शाहीन बाग से जारी हुए बयान के मुताबिक 26 जनवरी को उनका विरोध प्रदर्शन 43 दिन लंबा हो जाएगा. इन 43 दिनों में शाहीन बाग ने बड़ी संख्या में लोगों को उनके आंदोलन से जुड़ते देखा. बयान में आगे कहा गया कि कोई भी इस प्रोटेस्ट का एकमात्र आयोजक नहीं हो सकता भले ही वह शरजील इमाम ही क्यों न हो.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें