scorecardresearch
 

रेल मंत्री सुरेश प्रभु बोले- पहले ही हो चुकी थी बच्ची की मौत, रात में नहीं तोड़ीं झुग्गियां

दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि रेलवे ने जो किया वह बिल्कुल गलत है. जिस प्रोजेक्ट के नाम पर झुग्गियों को तोड़ा गया है वह अगले छह महीने तक आने वाला ही नहीं है.

दिल्ली में झुग्गियां तोड़ने पर सियासत तेज हो गई है. कांगेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को शकूरबस्ती पीड़ि‍तों से मिलने पहुंचे तो केंद्र और दिल्ली सरकार को जमकर कोसा, वहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राहुल गांधी अभी बच्चे हैं. पूरे विवाद पर केजरीवाल 5 बजे रेल मंत्री सुरेश प्रभु से मिलने का समय मांगा था.

दिल्ली के शकूरबस्ती इलाके में रेलवे की ओर से 500 झुग्गियां तोड़े जाने के मामले में राजनीतिक पारा गर्म होता जा रहा है. एक ओर जहां आम आदमी पार्टी इसके लिए केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए विरोध-प्रदर्शन कर रही तो वहीं, कांग्रेस भी मैदान में उतर चुकी है. राहुल गांधी ने पीड़ि‍तों से कहा कि आगे से जब भी झुग्गी तोड़ने की कार्रवाई हो तो आप मुझे फोन करें, एक भी झुग्गी टूटने नहीं दूंगा.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने सवाल उठाते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी किसलिए प्रदर्शन कर रही है, यह समझ से परे है. AAP खुद सत्ता में है फिर किस बात का प्रदर्शन. राहुल गांधी ने शकूरबस्ती जाकर उन लोगों से मुलाकात की, जो झुग्गियां तोड़े जाने से बेघर हो गए हैं. पीड़ितों से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा, 'मेरे घर के दरवाजे हमेशा आपके लिए खुले हैं. अगर कभी भी किसी की झुग्गी तोड़ा जाती है तो मेरे घर आएं, मैं आपके साथ खड़ा होऊंगा.'

रेल मंत्री ने संसद में दिया बयान
रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने संसद में इस मुद्दे पर बयान देते हुए कहा, 'झुग्गियां हटाए जाने की कार्रवाई से पहले ही बच्ची की मौत हो चुकी थी. लगातार कई बार झुग्गियों को हटाने का नोटिस दिया गया लेकिन लोग वहां से हटे नहीं. ऐसे अतिक्रमण सुरक्षा और सफाई दोनों के लिहाज से सही नहीं हैं.'

सुरेश प्रभु ने बताया कि इस मामले में 10 दिसंबर को नोटिस भेजा गया था. दिल्ली पुलिस को भी कार्रवाई के दौरान मौजूद रहने को कहा गया था. उन्होंने कहा, 'दिल्ली पुलिस ने भी यह कहा है कि बच्ची की मौत कार्रवाई शुरू होने के पहले ही हो गई थी. रात में तोड़फोड़ की कार्रवाई नहीं हुई. यह गलत आरोप लगाया जा रहा है.'

उन्होंने कहा, 'मैं दिल्ली के मुख्यमंत्री को पुनर्वास के मुद्दे पर चर्चा के लिए आमंत्रित करता हूं.'

'अगले छह महीने में रेलवे का प्रोजेक्ट नहीं आएगा'
दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि रेलवे ने जो किया वह बिल्कुल गलत है. जिस प्रोजेक्ट के नाम पर झुग्गियों को तोड़ा गया है वह अगले छह महीने तक आने वाला ही नहीं है. उन्होंने कहा, 'ना कोई नक्शा पास कराया गया, ना ही एमसीडी या डीडीए को ऐसा कहा गया. रेलवे ने हरे पेड़ काट दिए.'

'क्या हुआ बीजेपी का वादा?'
रेलवे पर आरोप लगाते हुए जैन ने कहा, 'बच्ची की मौत हुई है. यह मर्डर है. हम रेलवे पर केस करने की तैयारी कर रहे हैं. बीजेपी ने नारा दिया था- जहां झुग्गी, वहीं मकान, तो अब क्या है. प्राइवेट बिल्डर को तो जमीन दे देते हैं.' उन्होंने कहा कि बच्ची कि हड्ड‍ि‍यां टूटी थीं. बच्ची की गलती थी कि वो छह महीने की थी और भाग नही सकती थी.

केजरीवाल ने कहा- बच्चे हैं राहुल गांधी
राहुल गांधी की ओर सवाल उठाए जाने पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उन्हें बच्चा करार दिया. केजरीवाल ने ट्वीट करके कहा- 'राहुल गांधी जी अभी बच्चे हैं. उनकी पार्टी ने शायद उन्हें बताया नहीं कि रेलवे केंद्र सरकार के अंडर है, दिल्ली सरकार के नहीं.'

AAP सांसद भगवंत मान ने कहा कि रेलवे केंद्र सरकार के अधीन है. दिल्ली सरकार को बिना बताए केंद्र की यह कार्रवाई बिल्कुल गैरजिम्मेदाराना है. उन्होंने कहा कि बच्चा-बच्चा जानता है बीजेपी दिल्ली में AAP की छवि खराब कर रही है. AAP ने संसद में स्थगन प्रस्ताव भी दिया.

क्या है पूरा मामला?
यह वाकया शनिवार का है. रेलवे पुलिस और रेलवे के अधिकारियों ने शकूरबस्ती इलाके में रेलवे प्रोजेक्ट वाली जगह पर बसी झुग्गी हटाने की कार्रवाई की, जिसमें एक बच्ची की मौत की हो गई. घटना सामने आते ही इस पर राजनीति शुरू हो गई. मामले में कुछ अधियाकारियों को सस्पेंड भी किया गया है. दिल्ली सरकार मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दे दिए हैं. घटना को लेकर रेलवे ने आरोपों को बेबुनियाद बताया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें