scorecardresearch
 

दिल्ली में खत्म होने की कगार पर कोवैक्सीन, आज नहीं मिला स्टॉक तो शाम से बंद हो जाएंगे वैक्सीनेशन सेंटर

आतिशी ने कहा कि दिल्ली में 18 से 44 साल तक के युवाओं के लिए 10 मई के बाद कोवैक्सीन का एक दिन और कोविशील्ड का चार दिन का स्टॉक बचेगा. दिल्ली में 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए कोवैक्सीन की छह और कोविशील्ड की पांच दिन की वैक्सीन बचेगी.

कोवैक्सीन कोवैक्सीन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आतिशी ने जारी किया वैक्सीन बुलेटिन
  • दिल्ली में 9 मई को नहीं लगी थी वैक्सीन

आम आदमी पार्टी की विधायक आतिशी ने सोमवार के वैक्सीन बुलेटिन में बताया कि दिल्ली में 18 से 44 साल तक के युवाओं के लिए 10 मई के बाद कोवैक्सीन का एक दिन और कोविशील्ड का चार दिन का स्टॉक बचेगा. दिल्ली में 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए कोवैक्सीन की छह और कोविशील्ड की पांच दिन की वैक्सीन बचेगी.

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार को वैक्सीन नहीं मिली तो कोवैक्सीन केंद्र 11 मई की शाम से और कोविशील्ड के वैक्सीनेशन केंद्र चार दिन बाद बंद करना पड़ेगा. हमें उम्मीद है कि केंद्र सरकार जल्द से जल्द वैक्सीन स्टॉक उपलब्ध करवाएगी. आतिशी ने कहा कि 18 से 44 साल के युवाओं के लिए 10 मई की सुबह तक कोवैक्सीन की 47,980 डोज और कोविशील्ड की 2,26,480 डोज उपलब्ध थी.

AAP विधायक ने कहा कि हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए कोवैक्सीन की 2,23,750 और कोविशील्ड की 2,43,440 डोज उपलब्ध थी. दिल्ली में 10 मई की सुबह तक सभी श्रेणियों में 38,96,550 वैक्सीन का उपयोग किया जा चुका था. संक्रमण और मृत्यु दर की चर्चा करते हुए कहा कि दो श्रेणियों में वैक्सीनेशन किया जा रहा है. पहली श्रेणी में हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है. इस श्रेणी के लिए 10 मई की सुबह तक कोवैक्सीन की 2,23,750 डोज और कोवीशील्ड की 2,43,440 डोज उपलब्ध थीं.

9 मई को नहीं लगी थी वैक्सीन

AAP विधायक आतिशी ने यह भी बताया था कि 9 मई को रविवार होने के कारण वैक्सीन नहीं लगी थी. 8 मई के बाद 10 मई की सुबह से वैक्सीनेशन की शुरुआत हुई थी. दिल्ली में 10 मई की सुबह तक कुल 38 लाख 96 हजार 550 वैक्सीन लगाई जा चुकी थी. 8 मई के दिन ही 1 लाख 28 हजार 440 वैक्सीन की डोज लगाई गई थी. आतिशी ने कहा था कि दिल्ली सरकार 1.34 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट को दे चुकी है. वैक्सीन जैसे-जैसे आ रही है, लगातार भुगतान भी किया जा रहा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें