scorecardresearch
 

निर्भया गैंगरेप के दोषी के इंटरव्यू पर रोक, दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR

निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह के इंटरव्यू पर विवाद बढ़ गया है. मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर लिया है, वहीं सूचना प्रसारण मंत्रालय ने डॉक्यूमेंट्री नहीं दिखाने के निर्देश जारी कर दिए हैं. इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी मुकेश सिंह से तिहाड़ जेल में लिए गए इंटरव्यू पर कड़ा ऐतराज जताया. उन्होंने जेल प्रमुख से इस पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

X
गैंगरेप का दोषी मुकेश सिंह
गैंगरेप का दोषी मुकेश सिंह

निर्भया गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह के इंटरव्यू पर विवाद बढ़ गया है. मामले में दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर लिया है, वहीं सूचना प्रसारण मंत्रालय ने डॉक्यूमेंट्री नहीं दिखाने के निर्देश जारी कर दिए हैं. इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी मुकेश सिंह से तिहाड़ जेल में लिए गए इंटरव्यू पर कड़ा ऐतराज जताया. उन्होंने जेल प्रमुख से इस पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है.

गौरतलब है‍ कि ब्रिटेन की एक मीडिया संस्थान ने 16 दिसंबर 2012 को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में चलती बस में हुए गैंगरेप मामले के दोषी मुकेश सिंह का जेल में इंटरव्यू किया. इस इंटरव्यू में दोषी ने कहा कि उसे गैंगरेप का कोई पछतावा नहीं है. यही नहीं, उसने रेप के लिए लड़की को ही जिम्मेदार बताया और कहा कि अगर लड़की और उसका ब्वॉयफ्रेंड विरोध नहीं जताते तो वो उनकी जान बख्श देते.

मुकेश सिंह ने बयान को शर्मनाक बताते हुए निर्भया के माता-पिता ने उसे फांसी पर लटकाने की मांग की है. बयान के संबंध में आईपीसी की संबंधित धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है, जिसमें किसी के नाम का उल्लेख नहीं है. दिल्ली पुलिस आयुक्त बीएस बस्सी ने कहा, 'हमने खबरों के आधार पर प्राथमिकी दर्ज की है और जांच करेंगे. जो भी दोषी पाया जाएगा, उनके खिलाफ हम कार्रवाई करेंगे.'

बाद में मंगलवार शाम को दिल्ली पुलिस ने पटियाला हाउस में मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पुनीत पहवा से अनुरोध किया और दोषी के विवादित इंटरव्यू का अगले आदेश तक प्रसारण, प्रकाशन करने से मीडिया को रोकने का आदेश हासिल किया. पुलिस प्रवक्ता राजन भगत ने इस बाबत जानकारी दी. डॉक्यूमेंट्री बनाने वाले लेस्ली उडविन ने कहा कि फिल्म में उन्होंने महिलाओं के प्रति पुरुषों के नजरिए का रुख देखने का प्रयास किया है और इसमें कुछ भी सनसनीखेज नहीं है.

पहले ले ली थी अनुमति
उडविन ने दावा किया कि 'बीबीसी' के लिए जेल में मुकेश का इंटरव्यू करने से पहले उन्होंने तिहाड़ जेल की तत्कालीन महानिदेशक विमला मेहरा से अनुमति ली थी. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि हिरासत में दोषी के इंटरव्यू की घटना को काफी गंभीर मानते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने तिहाड़ जेल के महानिदेशक आलोक कुमार वर्मा से बात की और इस पर तुरंत विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा. सूत्रों ने कहा कि टेलीफोन पर हुई बातचीत दौरान जेल महानिदेशक ने गृह मंत्री को घटना और अब तक की गई कार्रवाई के बारे में बताया.

इंटरव्यू में क्या कहा
बताया जाता है कि इंटरव्यू में दोषी मुकेश ने कहा कि रात में बाहर निकलने वाली महिलाएं अगर दुराचारी पुरुषों के गिरोह का ध्यान आकर्षित करती हैं तो इसके लिए वे खुद ही जिम्मेदार हैं. उसने कहा, 'रेप के लिए लड़के से कहीं ज्यादा लड़की जिम्मेदार है.' मुकेश को फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है. लड़की की हत्या को दुर्घटना बताते हुए उसने कहा, 'जब लड़की से रेप हो रहा था तो उसे विरोध नहीं करना चाहिए था. उसे चुप रहना चाहिए था और रेप होने देना चाहिए था. उसके बाद वे उसे कहीं उतार देते और लड़के की केवल पिटाई करते.'

उडविन ने दावा किया कि 'इंडियाज डॉटर' नाम की इस डॉक्यूमेंट्री में दिल्ली गैंगरेप की घटना की कहानी को दोषियों और पीड़ि‍तों के अभिभावकों के नजरिए से पेश किया गया है. फिल्म निर्माता ने लोगों से अपील की कि फिल्म के बारे में कोई पूर्व धारणा नहीं बनाएं. उन्होंने कहा, 'फिल्म के अंत में पूरी दुनिया के आंकड़े को एक-एक देश के हिसाब से पेश किया गया है. रेप भारत की ही समस्या नहीं है. यह वैश्विक समस्या है.'

जेल प्रशासन को लिखी थी चिट्ठी
तिहाड़ जेल में मुकेश के इंटरव्यू को अनुमति देने को लेकर छिड़े विवाद पर उन्होंने कहा, 'मैंने तिहाड़ के महानिदेशक को चिट्ठी लिखी थी. मैंने मई 2013 में अनुमति के लिए आवेदन दिया था और दो हफ्ते में मुझे अनुमति मिल गई.'

-इनपुट भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें