scorecardresearch
 

केजरीवाल सरकार ने MCD को दिए 938 करोड़, सिसोदिया बोले- बीजेपी ने दिवालिया कर दिया

मनीष सिसोदिया ने कहा कि बीजेपी की केंद्र सरकार देशभर के नगर निगमों को पैसा देती है, लेकिन केवल और केवल दिल्ली नगर निगम को जहां पर बीजेपी की सरकार है, भारतीय जनता पार्टी की केंद्र सरकार पैसा नहीं दे रही. केंद्र को 11,500 करोड़ रुपये नगर निगम को देने हैं, लेकिन उसका कहना है कि उनको पैसे नहीं दे सकते.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बीजेपी पर हमला बोला (फाइल-पीटीआई) दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बीजेपी पर हमला बोला (फाइल-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'पूर्वी दिल्ली नगर निगम के खाते में महज 99 लाख रुपये'
  • '14 सालों में BJP के लोगों ने नगर निगम को चूस लिया'
  • बीजेपी से अनुरोध कि इस पैसे से तनख्वाह दे दें- सिसोदिया

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के आदेश पर 938 करोड़ रुपये एमसीडी को सैलरी के लिए दिए जा रहे हैं. हालांकि उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि पूर्वी और उत्तरी नगर निगम को पूरी तरह से दिवालिया कर दिया गया है. नगर निगम की ओर से कहा गया कि जो भेजा वो थोड़ा है.

मनीष सिसोदिया ने कहा कि उत्तरी नगर निगम के खाते में केवल 12 करोड़ रुपये हैं, जबकि पूर्वी दिल्ली नगर निगम के अकाउंट में केवल 99 लाख रुपये हैं यानि एक करोड़ भी नहीं है. उन्होंने कहा कि इनके ऊपर दिल्ली सरकार का 6,276 करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने इन नगर निगमों को पूरी तरह से दिवालिया कर दिया है.

'बीजेपी ने नगर निगम को चूस लिया'
बीजेपी पर नगर निगम को दिवालिया बनाए जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि 14 साल पहले बीजेपी नगर निगम में आई थी और इन 14 सालों में इन लोगों ने पूरी तरह से नगर निगम को चूस लिया है. 

उन्होंने कहा कि बीजेपी ने आज नगर निगम को इस लायक भी नहीं छोड़ा कि वह अपने कर्मचारियों को तनख्वाह दे सके. आज नगर निगम के कर्मचारी चाहे सफाई कर्मचारी हों, टीचर हों या बाकी स्टाफ हों तनख्वाह के लिए तरस रहे हैं.

सिसोदिया ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने 14 सालों में भ्रष्टाचार की जो राजनीति की है, देश तो छोड़ दीजिए दुनिया में कहीं देखने को नहीं मिलती. एमसीडी में भ्रष्टाचार है, यह बात हम ही नहीं कह रहे हैं बल्कि बीजेपी के बड़े नेता भी मान रहे हैं.

देखें: आजतक LIVE TV

उन्होंने कहा कि बीजेपी की केंद्र सरकार देशभर के नगर निगमों को पैसा देती है, लेकिन केवल और केवल दिल्ली नगर निगम को जहां पर बीजेपी की सरकार है, भारतीय जनता पार्टी की केंद्र सरकार पैसा नहीं दे रही. केंद्र को 11,500 करोड़ रुपये नगर निगम को देने हैं, लेकिन उसका कहना है कि उनको पैसे नहीं दे सकते क्योंकि उनको यह पता है नगर निगम में बीजेपी के लोग जो बैठे हैं वह सारा पैसा खा जाएंगे. बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व भी मानता है कि बीजेपी ने 14 साल में नगर निगम का सारा पैसा खा लिया है. 

'तनख्वाह देने में ही खर्च करें पैसा'
दिल्ली सरकार के फैसले पर सिसोदिया ने कहा कि सवाल यह है कि जो कर्मचारी हैं जिन्हें तनख्वाह नहीं मिल रही, चूल्हे नहीं जल रहे, वे हमारे ही लोग हैं. मुख्यमंत्री का कहना है कि इनका दुख नहीं देता देखा जाता. सीएम केजरीवाल ने आदेश दिया कि कहीं से कुछ इनके लिए निकालें. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार के पास भी पैसा नहीं है और यह अपने रेवन्यू कलेक्शन के 50% पर चल रही है. बहुत सारी योजनाएं भी बजट के चलते रोक रखी है. दिल्ली सरकार का भी बड़ी मुश्किल से काम चल रहा है. 

उन्होंने कहा कि आज इनको 938 करोड़ रुपये दे रहे हैं. बड़ी मुश्किल से ये पैसा निकाला है. बीजेपी के लोगों से अनुरोध है कि उस पैसे से कर्मचारियों की तनख्वाह दे देना. उन्होंने कहा कि एक साल की बात है जब निगमों में आम आदमी पार्टी की सरकार आ जाएगी. दिल्ली सरकार ने जिस तरह से काम किया है वैसे ही नगर निगम में आने पर बजट बढ़ेगा और ईमानदारी से काम होगा तो फिर यह दिन नहीं देखने पड़ेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें