scorecardresearch
 

कोरोना वायरसः दिल्ली में वैक्सीनेशन के लिए क्या है तैयारी? पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट ने बताया

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं. 14 दिसंबर को दिल्ली में वैक्सीनेशन से जुड़े स्वास्थ्यकर्मियों की एक दिन की ट्रेनिंग होगी.

प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडिया टुडे) प्रतीकात्मक तस्वीर (इंडिया टुडे)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वैक्सीनेशन के लिए ट्रेनिंग आज
  • दिल्ली में बने 609 कोल्ड चेन
  • वैक्सीनेशन करेंगे 3500 स्वास्थ्यकर्मी

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए वैक्सीन का इंतजार है. वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां भी शुरू हो गई हैं. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं. 14 दिसंबर को दिल्ली में वैक्सीनेशन से जुड़े स्वास्थ्यकर्मियों की एक दिन की ट्रेनिंग होगी. दिल्ली में कोरोना वायरस वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज की डॉक्टर सुनीला गर्ग को पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट नियुक्त किया गया है.

डॉक्टर सुनीला गर्ग मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज के डिपार्टमेंट ऑफ कम्युनिटी मेडिसिन की डायरेक्टर भी हैं. वैक्सीनेशन की तैयारियों को लेकर डॉक्टर गर्ग ने कहा है कि दिल्ली में लगभग 609 कोल्ड चेन प्वाइंट्स को चिह्नित किया गया है. कोल्ड चेन प्वाइंट्स में बड़े अस्पतालों जैसे राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, लोकनायक अस्पताल, कस्तूरबा अस्पताल, बाबासाहेब आंबेडकर अस्पताल, जीटीबी अस्पताल से लेकर अर्बन पब्लिक हेल्थ सेंटर और मोहल्ला क्लीनिक को भी शामिल किया गया है.

वैक्सीनेशन प्रोग्राम की पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट डॉक्टर सुनीला गर्ग ने कहा कि वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए राजधानी में करीब 3500 स्वास्थ्य कर्मचारियों को चिह्नित किया गया है. इनमें से 1800 कर्मचारी कोल्ड चेन प्वाइंट्स पर तैनात रहेंगे. हर कोल्ड स्टोरेज फैसिलिटी पर टीका लगाने के लिए स्वास्थ्य कर्मी भी तैनात होंगे. सभी 3500 स्वास्थ्य कर्मियों में से करीब 600 स्वास्थ्यकर्मी प्राइवेट सेक्टर के होंगे.

डॉक्टर गर्ग ने कहा कि कोल्ड चेन प्वाइंट्स की मॉनिटरिंग के लिए 600 मेडिकल ऑफिसर्स को प्रशिक्षित किया जाएगा. वैक्सीन की स्टोरेज को लेकर उन्होंने कहा कि इसके लिए डीप फ्रीज़र, रेफ्रिजरेटर, वॉकिंग कूलर, वैक्सीन कैरियर, थर्माकोल कैरियर जैसे उपकरणों की पर्याप्त उपलब्धता है. ट्रेनिंग से जुड़े प्लान को लेकर डॉक्टर गर्ग ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों की ट्रेनिंग के लिए एक खास प्लान बनाया गया है. ट्रेनिंग के दौरान वैक्सीन के संबंध में जानकारी देने से लेकर वैक्सीन लगाने तक के संबंध में जानकारी दी जाएगी. ट्रेनिंग में सभी कर्मचारियों को 'CoWin सॉफ्टवेयर' के बारे में भी बताया जाएगा कि कोरोना से जंग कैसे जीतनी है.

ट्रेनिंग में दी जाएंगी ये जानकारियां

डॉक्टर गर्ग ने कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों को ट्रेनिंग के दौरान दी जाने वाली वैक्सीन की मॉनिटरिंग के बारे में बताया जाएगा और वैक्सीन से जुड़ी भ्रांतियों को लेकर भी चर्चा की जाएगी. उन्होंने बताया कि इम्यूनाइजेशन विभाग से जुड़े हुए सभी वरिष्ठ अधिकारियों और टेक्निकल सपोर्ट से जुड़े अधिकारियों को केंद्र सरकार की ओर से प्रशिक्षण दिया जा चुका है. वैक्सीनेशन प्रोग्राम के लिए स्वास्थ्य विभाग के अलावा अलग-अलग मंत्रालयों, नगर निगम, पंचायती राज, अर्बन मिनिस्टर बॉडी और अन्य विभागों के साथ भी सामंजस्य स्थापित कर कार्य किया जाएगा.

पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों का वैक्सीनेशन

आपको बता दें कि देश और दिल्ली में वैक्सीनेशन के पहले चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन दी जाएगी. दिल्ली में लगभग 1 लाख 80 हजार स्वास्थ्य कर्मचारियों का वैक्सीनेशन किया जाएगा. इनमें से करीब 1 लाख स्वास्थ्य कर्मचारी सरकारी सेक्टर और करीब 80000 स्वास्थ्यकर्मी प्राइवेट सेक्टर के हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×