scorecardresearch
 

साबित हुए कपिल के आरोप तो केजरीवाल ही नहीं, पार्टी और सरकार भी डूबेगी!

न सिर्फ खुद केजरीवाल बल्कि दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी के लिए भी एक बड़ा और अभूतपूर्व संकट है. यानी आरोप साबित हुए तो ये न सिर्फ केजरीवाल बल्कि उनकी सरकार और पार्टी के अस्तित्व पर भी सवाल खड़े कर देंगे.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल

मंत्रीपद से हटाए जाने के बाद आम आदमी पार्टी के विधायक कपिल मिश्रा ने बड़ा खुलासा किया है. मिश्रा ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन से 2 करोड़ रुपए लेने का आरोप लगाया है. आम आदमी पार्टी के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब अरविंद केजरीवाल पर सीधे इतना गंभीर आरोप लगा हो. अरविंद केजरीवाल भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाला चेहरा माने जाते हैं. ऐसे में उनपर लगा ये आरोप न सिर्फ खुद केजरीवाल बल्कि दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी के लिए भी एक बड़ा और अभूतपूर्व संकट है. यानी आरोप साबित हुए तो ये न सिर्फ केजरीवाल बल्कि उनकी सरकार और पार्टी के अस्तित्व पर भी सवाल खड़े कर देंगे.

सत्येंद्र जैन पर भ्रष्टाचार का आरोप
एमसीडी चुनावों से ठीक पहले सीबीआई ने दिल्ली के स्वास्थय मंत्री सत्येंद्र जैन के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में प्राथमिक जांच दर्ज कर ली थी. सत्येंद्र जैन पर हवाला काबोरियों के साथ सीधे संपर्क का भी आरोप था. आयकर विभाग ने दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के हवाला कारोबियों से संबंधों के सबूत मिलने का दावा किया था. जैन पर अपनी बेटी की गलत तरीके से नियुक्ति का भी आरोप लगा.

CD कांड का आरोप
सत्येंद्र से पहले केजरीवाल के मंत्री संदीप कुमार पर रेप का आरोप लगा. उनकी एक आपत्तिजनक सीडी सामने आई. जिसके बाद पार्टी को उन्हें मंत्रीपद से हटाना पड़ा. संदीप कुमार से पहले जितेंद्र तोमर फर्जी डिग्री कांड में फंसे और उन्हें भी पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया.

वक्फ बोर्ड मामला
ओखला से विधायक अमानतुल्ला खां पर वक्फ बोर्ड में अनियमितताओं के आरोप लगे. पिछले साल तत्कालीन उप राज्यपाल नजीब जंग ने दिल्ली वक्फ बोर्ड को भंग कर दिया. साथ ही आरोपों की जांच के लिए मामला सीबीआई को सौंप दिया.

इनके अलावा आम आदमी पार्टी के दूसरे कई नेताओं पर भी आरोप लगते रहे हैं. वहीं पार्टी फंडिंग को लेकर भी आम आदमी पार्टी पर सवाल उठते रहे हैं. लेकिन अरविंद केजरीवाल पर पार्टी के इतिहास में कोई आरोप नहीं लगा था. विपक्ष की तरफ से जरूर उन पर सरकार के पैसों का दुरूपयोग करने जैसे आरोप लगते रहे हैं, लेकिन व्यक्तिगत तौर पर केजरीवाल को लेकर कोई आरोप सामने नहीं आया. ऐसे में भ्रष्टाचार के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन से खड़ी हुई पार्टी के सबसे बड़े चेहरे पर अपने ही विधायक के ये गंभीर आरोप 'आप' के अस्तित्व पर भी सवाल खड़े करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें