scorecardresearch
 

दिल्लीः 24 घंटे नल से साफ पानी देने की योजना, जानें- आपके घर कब तक पहुंचेगी पाइप लाइन

दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों ने समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री केजरीवाल को बताया कि दिल्ली के लोगों को नल से 24 घंटे साफ पानी की आपूर्ति करने की परियोजना और इसके साथ ही भविष्य में पानी की बढ़ती मांग के अनुसार जलापूर्ति की क्षमता बढ़ाने वाली परियोजनाओं पर भी युद्ध स्तर पर काम चल रहा है.

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अफसरों को समय से काम पूरा करने का निर्देश दिया (फाइल-PTI) मुख्यमंत्री केजरीवाल ने अफसरों को समय से काम पूरा करने का निर्देश दिया (फाइल-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली की कुल 1799 कॉलोनियों में से 1622 में पानी पहुंचा
  • राजधानी में 2031 तक 1,500 MGD पानी की जरूरत
  • मार्च 2022 तक सभी कॉलोनियों में पानी पहुंचाने का लक्ष्य

दिल्ली वालों को 24 घंटे नल से साफ पानी मिल सके, ऐसी ही एक परियोजना को लेकर केजरीवाल सरकार पाइप लाइन बिछाने का काम कर रही है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को दिल्ली जल बोर्ड के आला अधिकारियों के साथ इन परियोजनाओं पर समीक्षा बैठक की.

मुख्यमंत्री आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक करते हुए अरविंद केजरीवाल ने अधिकारियों को सभी परियोजनाओं को निर्धारित समय सीमा में पूरा करने का निर्देश दिया है. बैठक में दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि दिल्ली को 2031 तक करीब 1500 एमजीडी पानी की जरूरत पड़ेगी. दिल्ली की कॉलोनियों में पानी की आपूर्ति पाइप लाइन से पहुंचाने का काम जारी है. अभी तक 1799 कॉलोनियों में से 1622 में पाइप लाइन बिछाई जा चुकी हैं.

अधिकारियों ने बताया कि अगले कुछ महीने में इन कॉलोनियों में पाइप लाइन से साफ पानी की आपूर्ति शुरू हो जाएगी. इसके अलावा, 113 कॉलोनियों को छोड़कर बाकी में मार्च 2022 तक पानी की पाइप लाइन पहुंच जाएगी.

युद्ध स्तर पर काम जारी

समीक्षा बैठक में दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री केजरीवाल को बताया कि दिल्ली के लोगों को नल से 24 घंटे साफ पानी की आपूर्ति करने की परियोजना और इसके साथ ही भविष्य में पानी की बढ़ती मांग के अनुसार जलापूर्ति की क्षमता बढ़ाने वाली परियोजनाओं पर भी युद्ध स्तर पर काम चल रहा है.

देखें: आजतक LIVE TV

वाटर प्रोजेक्ट के तहत पीपीपी एरिया और संगम विहार कालोनी की कुल 580 कॉलोनियां आती हैं. इसमें 517 कॉलोनियों को पानी के नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है. बाकी कॉलोनी में दिसंबर 2021 तक काम पूरा कर लिया जाएगा. वहीं, दिल्ली में कुल 1799 कच्ची कॉलोनियां हैं. इसमें से पूर्वी दिल्ली में 260 कॉलोनियां हैं, जिसमें से 256 कॉलोनियों को वाटर नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है. बाकी कॉलोनी को डीमार्केशन और एनओसी मिलने के 8 महीने के बाद पूरा कर लिया जाएगा. 

मार्च, 2022 तक का लक्ष्य

जबकि साउथ दिल्ली में 432 कॉलोनी हैं, जिसमें 352 कॉलोनी तक पानी का नेटवर्क पहुंचाया जा चुका है और बाकी को मार्च 2020 तक पूरा कर लिया जाएगा. सेंट्रल दिल्ली और नॉर्थ दिल्ली में कुल 144 कॉलोनी है. जिसमें 138 कॉलोनी को पानी के नेटवर्क से जोड़ा जा चुका है और शेष कॉलोनी में मार्च 2022 तक पानी पहुंचा दिया जाएगा. वेस्ट दिल्ली में 383 कॉलोनी हैं, जिसमें से 359 कॉलोनियों में पानी नेटवर्क पहुंच चुका है और शेष में 31 अक्टूबर 2021 तक पानी पहुंचा दिया जाएगा. 

दिल्ली जल बोर्ड के मुताबिक पूरी दिल्ली में कुल 1799 कॉलोनियों में से 1622 कॉलोनियों में पानी पहुंच चुका है और पानी का नेटवर्क बिछाया जा चुका है. केजरीवाल सरकार ने मार्च 2022 तक दिल्ली की सभी अनाधिकृत और अधिकृत कॉलोनियों में पानी पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें