scorecardresearch
 

कामयाबी के लिए हमने 365 दिन काम किया, कोई छुट्टी नहीं लीः एके गुप्ता

एके गुप्ता ने कहा कि मुझे कुछ नया करना है, नया करने की सोच रहा हूं. लगातार नया करते रहना चाहता हूं. उन्होंने कहा कि अपने 35 साल के बिजनेस में लामोड में कभी कोई सेल नहीं लगाई. हमने अपने सामानों पर कभी भी दाम बढ़ाकर नहीं लगाया.

दिल्ली आजतक के आंत्रप्रेन्योर समिट में एके गुप्ता दिल्ली आजतक के आंत्रप्रेन्योर समिट में एके गुप्ता

दिल्ली आजतक के आंत्रप्रेन्योर समिट में हिस्सा लेते हुए दिल्ली-एनसीआर में फैशन की दुनिया में बड़ा नाम लामोड के एमडी एके गुप्ता का कहना है कि कामयाबी के लिए ईमानदारी और सच्चाई बनाए रखने की जरूरत होती है. हमने जब काम शुरू किया तो किसी दिन छुट्टी नहीं ली. साल के 365 दिन लगातार काम करते रहे, दिवाली और होली के दिन भी हमने काम किया. आज कामयाबी मिलने के बाद भी लगातार नई सोच के साथ काम करते हैं जिससे बाजार में नयापन बना रहे.

दिल्ली आजतक के आंत्रप्रेन्योर समिट में एके गुप्ता ने कहा कि 3 दशक पहले कंपनी शुरू करने के लिए कंपनी का नाम रखने के लिए हमने काफी काम किया और महीनों तक रिसर्च करने के बाद तय किया कि कंपनी का नाम लामोड रखा जाए. यह एक फ्रेंच नाम है और इसका अर्थ है द मॉडर्न.

लव मैरिज करने पर पिता ने निकाला

उन्होंने अपनी शुरुआती जीवन के संघर्षों के बारे में बताया कि लव मैरिज करने के बाद घरवालों से झगड़ा हो गया. मेरे पिता जो प्रिंसिपल थे, बेहद कड़े कायदे-कानून वाले थे और उन्होंने मुझे घर से बाहर निकाल दिया. इसके बाद जीवन में खासा संघर्ष करना पड़ा. लेकिन हम रुके नहीं और आगे संघर्ष करते रहे.

दिल्ली आजतक के आंत्रप्रेन्योर समिट में एके गुप्ता ने कहा, 'कुछ समय तक संघर्ष करने के बाद पत्नी ने बताया कि मेरे पास 5 हजार रुपये बचे हैं तो हमने घर में ही सिलाई का काम शुरू कर दिया. शुरुआत बच्चों के कुर्ता-पाजामे से किया. खुद ही सिलते और खुद ही बेचने जाते. फिर कुछ महिलाओं को भी जोड़ लिया.' उन्होंने कहा कि 35 साल पहले बाजार में अमूमन रेडीमेड शर्ट होते थे, लेकिन पैंट नहीं होते थे. तो हमने पैंट निकाला जिसका रिस्पॉन्स शानदार रहा. इसके बाद हमने तय किया कि एक नाम रजिस्टर्ड कराया जाए फिर हम गए और वकील को 5 हजार रुपये दिए कि मेरी कंपनी का नाम रजिस्टर्ड कर दिया जाए. तब पत्नी ने कहा कि तुमने 5 हजार रुपये सिर्फ नाम के रजिस्ट्रेशन में दे दिए.

'हमने कभी छुट्टी नहीं ली'

लामोड फैशन्स प्राइवेट लिमिटेड के एमडी एके गुप्ता ने कहा कि हमने अपना पहला शो रूप मुनिरका में खोला. इसके बाद आज की तारीख में पूरे दिल्ली-एनसीआर में 40 शो रूम चल रहे हैं. खास बात यह है कि हमारे शो रूम किसी किराए के मकान में नहीं चल रहे हैं, सारे के सारे शो रूम अपने मकान में हैं.

अब बच्चों की शादी करने के बाद एके गुप्ता ने कहा कि मुझे कुछ नया करना है. नया करने की सोच रहा हूं. लगातार नया करते रहना चाहता हूं. उन्होंने कहा कि अपने 35 साल के बिजनेस में लामोड में कभी कोई सेल नहीं लगाई. हमने अपने सामानों पर कभी भी दाम बढ़ाकर नहीं लगाया. पहले किसी चीज का दाम बढ़ाओ और फिर सेल के नाम पर रेट कम करके बेचो. ऐसा हमने कभी नहीं किया.

उन्होंने आगे कहा, 'लोग कहते हैं कि अब आप 62 के हो गए हो आप बाहर घूमने जाओ तो मेरे लिए मेरा ऑफिस ही घूमने की सबसे बड़ी जगह है. मैं लंदन गया और दुनिया के कई बड़े शहरों में भी घूमने गया, लेकिन मुझे दिल्ली से अच्छा कोई शहर नहीं लगा. मेरी नजर में मेरा ऑफिस ही लंदन जैसा है. ईमानदारी और सच्चाई से ही बिजनेस में कामयाबी मिलती है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें