scorecardresearch
 

बापू के बाद नकली गांधी उनका सरनेम लेकर राज करते रहे: कपिल मिश्रा

दिल्ली सरकार में पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने गांधी और गोडसे को लेकर एक ब्लॉग लिखा है, जिस पर अब सवाल उठ रहे हैं. आजतक ने जब कपिल मिश्रा से इस बारे में बात की तो उन्होंने कहा जिस तरह से महात्मा गांधी की हत्या हुई, अगर उस तरह से हत्या नहीं हुई होती तो बहुत सारी बातों पर सवाल-जवाब और चर्चा हो रही होती.

पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा (फाइल फोटो-इंडिया टुडे) पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा (फाइल फोटो-इंडिया टुडे)

दिल्ली सरकार में पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा ने गांधी और गोडसे को लेकर एक ब्लॉग लिखा है, जिस पर अब सवाल उठ रहे हैं. आजतक ने जब कपिल मिश्रा से इस बारे में बात की तो उन्होंने कहा जिस तरह से महात्मा गांधी की हत्या हुई, अगर उस तरह से हत्या नहीं हुई होती तो बहुत सारी बातों पर सवाल-जवाब और चर्चा हो रही होती. गांधी की हत्या के बाद नकली गांधी उनका सरनेम लेकर राज करते रहे.

कपिल मिश्रा ने कहा कि हत्या के कारण ऐसी बहुत सारी बातों पर बोलना ही गुनाह हो गया क्योंकि जब किसी व्यक्ति की हत्या हो जाती है तो फिर आप उसके बारे में गलत बात नहीं करते हैं. क्योंकि उसके बारे में बात करना अपराध बन जाता है.

पूर्व मंत्री ने माना कि वे खुद जब कोई काम शुरू करते हैं तो राजघाट पर जरूर जाते हैं. उनकी खुद की गांधी में यह निष्ठा है. असली गांधीवादी वह होगा जो खुद गोडसे को पढ़ेगा. जिसने गोडसे को ही नहीं पढ़ा वह असली गांधीवादी क्या होगा?

कपिल मिश्रा ने कहा कि आजादी के बाद गांधीजी की भूख हड़ताल के चलते भारत ने पाकिस्तान को राशि दी, उस समय के कई लोगों में यह बात अच्छी नहीं लगी थी. अगर गांधी जिंदा होते तो उनकी पाकिस्तान के प्रति उनके स्टैंड जैसे तमाम मुद्दों पर चर्चा होती, लेकिन  हत्या के चलते यह मुद्दा पूरी तरह खत्म हो गया.

उन्होंने आगे कहा कि मैंने अपने ब्लॉग में 'गांधी को राष्ट्रपिता ना माना जाता', यह मैंने इसलिए लिखा है क्योंकि पाकिस्तान में जिन्ना को सब कुछ माना जा रहा था और विभाजन के समय की गतिविधियों के चलते बापू पर भी सवाल उठते. ऐसे में दोनों तरफ से बापू से सवाल पूछे जाते मगर हत्या के बाद यह सारे सवाल बंद हो गए.

पूर्व मंत्री ने कहा कि गोडसे ने हत्या की इसलिए उनके विचारों को लोग पढ़ते नहीं हैं. अगर गोडसे विचारक होते तो उन्हें ज्यादा पढ़ा जाता.

कपिल मिश्रा के मुताबिक, मैं यह मानता हूं कि विचारों की लड़ाई अगर होती तो यह ज्यादा ताकतवर होती. उसके जरिए बापू को भी कटघरे में खड़ा किया जाता. देश की जनता पूछती,  लोकतंत्र में संवाद होता, लेकिन हत्या हो गई तो सवाल-जवाब और संवाद समेत सारी संभावनाएं खत्म हो गईं.  जीवन के अंतिम दिनों में बापू की पहचान पाकिस्तान के प्रति समर्पण की बनने लगी थी. बापू की अंतिम मेमोरी शायद अहिंसा, सत्याग्रह ना होकर पाकिस्तान वाली मेमोरी बनती, अगर 5-10 साल बापू जिंदा होते तो इसी मेमोरी के साथ जिंदा रहते.

उन्होंने आगे कहा कि शायद गोडसे भी यह सोचते होंगे कि काश उन्होंने हिंसा का रास्ता अपनाने की जगह विचारों की लड़ाई लड़ी होती और बापू भी सोचते होंगे कि सिर्फ अहिंसा से कुछ नहीं होता.

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोडसे पर दिए बयान पर कपिल मिश्रा ने कहा कि कमल हासन के हिंदू आतंकवादी वाले बयान से वे पूरी तरह असहमत हैं. गोडसे एक हत्यारे थे और एक हत्यारे को हत्यारा बोलना चाहिए ना कि हिंदू आतंकवादी. आतंकवादी बाबर, तैमूर जैसे लोग हुए हैं, हिंदू कभी कोई आतंकवादी नहीं हुआ. अब वैचारिक आतंकवादी हो रहे हैं जिनमें आप कमल हासन का नाम भी डाल सकते हैं.

कपिल मिश्रा ने कहा कि गोडसे की सबसे बड़ी गलती ही यही है कि विचार को विचार से बंद ना करके गोली से खत्म करने की कोशिश की. इसके चलते बहुत सारे फर्जी गांधीवादी आ गए जिसके चलते 70 साल तक देश का इतिहास कुछ और होता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें