scorecardresearch
 

AIIMS के शेल्टर होम में कोरोना के 22 मामले, दिल्ली HC ने सभी का टेस्ट कराने का दिया आदेश

दिल्ली हाई कोर्ट ने शेल्टर होम में रह रहे सभी लोगों के कोरोना टेस्ट कराने और उन्हें सभी प्रकार की सुविधा देने का आदेश दिया है. दिल्ली हाई कोर्ट ने इस पूरे मामले में दिल्ली सरकार से स्टेटस रिपोर्ट दायर करने को कहा है.

शेल्टर होम में कोरोना के मामले को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट का आदेश (फाइल फोटो) शेल्टर होम में कोरोना के मामले को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट का आदेश (फाइल फोटो)

  • दिल्ली एम्स के शेल्टर होम में मिले थे कोरोना के 22 मामले
  • कोर्ट ने दिल्ली सरकार से स्टेटस रिपोर्ट दायर करने को कहा

दिल्ली एम्स के शेल्टर होम में कोरोना के 22 पॉजिटिव केस मिलने के मामले में दिल्ली हाई कोर्ट ने शेल्टर होम में रह रहे सभी लोगों के कोरोना टेस्ट कराने और उन्हें सभी प्रकार की सुविधा देने का आदेश दिया है. दिल्ली हाईकोर्ट ने इस पूरे मामले में दिल्ली सरकार से स्टेटस रिपोर्ट दायर करने को कहा है. साथ ही पूरे मामले की वीडियो ग्राफी करने का भी कोर्ट ने आदेश दिया है.

हाईकोर्ट ने कहा कि इस पूरी स्थिति को बेहतर तरीके से हैंडल करने की जरूरत है. सुनवाई के दौरान DUSIB के तरफ से कोर्ट को बताया गया है कि सभी कोरोना पॉजिटिव मरीजों को दिल्ली के 2 अस्पतालों में भर्ती करा दिया गया है.

एलएनजेपी अस्पताल और राजीव गांधी सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में मरीजों को भर्ती कराया गया है, लेकिन इस पर कोर्ट ने गहरी आपत्ति जताते हुए नाराजगी जाहिर की और कहा कि इनको एम्स के ही कोविड फैसिलिटी वार्ड में क्यों नहीं दाखिल कराया गया? मरीज जब इनके ही शेल्टर होम में कोरोना पॉजिटिव पाए गए उनको इतनी दूर क्यों ले जाया गया? जबकि एम्स में कोविड-19 के मरीजों में दाखिल कराया जा सकता था.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

दरअसल, दिल्ली हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई थी. जनहित याचिका में कहा गया था कि एम्स के बाहर शेल्टर होम में रहने वाले उन मरीजों को भी इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाए. कोविड-19 के मद्देनजर देश के अलग-अलग राज्यों से आए इन मरीजों को एम्स में एडमिशन ना मिलने के बाद शेल्टर होम में रहने को मजबूर होना पड़ा था.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

लॉकडाउन के चलते ये लोग अपने राज्य में भी वापस नहीं जा पाए थे. याचिकाकर्ता ने कोर्ट को ये भी बताया कि शेल्टर होम के जिस गार्ड की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है उसकी मां अपने पैतृक गांव जा चुकी है. साथ ही गार्ड की मां की भी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. हाई कोर्ट इस मामले की अगली सुनवाई 27 मई को करेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें