scorecardresearch
 

अपोलो, मैक्स समेत दिल्ली के इन 14 अस्पतालों में अब सिर्फ कोरोना मरीजों का होगा इलाज

राजधानी में तेजी से फैलते कोरोना मामलों के चलते प्राइवेट अस्पतालों में हो रही बेड्स किल्लत का मामला सामने आया है. ऐसे में दिल्ली सरकार ने फैसला लेते हुए यहां के 14 प्राइवेट अस्पतालों को पूरी तरह कोविड हॉस्पिटल घोषित किया है.

दिल्ली में कोविड से हाल बेहाल दिल्ली में कोविड से हाल बेहाल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली में तेजी से बढ़ रहा है कोरोना संक्रमण
  • सीएम ने 14 प्राइवेट अस्पतालों को कोविड अस्पताल बनाने के निर्देश दिए

दिल्ली में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर आप केजरीवाल सरकार काफी एक्टिव हो गयी है. सीएम अरविंद केजरीवाल ने सोमवार सुबह दिल्ली सचिवालय में कोरोना को लेकर आपात बैठक की. इस दौरान उन्होंने सरकारी और निजी अस्पतालों में कोविड बेड़ बढ़ाने के निर्देश दिए. सीएम की अध्यक्षता में हुई बैठक में दिल्ली के कई सरकारी और निजी अस्पतालों को फिर से पूरी तरह से कोविड अस्पताल बनाने का निर्णय लिया गया है. इसके साथ ही केंद्र सरकार के अस्पतालों में भी कोविड बेड बढ़ाने के लिए दिल्ली सरकार संपर्क करेगी. 

राजधानी में तेजी से फैलते कोरोना मामलों के चलते प्राइवेट अस्पतालों में हो रही बेड्स किल्लत का मामला सामने आया है. ऐसे में दिल्ली सरकार ने फैसला लेते हुए यहां के 14 प्राइवेट अस्पतालों को पूरी तरह कोविड हॉस्पिटल घोषित किया है. यानी अब इन अस्पतालों में केवल कोरोना के मरीजों का इलाज होगा. दिल्ली सरकार के मुताबिक इन 14 अस्पतालों में 3202 बेड्स कोरोना मरीज़ों के लिए रिज़र्व होंगे. जबकि ICU बेड्स की संख्या 1135 होगी.

इन अस्पतालों को बनाया गया कोविड हॉस्पिटल- 

1. इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल, सरिता विहार
2. सर गंगा राम हॉस्पिटल
3. होली फैमिली हॉस्पिटल, ओखला
4. महाराजा अग्रसेन, पंजाबी बाग
5. मैक्स हॉस्पिटल, शालीमार बाग
6. फॉर्टिस हॉस्पिटल, शालीमार बाग
7. मैक्स हॉस्पिटल, साकेत
8. वेंकटेश्वर हॉस्पिटल, द्वारका
9. श्री बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट, पश्चिम विहार
10. जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल, रोहिणी
11. माता चानन देवी हॉस्पिटल, जनकपुरी
12. पुष्पावती सिंघानिया हॉस्पिटल, साकेत
13. मणिपाल हॉस्पिटल, द्वारका
14. सरोज सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल

इसके अलावा दिल्ली सरकार ने 19 बड़े प्राइवेट हॉस्पिटलों में 80% ICU बेड्स कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व करने के आदेश दिए हैं. इनमें कुल 765 ICU बेड्स कोरोना मरीजों के लिए होंगे और 82 अन्य प्राइवेट अस्पतालों में 60% ICU बेड्स कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व किए हैं. जिनकी कुल संख्या 633 हैं. वहीं दिल्ली के 4 बड़े सरकारी अस्पतालों को कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल घोषित किया गया है. 

आदेश के मुताबिक- 

- राजीव गांधी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में अब 650 कोविड बेड, 200 वेंटिलेटर बेड और 250 ICU बेड्स होंगे 
- बुराड़ी हॉस्पिटल में अब 450 कोविड बेड, 30 वेंटिलेटर बेड और 20 ICU बेड होंगे
- दीप चंद बंधु अस्पताल में अब 213 कोविड बेड, 14 वेंटिलेटर बेड और 61 ICU बेड होंगे
- अंबेडकर नगर हॉस्पिटल में अब 200 कोविड बेड, 10 ICU बेड होंगे

सीएम केजरीवाल ने कहा कि कोविड मरीजों को किसी भी हालत में अस्पतालों में बेड की किल्लत नहीं होनी चाहिए. कोरोना की यह चौथी लहर पिछली लहर से अधिक खतरनाक है. दिल्ली कोरोना केस के मामले में प्रतिदिन एक नया रिकार्ड बना रहा है. बता दें कि पिछले साल नवंबर महीने में आई पिक के दौरान सरकारी और निजी अस्पतालों में 18 हजार से अधिक कोविड बेड बनाए गए थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें