scorecardresearch
 

दिल्ली: अब सेलिब्रिटी नहीं, बच्चे बनेंगे स्वच्छता अभियान के ब्रांड अम्बेसडर

इस प्लान के तहत करीब 15 से 20 हज़ार बच्चों का चयन होगा. मेयर आदेश गुप्ता ने कहा लोगों की आदत में सुधार लाने के लिए जरूरी है कि जो लोग गंदगी करते हैं उन्हें बच्चे रोकें और टोकें.

फाइल फोटो फाइल फोटो

स्वच्छता अभियान के लिए आम तौर पर किसी सेलिब्रिटी को ब्रांड अम्बेसडर बनाया जाता है. लेकिन उत्तरी दिल्ली का नगर निगम एक नई कवायद शुरू करने जा रहा है. इसके तहत नगर निगम के स्कूली बच्चे ही अब स्वच्छता अभियान के ब्रांड अम्बेसडर बनेंगे. उत्तरी दिल्ली नगर निगम दिसंबर के दूसरे हफ्ते में इस अभियान की शुरुआत करेगी.

उत्तरी दिल्ली नगर निगम के मेयर आदेश गुप्ता ने कहा है कि इस अभियान में तीसरी से पांचवीं तक के बच्चे इसमें शामिल होंगे. उत्तरी दिल्ली नगर निगम की योजना के तहत हर क्लास रूम से 10 बच्चों का चुनाव होगा. बच्चों को लिखित परीक्षा देनी होगी ताकि बच्चे अपने मोहल्ले, गली और घर में गंदगी फैलाने वालों को रोक सकें.

इसके तहत करीब 15 से 20 हज़ार बच्चों का चयन होगा. मेयर आदेश गुप्ता ने कहा लोगों की आदत में सुधार लाने के लिए जरूरी है कि जो लोग गंदगी करते हैं उन्हें बच्चे रोकें और टोकें.

नगर निगम का मानना है कि स्वच्छता को लेकर लोगों में जागरूकता तो आ रही है लेकिन कुछ लोग अब भी अपनी आदतों में सुधार नहीं कर रहे हैं. निगम के मुताबिक जिन विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा उनकी कक्षा अध्यापिका हर माह के अंतिम सप्ताह में विद्यार्थियों से स्वच्छता के लिए किए गए कार्यों की जानकारी लेंगी. बच्चों का स्वच्छता रिपोर्ट कार्ड पूरे वर्ष भर तक तैयार किया जाएगा. इसमें अच्छा कार्य करने वाले विद्यार्थियों को वर्ष के अंत में सम्मानित भी किया जाएगा.

साल भर में जो चयनित बच्चे अपना काम बेहतरीन ढंग से करेंगे उसको सम्मानित करने के अलावा निगम उन्हें अपना ब्रांड अम्बेसडर बनाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें