scorecardresearch
 

ऑड-ईवन के दौरान अपने मंत्री की गाड़ी शेयर करेंगे अरविंद केजरीवाल

दिल्ली में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर है. रविवार को कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 1200 के पार पहुंच गया. इस मुद्दे को लेकर आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (ANI) दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (ANI)

  • अरविंद केजरीवाल- मैं ऑड ईवन का पालन करूंगा
  • अरविंद केजरीवाल- हम राजनीति नहीं करना चाहते

दिल्ली में वायु प्रदूषण खतरनाक स्तर पर है. रविवार को कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) 1200 के पार पहुंच गया. इस मुद्दे को लेकर आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. दिल्ली में प्रदूषण रोकने के लिए सरकार ने क्या कदम उठाए हैं, इसे लेकर उन्होंने कई बाते कहीं. केजरीवाल ने बताया कि ऑड-ईवन का पालन करने के लिए वह अपने मंत्री के साथ गाड़ी शेयर करेंगे. उन्होंने कहा, "कल से आड इवन शुरू कर रहे हैं. सुबह 8 से शाम 8 तक इसका पालन करें. अपने लिए, अपने बच्चों के लिए, दिल्ली के दो करोड़ परिवार के लिए इसका पालन करें, मेरे लिए नहीं. मैं भी इसका पालन करूंगा. मेरे मंत्री और अधिकारी भी पालन करेंगे. मैं अपने मंत्री के साथ दफ्तर जाऊंगा. आप भी अपने दोस्तों के साथ जाइए."  

उन्होंने आगे कहा, "मैं स्कूल के बच्चों के जरिए मास्क भेज रहा हूं. जिस दिन जरूरत हो पहन लें. मैं आप लोगों की सेहत को लेकर बेहद चिंतित हूं. मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं आपकी आपके परिवार की सेहत अच्छी रहे. कुछ दिनों की बात है, आइए हम सब मिलकर इसका सामना करें." सीएम केजरीवाल ने आगे कहा, "अक्टूबर के दूसरे सप्ताह तक दिल्ली की हवा साफ थी. बीस दिन पहले की तस्वीरों में आसमान साफ दिख रहा है. दिल्ली में बीस दिन में न तो एक करोड़ गाड़ियां खरीदी गई और न ही दस लाख इंडस्ट्री लगी. साफ है पराली की वजह से प्रदूषण है."

साहित्य आजतक में रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें

केजरीवाल ने कहा कि हरियाणा से यूपी जाने के लिए ट्रक दिल्ली के अंदर आते थें. अब ऐसा नहीं होता. इससे प्रदूषण कम हुआ. दिल्ली में इंडस्ट्री में प्रदूषण वाले तेल इस्तेमाल होता था. जिसे सब्सिडी देकर हमने बदल दिया. अब इंडस्ट्री सीएनजी आधारित हो गई हैं.

साहित्य आजतक की पूरी कवरेज यहां देखें

ब्लेम गेम पर बोले अरविंद केजरीवाल

वहीं प्रदूषण के मुद्दे पर ब्लेम गेम के आरोपों को लेकर सीएम ने कहा, "हम ब्लेम गेम क्यों करेंगे? सारी एजेंसी बता रही हैं कि फसलों का धुंआ है. इसमें कोई संदेह नहीं है. हमें समझना पड़ेगा कि बीमारी कहां है. हम किसी को ब्लेम नहीं कर रहे, हम कह रहे हैं कि सारे लोग साथ आइए और इसका समाधान निकालते हैं. हम राजनीति नहीं करना चाहते हैं. लेकिन यह हमारे लोगों की सेहत का मसला है, इसलिए चुप नहीं बैठ सकतें."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें