scorecardresearch
 

नए नोटों पर छपे सुभाष बाबू की फोटो, PM मोदी से नेताजी के परिजनों ने की मांग

मांग की गई है कि नेताजी के जन्मदिवस 23 जनवरी को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए. ये उन्हें सम्मानित करने जैसा होगा. साथ ही ट्रेनों के 4 डिब्बों को नेताजी मोबाइल संग्रहालय में बदलने की मांग की है जिससे देशभर के लोग आजाद हिंद फौज के संस्थापक सुभाष चंद्र बोस की वीरता के बारे में जान सकें.

सुभाष चंद्र बोस. -फाइल फोटो. सुभाष चंद्र बोस. -फाइल फोटो.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 23 जनवरी को नेताजी की 125वीं जयंती
  • नेताजी की जयंती पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की मांग

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिजनों ने नेताजी के 125वें जन्मदिन पर पीएम मोदी को पत्र लिखकर नए नोटों पर नेताजी की तस्वीर छापने की मांग की है. साथ ही नेताजी के जन्मदिन 23 जनवरी को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करने की भी मांग की गई है. 9 पॉइंट में लिखे गए पत्र में नेताजी के परिजन की ओर से कहा गया है कि सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर वे अपना सुझाव दे रहे हैं. 

पत्र में लिखा गया है कि नेताजी के जन्मदिवस 23 जनवरी को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया जाए. ये उन्हें सम्मानित करने जैसा होगा. साथ ही ट्रेनों के 4 डिब्बों को नेताजी मोबाइल संग्रहालय में बदलने की मांग की है जिससे देशभर के लोग आजाद हिंद फौज के संस्थापक सुभाष चंद्र बोस की वीरता के बारे में जान सकें.

इसके अलावा, हर साल 21 अक्टूबर को लाल किले पर झंडा फहराने के लिए गजट नोटिफिकेशन जारी करने की भी मांग की गई है. 30 दिसंबर 1943 को अविभाजित स्वतंत्र भारत के पहले राष्ट्राध्यक्ष नेताजी ने अंडमान निकोबार द्वीप समूह में ध्वाजारोहण किया था. इसकी स्मृति में भारत के राष्ट्रपति या प्रधानमंत्री द्वारा हर साल 30 दिसंबर को ध्वजारोहण की मांग की गई. 

पत्र में कहा गया है कि नई दिल्ली स्थित इंडिया गेट के सामने नेताजी की प्रतिमा स्थापित की जाए. भारतीय राष्ट्रीय सेना के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए लाल किले में आईएनए स्मारक का निर्माण करें, जिन्होंने हमारी मातृभूमि की स्वतंत्रता के लिए अपने प्राणों की आहुति दी, देश भर में नेताजी की समावेशी विचारधारा को एकजुट करने के लिए लागू करें. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×