scorecardresearch
 

दिल्लीः 8 हजार के करीब कोरोना केस, सरकारी-निजी अस्पतालों में बेड बढ़ाने के आदेश

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए दिल्ली सरकार ने राजधानी के सभी अस्पतालों के प्रमुखों को आदेश दिया है कि अस्पताल किसी मरीज को 10 मिनट से ज्यादा इंतजार ना कराए. साथ ही निजी अस्पतालों को 50% कोरोना मरीजों के लिए बेड रिजर्व करने को कहा गया है.

दिल्ली में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले (सांकेतिक-पीटीआई) दिल्ली में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले (सांकेतिक-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली में कोरोना के 7,437 नए मामले सामने आए
  • मरीज को 10 मिनट से ज्यादा इंतजार नहीं कराने का आदेश
  • 50% बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करें अस्पताल

राजधानी दिल्ली में भी कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. पिछले 24 घंटे में दिल्ली में कोरोना के 7,437 नए मामले सामने आए जबकि इस दौरान 24 मरीजों की मौत हो गई. दिल्ली के प्रतिष्ठित सर गंगाराम अस्पताल के 37 डॉक्टर भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं और इन सभी ने वैक्सीन लगवा रखी थी. 

दिल्ली में इस समय 23,181 एक्टिव केस हैं जबकि अब तक 6,98,005 मामले सामने आ चुके हैं. इस दौरान यहां पर 91,770 टेस्ट कराए गए. दिल्ली में जहां बेड की बात है तो 8,813 उपलब्ध बेड्स में से अभी 4,212 बेड का इस्तेमाल हो रहा है जबकि 4,601 बेड अभी खाली हैं. दिल्ली में 4,226 कंटेनमेंट जोन हैं.

राजधानी दिल्ली में 19 नवंबर के बाद एक दिन में सबसे ज्यादा नए मामले दर्ज किए गए हैं. पिछले साल 19 नवंबर को 7,546 नए मामले रिपोर्ट हुए थे. आज गुरुवार को 7,437 नए मामले सामने आए.
 
दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए दिल्ली सरकार ने राजधानी के सभी अस्पतालों के प्रमुखों को आदेश दिया है कि अस्पताल किसी मरीज को 10 मिनट से ज्यादा इंतजार ना कराएं. 

निजी अस्पतालों को 50% बेड रिजर्व का आदेश 
दूसरी ओर, दिल्ली के प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए बेड की किल्लत दूर करने के लिए दिल्ली सरकार ने नया आदेश जारी किया है. सरकार की ओर से जारी आदेश में 115 प्राइवेट अस्पतालों में कुल ICU और साधारण बेड्स की क्षमता का 50% कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने को कहा गया है. 

साथ ही इन अस्पतालों को यह छूट दी गई है कि वह अस्थाई रूप से अपने कुल बेड क्षमता का 25% बढ़ा सकते हैं, लेकिन बढ़ाई गई क्षमता के बेड्स पर कोरोना मरीजों का ही इलाज होगा. ये 115 वे अस्पताल हैं जिनमें 50 या इससे ज्यादा बेड्स हैं. 9 दिन के भीतर दिल्ली सरकार ने तीसरी बार प्राइवेट अस्पतालों में बेड्स बढ़ाने के लिए आदेश जारी किए हैं.

2 सरकारी अस्पतालों में बढ़े बेड्स
कोरोना के इलाज में लगे दिल्ली सरकार के 2 बड़े कोरोना हॉस्पिटल में भी बेड्स की संख्या बढ़ाने के आदेश जारी किए गए हैं. आदेश के मुताबिक दिल्ली के लोकनायक अस्पताल और GTB अस्पताल में कोविड बेड्स बढ़ाए गए हैं.

लोकनायक अस्पताल में मौजूदा 1000 कोविड बेड्स की संख्या बढ़ाकर 1500 कर दिया गया है जबकि GTB हॉस्पिटल में मौजूदा 500 बेड्स की संख्या को बढ़ाकर 1000 कर दिया गया है. ये आदेश तत्काल प्रभाव से लागू हो गया.

डेंटल-आयुष कैडर के डॉक्टर्स की तैनाती 
इससे पहले दिल्ली सरकार ने 31 जनवरी को 33 बड़े प्राइवेट अस्पतालों में  ICU और बेड्स की संख्या बढ़ाने के आदेश दिए थे. 5 अप्रैल को 54 बड़े प्राइवेट अस्पतालों में आईसीयू और बेड्स बढ़ाने के आदेश दिए गए थे. जिसके बाद अब 115 बड़े और मध्यम स्तर के हॉस्पिटल में आईसीयू और बेड बढ़ाने के आदेश जारी किए गए हैं.

दिल्ली में एक बार फिर कोरोना मरीजों के ट्रीटमेंट के लिए डेंटल और आयुष कैडर के डॉक्टर्स तैनात होंगे. दिल्ली सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि डेंटल और आयुष कैडर के डॉक्टर्स को भी कोरोना ड्यूटी के लिए कोविड अस्पतालों में तैनात किया जाए. सभी कोविड अस्पतालों के MD/MS/डायरेक्टर्स को जरूरत के अनुसार मेडिकल स्टाफ की तैनाती के निर्देश दिए गए हैं.

इस बीच दिल्ली में नाइट कर्फ्यू ई-पास के लिए अब तक 1 लाख 15 हजार से ज्यादा लोगों (1,15,797) ने अप्लाई किया है. हालांकि 84 हजार से ज्यादा एप्लिकेशन (84,471) रिजेक्ट हो गए और महज 11 हजार से ज्यादा आवेदन को अप्रूवल मिला है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें