scorecardresearch
 

चार्जशीट में खुलासा- मुजफ्फरपुर बालिका गृह में ऑपरेशन थिएटर, जबरन कराया जाता था गर्भपात

मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में 34 लड़कियों के साथ बलात्कार मामले में सीबीआई ने रविवार को एक प्राथमिकी दर्ज की.  वहीं 12 सदस्यों की टीम मुजफ्फरपुर में कैंप कर रही है. सीबीआई की टीम ने रविवार को बालिका गृह का दौरा कर कई अहम दस्तावेज भी जब्‍त किए.

X
फोटो साभार- नदीम आलम फोटो साभार- नदीम आलम

मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में 34 लड़कियों के साथ बलात्कार मामले में पुलिस ने POCSO कोर्ट में जो आरोप पत्र दायर किया है उसमें कई सनसनीखेज खुलासे हुए हैं. 16 पन्नों की चार्जशीट पुलिस ने 28 जुलाई को कोर्ट में दायर की.

पुलिस की चार्जशीट में सबसे पहली जो चौंकाने वाली बात सामने आई है वह यह कि बालिका गृह में एक कमरा था जो ऑपरेशन थिएटर के रूप में काम करता था. यहां रहने वाली लड़कियों के साथ शारीरिक शोषण के बाद गर्भवती होने की स्थिति में जबरन इसी ऑपरेशन थिएटर में गर्भपात करा दिया जाता था.

चार्जशीट में 32 पीड़ित लड़कियों का बयान

आज तक से खास बातचीत करते हुए अपर लोक अभियोजक संगीता साहनी ने बताया कि पुलिस की चार्जशीट में 32 पीड़ित लड़कियों के बयान का जिक्र है. पीडि़त लड़कियों ने अपने ऊपर कई महीनों से हो रहे शारीरिक शोषण और यातनाओं का जिक्र किया है. चार्जशीट में पुलिस ने बताया है कि बालिका गृह में उन्हें 67 किस्म की नशीली दवाइयां और इंजेक्शन मिला है. इसका इस्तेमाल लड़कियों को बेहोश करने में होता था, जिसके बाद उनके साथ बलात्कार किया जाता था.

कौन हैं तीन लोग

पुलिस की चार्जशीट में लड़कियों के उस बयान का भी जिक्र है जिसमें उन्‍होंने 3 लोगों के बारे में जानकारी दी थी. लड़कियों ने कहा था कि तीन लोगों से काफी डर लगा करता था. इसमें एक तोंद वाले नेताजी, मूंछ वाले अंकल और हंटर वाले अंकल शामिल थे. पुलिस की जांच के दौरान पीड़ित लड़कियों ने हंटर वाले अंकल के तौर पर बालिका गृह के संचालक बृजेश ठाकुर की पहचान की है. इस बात को लेकर अभी खुलासा नहीं हुआ है कि तोंद वाले नेताजी और मूंछ वाले अंकल आखिर कौन थे, जिनका जिक्र चार्जशीट में किया गया है.

चार्जशीट में लिखा है कि बालिका गृह में रहने वाली लड़कियों को अक्सर रात में नग्न अवस्था में सोने के लिए कहा जाता था. रात के वक्त बालिका गृह की कई महिला कर्मचारी इन लड़कियों के साथ भी शारीरिक शोषण किया करती थी. चार्जशीट में कहा गया है कि जब भी कोई लड़की शारीरिक शोषण का विरोध करती थी तो हंटर वाले अंकल यानी कि बृजेश ठाकुर उनके गुप्तांगों पर लात से मार कर उन्हें सजा दिया करते थे जो पीड़ित लड़कियों के लिए असहनीय हुआ करता था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें