scorecardresearch
 

दिल्ली: कोरोना से पति की मौत के बाद 791 महिलाएं हुईं बेसहारा, मदद देगी केजरीवाल सरकार

दिल्ली महिला आयोग ने कोरोना महामारी में अपने पति को खोने वाली 791 महिलाओं को चिन्हित किया है और रिपोर्ट सौंपी है. सीएम केजरीवाल ने ऐसे सभी परिवारों को सहायता देने के लिए मुख्यमंत्री कोविड-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना की घोषणा की है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (तस्वीर-PTI) दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (तस्वीर-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 791 विधवाओं की सूची तैयार
  • दिल्ली सरकार देगी आर्थिक मदद
  • दिल्ली महिला आयोग ने किया सर्वे

दिल्ली महिला आयोग ने कोरोना महामारी में अपने पति को खोने वाली महिलाओं की एक सूची तैयार की है. यह सूची दिल्ली सरकार को सौंपी गई है, जिससे इन्हें मुख्यमंत्री कोविड-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना का लाभ मिल सके. आयोग की महिला पंचायत टीम ने जगह-जगह घूमकर 791 महिलाओं को चिन्हित किया है, जिन्हें वित्तीय मदद की जरूरत है.

कोरोना महामारी की खतरनाक दूसरी लहर में कई परिवारों ने अपनों को खोया है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, ने ऐसे सभी परिवारों को सहायता देने के लिए मुख्यमंत्री कोविड-19 परिवार आर्थिक सहायता योजना की घोषणा की है.

दिल्ली महिला आयोग ने ग्राउंड महिला पंचायतों के जरिए पूरे दिल्ली में जगह-जगह घूमकर ऐसी महिलाओं को चिन्हित किया, जो कोरोना महामारी की वजह से विधवा हुईं. दिल्ली महिला आयोग ने अभी तक ऐसी 791 महिलाओं को चिन्हित किया है, साथ ही उनका सोशल सर्वे भी किया है. 

स्टॉकिंग के बढ़ते मामले पर सख्त दिल्ली महिला आयोग, पुलिस को भेजा नोटिस 

97.85% महिलाओं के सिर पर बच्चों की जिम्मेदारी

महिला आयोग के मुताबिक चिन्हित की गई 791 महिलाओं में से 774 महिलाओं (97.85%) के बच्चे हैं. 360 महिलाओं के 3 से 5 बच्चे हैं तो वहीं 30 महिलाओं के 5 से अधिक बच्चे हैं. चिन्हित महिलाओं में से 734 महिलाएं (92.79%) 18-60 वर्ष की आयु के बीच हैं तो बाकी सीनियर सिटिजन हैं. 191 महिलाएं 18-35 वर्ष की आयु के बीच की हैं.

28.57 फीसदी महिलाओं के पास आय का कोई साधन नहीं

चिन्हित 971 महिलाओं में से 721 महिलाएं हाउसवाइफ हैं तो वहीं बाकी बची महिलाएं घरेलू सहायिका, लेबर, छोटे बिजनेस, प्राइवेट और सरकारी जॉब में कार्यरत हैं. चिन्हित की गई महिलाओं में से 28.57 फीसदी महिलाओं के पास कोई आय का स्रोत नहीं है, तो वहीं लगभग 60 फीसदी महिलाओं की मासिक आय 15,000 या उससे कम है.

597 विधवाओं को नहीं लगी है वैक्सीन

सर्वे में भी यह भी बात सामने आई कि चिन्हित महिलाओं में से 597 महिलाओं ने अब तक वैक्सीन भी नहीं लगवाई है. इन महिलाओं को वैक्सीन लगवाना बेहद जरूरी है इसके लिए दिल्ली महिला आयोग ने सरकार को जिलाधिकारियों को ऑर्डर कर इन सब महिलाओं की जल्द से जल्द वैक्सिनेशन करवाने की भी सलाह दी है.

संबंधित विभाग को महिला आयोग ने भेजी रिपोर्ट

दिल्ली सरकार की महत्वाकांक्षी योजना इन सब महिलाओं की सहायता करने में मददगार साबित होगी. महिला आयोग द्वारा चिन्हित महिलाओं का सोशल सर्वे, इन महिलाओं के पुनर्वास में काम आ सकता है. सरकारी योजनाओं तक महिलाओं की पहुंच का रास्ता भी साफ हो सकता है. दिल्ली महिला आयोग ऐसी और विधवा महिलाओं को ढूंढने की प्रक्रिया में है, जिन्होंने अपने पति को करोना महामारी के द्वारा खोया है. दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने ये सोशल सर्वे रिपोर्ट महिला बल विकास मंत्रालय और समाजिक कल्याण विभाग को भेजी है.

महिला आयोग ने ऐसे कराया सर्वे

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा, 'अरविंद केजरीवाल द्वारा शुरू की गई ये योजना एक अच्छी पहल है. कोरोना महामारी में कई परिवारों ने अपनों को खोया है. हमने अपनी महिला पंचायत टीमों को मोहल्ला-मोहल्ला भेज 791 ऐसी महिलाओं को चिन्हित किया जो कोरोना के चलते विधवा हुईं. हम सरकार को इन सब महिलाओं की सोशल सर्वे रिपोर्ट भी सौंप रहे हैं, जिससे सरकार को इन महिलाओं तक इस स्कीम का लाभ पहुंचाने में आसानी हो. इन महिलाओं का वैक्सिनेशन प्राथमिकता से होना चाहिए.'
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें