scorecardresearch
 

तीस हजारी कोर्ट मामले में सुर्खी बना यह ASI, कई लोगों की बचा चुका है जान

एएसआई पवन कुमार ने ही दिल्ली के गीता कॉलोनी इलाके में स्थित एक स्कूल में आग की चपेट में आए सैकड़ों बच्चों को 40 टीचर और गार्ड की मदद से खुले मैदान में सुरक्षित खड़ा किया था.

पुलिस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते वकील (फाइल फोटो-ANI) पुलिस के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करते वकील (फाइल फोटो-ANI)

  • दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट के बाहर पुलिस और वकीलों में हुई थी झड़प
  • हिंसक झड़प को लेकर कई केस दर्ज, दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचा मामला

दिल्ली पुलिस के पवन कुमार नामक जिस असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर (एएसआई) पर तीस हजारी कोर्ट में वकील पर गोली चलाने का आरोप लगा है, उसका नाम दिल्ली पुलिस के जांबाज व कर्मठ पुलिसकर्मियों में शुमार है. यह पुलिसकर्मी वही पवन कुमार है जिसने दिल्ली के खिचड़ीपुर इलाके में खुदकुशी के इरादे से हिंडन नदी में कूदी एक महिला की जान बचाई और उसे सुरक्षित नदी से बाहर निकाला था. एएसआई पवन ने ही दिल्ली के गीता कॉलोनी इलाके में स्थित एक स्कूल में आग की चपेट में आए सैकड़ों बच्चों को 40 टीचर और गार्ड की मदद से खुले मैदान में सुरक्षित खड़ा किया था. इतना ही नहीं, एएसआई पवन के नाम अन्य कई असाधारण कार्य दर्ज हैं.

बता दें, उत्तरी दिल्ली जिले में स्थित तीस हजारी कोर्ट में वकीलों और पुलिस के बीच हाल में जमकर मारपीट हुई थी. दोनों पक्षों में तू-तू मैं-मैं से शुरू हुई बात मारपीट तक पहुंच गई. झगड़ा दो-तीन वकीलों और कुछ पुलिसकर्मियों के बीच था. बाद में दोनो पक्षों की ओर से और लोग घटनास्थल पर पहुंच गए और मामला काफी आगे बढ़ गया. दोनों पक्षों की मारपीट का यह मसला फिलहाल दिल्ली हाईकोर्ट में है. हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच मौजूदा गतिरोध को सुलझाने के लिए सर्वश्रेष्ठ अधिकारियों की मदद ली जानी चाहिए. अदालत ने इस मामले की सुनवाई अगले साल 12 फरवरी तक टाल दी है.

उधर, दिल्ली पुलिस ने तीस हजारी कोर्ट मामले में आम जनता से मदद मांगी है. दिल्ली पुलिस की एसआईटी ने लोगों से अपील की है कि घटना का कोई भी चश्मदीद हो वो सामने आए. एसआईटी की अपील के मुताबिक, जो भी घटना के बारे में जानता है वो सामने आकर बयान दर्ज कराए और अपने मजबूत सबूत 7 दिन के अंदर SIT को सौंपे. बता दें कि दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच हिंसक झड़प का मामला इतना बढ़ा गया था कि पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी थी. वहीं गुस्साए वकीलों ने पुलिस जीप के अलावा कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया. वकीलों ने कोर्ट परिसर में खड़ी गाड़ियों में तोड़फोड़ भी की. इस झड़प में वकीलों ने कई पुलिस वालों के साथ भी मारपीट की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें