scorecardresearch
 

नई दिल्ली के 'स्मार्ट सिटी' का ब्लू प्रिंट, NDMC के लिए 3,600 करोड़ का बजट

स्मार्ट सिटी का तमगा हासिल करने की ओर एनडीएमसी एक कदम और आगे बढ़ गई है. लगातार तीसरे साल एनडीएमसी के सालाना बजट का केंद्र स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट रहा. इस बार एनडीएमसी का ये बजट स्मार्ट सिटी के साथ-साथ हाईटेक भी है, क्योंकि एनडीएमसी ने साल 2017-18 के बजट में तकनीक, स्केल और स्पीड पर फोकस किया है.

X
एनडीएमसी का बजट स्मार्ट सिटी के साथ हाईटेक भी एनडीएमसी का बजट स्मार्ट सिटी के साथ हाईटेक भी

स्मार्ट सिटी का तमगा हासिल करने की ओर एनडीएमसी एक कदम और आगे बढ़ गई है. लगातार तीसरे साल एनडीएमसी के सालाना बजट का केंद्र स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट रहा. इस बार एनडीएमसी का ये बजट स्मार्ट सिटी के साथ-साथ हाईटेक भी है, क्योंकि एनडीएमसी ने साल 2017-18 के बजट में तकनीक, स्केल और स्पीड पर फोकस किया है.

इस हाईटेक बजट में नई दिल्ली इलाके में रहने वाले लोगों को कैशलेस पर वसूले जाने वाले चार्ज से राहत दी गई है. यानी अब एनडीएमसी से जुड़े डिजिटल ट्रांजैक्शन करने पर कोई अतिरिक्त बोझ नहीं पड़ेगा.

एनडीएमसी ने साल 2017-18 के लिए कुल बजट का लक्ष्य 3627.08 करोड़ रुपये रखा है. जिसमें कुल अनुमानित व्यय बजट का लक्ष्य 3621.62 करोड़ रुपये होगा. यानी एनडीएमसी ने तक़रीबन 6 करोड़ का सरप्लस बजट रखा है. तकनीक के जरिये एनडीएमसी स्मार्ट सिटी का तमगा जल्दी हासिल कर ले इसके मद्देनजर टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट बोर्ड बनाएगी. जिससे गवर्नेंस में तेज़ी आए. ग्रीन फ्यूचर इंटीग्रेट अवॉर्ड फॉर स्टूडेंट्स के जरिये ब्राइट माइंडस को तलाशा जाएगा. एनडीएमसी अगले साल जॉइंट वेंचर के जरिये वाई फाई लाएगी. स्वच्छ भारत अभियान के तहत गारबेज फ्री नई दिल्ली के लिए भी एनडीएमसी ने खास बजट रखा है. सफाईकर्मियों, बेलदारों और माली को नई तकनीक की ट्रेनिंग के लिए चीन भेजा जाएगा.

एनडीएमसी ऐसी पहली सिविक एजेंसी है, जिसके ज्यादातर स्कूलों में कक्षा 6वीं से लेकर 12वीं तक क्लास स्मार्ट क्लासेज में तब्दील हो चुके हैं. योजना के मुताबिक साल 2017-18 में पहली से लेकर पांचवी तक के करीब 333 क्लास रूम को भी स्मार्ट क्लास में बदला जाएगा. स्कूलों में साइंस स्ट्रीम के लिए लैब, जिसमें 3डी प्रिंटिंग, रोबोटिक साइंस को इंट्रोड्यूस किया जाएगा. नए बजट सत्र में एनडीएमसी नौनिहालों के लिए पालिका प्ले स्कूल भी खोलेगी. एनडीएमसी के पार्कों को हैप्पीनेस एरिया में तब्दील किया जाएगा. साथ ही सरकारी इमारतों के साथ-साथ निजी इमारतों पर भी सौर पैनल बनाए जाएंगे. इस साल के बजट में सबसे खास जगह पब्लिक बाइक शेयरिंग को दिया गया है. जिसके ज़रिए लोग एनडीएमसी के अंतिम छोर तक कनैक्टिविटी पा सके. इसके लिए 25 किमी का ट्रैक डिजाइन किया गया है.

एनडीएमसी चेयरमेन नरेश कुमार के मुताबिक, बजट में जो भी प्रस्ताव दिए गए हैं, वो एनडीएमसी की कार्यप्रणाली में तेजी और स्मार्टनेस लाने के लिए दिए गए हैं. इस बार हमने तय किया है कि तकनीक का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल कर एनडीएमसी इलाके को बेहतर बनाया जाए. एनडीएमसी के प्रस्तावों को देखते हुए कहा जा सकता है कि ये एक हाईटेक बजट है. हालांकि टेक्नोलॉजी से जुड़ने के अलावा इस बजट में कुछ नया नहीं है.

आपको बता दें कि एनडीएमसी ने टैक्स में कोई बदलाव नहीं किया है. एनडीएमसी एक जनवरी से पूरी तरह कैशलेस हो चुका है. बिजली-पानी का बिल भरना हो या बारात घर बुकिंग की पेमेंट, अब एनडीएमसी इलाके के लोगों को कैशलेस भुगतान करना होगा. बेलदार, माली, इलैक्ट्रिशियन, सफाई कर्मचारी जैसे एनडीएमसी कर्मचारियों को भी कैशलेस पेमेंट दी जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें