scorecardresearch
 

दिल्ली में बढ़ता जा रहा डेंगू का कहर, मंडाविया करने जा रहे समीक्षा बैठक

दिल्ली में इस साल डेंगू के मामले काफी ज्यादा हो गए हैं. कई सालों के रिकॉर्ड टूट चुके हैं और अस्पताल में भी भारी संख्या में मरीज भर्ती होते दिख रहे हैं. बिगड़ती स्थिति को देखते हुए अब केंद्र इस मामले में अपना हस्तक्षेप करने जा रहा है.

X
दिल्ली में डेंगू के लगातार बढ़ रहे मामले ( सांकेतिक फोटो)
दिल्ली में डेंगू के लगातार बढ़ रहे मामले ( सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली में बढ़ता जा रहा डेंगू का कहर
  • मंडाविया करने जा रहे समीक्षा बैठक

दिल्ली में इस साल डेंगू के मामले काफी ज्यादा हो गए हैं. कई सालों के रिकॉर्ड टूट चुके हैं और अस्पताल में भी भारी संख्या में मरीज भर्ती होते दिख रहे हैं. बिगड़ती स्थिति को देखते हुए अब केंद्र इस मामले में अपना हस्तक्षेप करने जा रहा है. स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया आज दिल्ली सरकार संग एक अहम बैठक करने जा रहे हैं. उस बैठक वर्तमान डेंगू स्थिति पर विस्तार से चर्चा की जाएगी.

डेंगू के बढ़ते मामले, मंडाविया की बैठक

केंद्र का प्रयास है कि राजधानी में अब डेंगू के मामले और ज्यादा ना बढ़े. ऐसे में वो दिल्ली सरकार की हर संभव मदद करना चाहती है. अब उसी मदद के दायरे को समझने के लिए मनसुख मंडाविया ये समीक्षा बैठक करने जा रहे हैं. इस बैठक में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण के अधिकारी भी मौजूद रहने वाले हैं, ऐसे में एक बड़े स्तर पर समीक्षा बैठक को आयोजित किया जा रहा है.

दिल्ली में रिकॉर्ड उछाल, बेड की कमी

दिल्ली की डेंगू स्थिति की बात करें तो इस साल राजधानी में 1000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं. इसमें भी इस महीने के 23 दिनों के अंदर डेंगू के 665 मामले दर्ज किए गए. वहीं सिर्फ पिछले हफ्ते की बात करें तो 280 मामले सामने आ चुके हैं. ऐसे में डेंगू तेजी से लोगों को अपना शिकार बना रहा है. अस्पताल में भी मरीजों की संख्या बढ़ती दिख रही है. इन्हीं परिस्थितियों को समझते हुए दिल्ली सरकार ने अब कोविड आरक्षित बिस्तरों को भी डेंगू मरीज के इलाज में इस्तेमाल करने की मंजूरी दे दी है. इसके अलावा भी दूसरे अस्पतालों में बेड बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है. हाल ही में 1000 डेंगू मरीजों को रामलीला मैदान में बनाए गए कोविड सेंटर में शिफ्ट किया गया था. ऐसे में सरकार बेड जरूर बढ़ा रही है, अस्पताल में सुविधाएं भी दे रही है, लेकिन मामले अभी भी बढ़ते ही जा रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें