scorecardresearch
 

दिल्ली: अशोक विहार में 12 साल की बच्ची से कराई जा रही थी बाल मजदूरी, पुलिस ने रेस्क्यू किया

बच्ची को रेस्क्यू करने में दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस की मदद ली. आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने पुलिस से आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की मांग की है.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बच्ची की मां ने उसे कुछ साल पहले छोड़ दिया है
  • DCW ने बच्ची को शेल्टर होम भेजा

देश की राजधानी दिल्ली में बाल मजदूरी का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. दिल्ली पुलिस ने दिल्ली महिला आयोग (DCW) के साथ मिलकर 12 साल की एक ऐसी बच्ची को रेस्क्यू किया है, जिससे 2 साल से बिना पैसे दिए बाल मजदूरी कराई जा रही थी. बताया जा रहा है कि बच्ची की मां ने उसे छोड़ दिया है. रेस्क्यू की गई बच्ची उत्तर प्रदेश के लखनऊ की रहने वाली है. उसे दिल्ली के अशोक विहार से रेस्क्यू किया गया है. 

दिल्ली महिला आयोग के मुताबिक बच्ची से 10 साल की उम्र से घर का काम कराया जा रहा है. इसके एवज में उसे अब तक कोई पैसे भी नहीं दिए गए. आयोग को किसी ने गुप्त रूप से बच्ची की जानकारी दी थी. पुलिस ने बच्ची से जबरन काम करा रहे परिवार के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली है. बच्ची को शेल्टर होम भेज दिया गया है. महिला आयोग की टीम उसकी देखरेख करेगी.

रेस्क्यू कराने के बाद बच्ची ने पुलिस को बताया कि उससे दिनभर काम कराया जाता था. घर से कहीं भी जाने की मनाही थी. DCW की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने इस मामले में दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी कर आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है. स्वाति मालीवाल ने घटना पर आश्चर्य जताते हुए कहा कि कोई मां इस तरह अपनी बच्ची को कैसे छोड़ सकती है. दिल्ली पुलिस के एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक इस मामले में भरत नगर पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया है. आरोपियों के खिलाफ बाल श्रम कानून की धाराएं भी लगाई गई हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें