scorecardresearch
 

छात्रों से मसाज करवाते शि‍क्षक का वीडियो वायरल, CM के निर्देश पर सस्पेंड

छात्रों से यह पूछताछ स्कूल की बजाय इलाके के सामाजिक भवन में हुई. जबकि आरोपी शिक्षक समेत स्टाफ से बातचीत स्कूल परिसर में की गई.

X
छात्रों से मसाज लेते शि‍क्षक छात्रों से मसाज लेते शि‍क्षक

छत्तीसगढ़ के जशपुर में छात्रों से मसाज करवाते एक शिक्षक का वीडियो वायरल हो गया है. मामला सुर्ख‍ियों में आने के बाद राज्य बाल आयोग भी हरकत में है. आयोग की पांच सदस्यी टीम ने आरोपी शिक्षक अनूप मिंज और स्कूल के प्रिंसिपल समेत सहायक शिक्षकों से बुधवार को मुलाकात की है. इस टीम ने उन छात्रों से भी पूछताछ की जिन्होंने शि‍क्षक की मसाज की थी. जबकि आरोपी शिक्षक को मुख्यमंत्री ने निल‍ंबित करने के निर्देश दिए हैं.

छात्रों से यह पूछताछ स्कूल की बजाय इलाके के सामाजिक भवन में हुई. जबकि आरोपी शिक्षक समेत स्टाफ से बातचीत स्कूल परिसर में की गई. बाल आयोग ने अभी अपनी रिपोर्ट तैयार नहीं की है. बताया जा रहा है कि आरोपी शिक्षक ने बाल आयोग के सामने छात्रों से मसाज करवाए जाने की बात कबूल की है, लेकिन वो इस बात पर अड़े रहे कि इस दौरान वह बुरी तरह से बीमार थे.

आयोग ने मांगा डॉक्टर का पर्चा
आयोग ने जब शि‍क्षक की बिमारी संबंधी डॉक्टरी पर्चे की मांग की, तो शिक्षक उस समय तक दस्तावेज उपलब्ध नहीं करवा पाया था. अलबत्ता वो कुछ दवाइयां लेकर स्कूल जरूर पहुंचे. दूसरी ओर, प्रदेश के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने राज्य के शिक्षकों को छात्रों से शालीनता के साथ पेश आने की हिदायत दी है. उन्होंने कहा कि नए शिक्षक इस पेशे का सम्मान बरकरार रखें, तभी गुरु और शिष्य की परंपरा सम्मानजनक नजर आएगी. मुख्यमंत्री ने मसाज कराए जाने के मामले को बेहद गंभीरता से लिया है. सीएम ने उन्होंने आरोपी शिक्षक को तत्काल संस्पेंड करने और उसके खिलाफ आपराधिक प्रकरण भी दर्ज करने के निर्देश दिए है.

'आज तक' पर खबर दिखाने के बाद कार्रवाई
सरकार ने इस मामले को लेकर शिक्षा विभाग से भी रिपोर्ट मांगी है. स्कूल से शिक्षा विभाग ने पूछा है कि लगभग दो हफ्ते से यह वीडियो वायरल हो रहा था. ऐसे में इस बात से विभाग क्यों बेखबर था. मुख्यमंत्री रमन सिंह ने 'आज तक' पर खबर दिखाए जाने के बाद फौरन शिक्षा सचिव को तलब किया और दो दिन के भीतर मामले की विस्तृत रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए.

शि‍क्षा अधि‍कारी के दफ्तर में किया गया अटैच
दूसरी ओर, मुख्यमंत्री के निर्देश पर अमल करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी ने अपने विभाग अध्यक्ष को रिपोर्ट सौंप दी है. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि इस तरह की घटनाएं समाज को कलंकित करने वाली हैं. उन्होंने कहा, 'वो व्यक्ति विकृत मानसिकता का प्रतीक है. बच्चे शिक्षक को अपने मां-बाप से ज्यादा सम्मान देते हैं. फिलहाल निलंबित शिक्षक अनूप मिंज को जांच होने तक जिला शिक्षा अधिकारी के दफ्तर में अटैच किया गया है. उनके स्थान पर अंग्रेजी विषय के एक दूसरे शिक्षक को स्थानांतरित किया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें