scorecardresearch
 

MCD कर्मचारियों की हड़ताल को आम आदमी पार्टी का समर्थन

गुरुवार को तीनों एमसीडी के नेता विपक्ष और प्रवक्ता दिलीप पांडे धरना स्थल पर पहुंचे और हड़ताल को अपना समर्थन दिया. आपको बता दें कि तीनों एमसीडी के मलेरिया विभाग में काम करने वाले डीबीसी कर्मचारी अपनी नौकरी पक्की की जाने समेत अन्य मांगों को लेकर सिविक सेंटर के सामने धरने पर बैठे हैं.

विरोध में कर्मचारी विरोध में कर्मचारी

अपनी मांगों के लिए 13 मार्च से भूख हड़ताल पर बैठे एमसीडी के डीबीसी कर्मचारियों को अब आम आदमी पार्टी का भी समर्थन मिल गया है.

गुरुवार को तीनों एमसीडी के नेता विपक्ष और प्रवक्ता दिलीप पांडे धरना स्थल पर पहुंचे और हड़ताल को अपना समर्थन दिया. आपको बता दें कि तीनों एमसीडी के मलेरिया विभाग में काम करने वाले डीबीसी कर्मचारी अपनी नौकरी पक्की की जाने समेत अन्य मांगों को लेकर सिविक सेंटर के सामने धरने पर बैठे हैं.

धरने में मौजूद नार्थ एमसीडी में नेता विपक्ष राकेश कुमार ने कहा, 'निगम में बैठी बीजेपी के नेता खुद तो फ़ाइव-स्टार होटल में दावतें करते हैं और अपने कर्मचारियों को तनख्वाह तक नहीं देते हैं. बीजेपी के नेता निगम के सारे पैसे को भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ाकर डकार जाते हैं और फिर पैसा ना होने का रोना रोने लगते हैं. साउथ एमसीडी में नेता विपक्ष रमेश मटियाला ने कहा कि आम आदमी पार्टी डीबीसी कर्मचारियों के साथ हर कदम पर खड़ी है और उनकी मांगों को लेकर न केवल उनके साथ सड़क पर संघर्ष करेगी बल्कि सदन के अंदर भी उनकी आवाज़ को उठाएगी.'

इस मौके पर दिलीप पांडे ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि उसके नेता बीते 10 साल से भी ज्यादा वक्त से लगातार एमसीडी में राज कर रहे हैं और अभी तक डीबीसी कर्मचारियों को पक्का नहीं किया गया है. दिलीप पांडे ने बीजेपी पर डीबीसी कर्मचारियों को धोखा देने का आरोप लगाया. पांडे ने कहा कि डीबीसी वर्कर साल के 12 महीने काम करते हैं और खुद मच्छरों से लड़कर  दिल्ली वालों और मच्छरों के बीच एक ढाल बनकर काम करते हुए उन्हें मच्छरों से बचाते हैं. ऐसे में इन्हें पक्का किया जाना चाहिए. दिलीप पांडे ने कहा कि एमसीडी अब डीबीसी कर्मचारियों को 4 महीने की छुट्टी पर भी भेजने की बात कर रही है जो सरासर अनुचित है.

क्या है प्रमुख मांगें

एंटी मलेरिया एकता कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष बुधराम के मुताबिक यूनियन की 7 अहम मांगें हैं, जिसमें से सबसे प्रमुख मांग है डीबीसी वर्करों को पक्का करने की. इसके अलावा डीबीसी वर्कर चाहते हैं कि उन्हें भी सालाना छुट्टियां, पीएफ वगैरह दिया जाए. डयूटी पर मौत होने या दुर्घटना होने पर मुआवज़ा दिया जाए और नार्थ एमसीडी में 4 महीने के सर्विस ब्रेक के प्रस्ताव को रद्द किया जाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें