scorecardresearch
 

चमकी बुखार से मुजफ्फरपुर में हाहाकार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 36 तक

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मरने वाले बच्चों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. इस बीमारी से अब तक 36 बच्चों की मौत हो चुकी है, जबकि 117 बच्चों का इलाज जारी है.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

मुजफ्फरपुर के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में मासूमों की मौत का आंकड़ा 36 तक पहुंच चुका है. अस्पताल में फिलहाल 117 बच्चे भर्ती हैं जिनका लगातार इलाज चल रहा है.

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम जिसे आम बोलचाल की भाषा में चमकी बुखार या दिमागी बुखार भी कहा जाता है, इसकी वजह से पिछले कुछ दिनों में इस अस्पताल में मासूम बच्चों के पहुंचने का दौर जारी है. 

अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ सुनील कुमार शाही ने आजतक से बातचीत करते हुए बताया कि दो दिन पहले अचानक से 25 मासूम बच्चे जिनकी उम्र एक साल से लेकर 10 साल के बीच थी इस अस्पताल में भर्ती हुए. डॉ. शाही ने ने बताया कि अब तक 117 बच्चे इस अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं, जिनमें से 36 की अब तक मौत हो चुकी है.

डॉक्टरों का मानना है कि चमकी बुखार अत्यधिक गर्मी और हवा में नमी 50 फीसदी से ज्यादा होने की वजह से होता है. जानकारों का मानना है कि इस साल प्रदेश में अब तक बारिश नहीं हुई है, जिसकी वजह से मासूम बच्चों के बीमार होने की संख्या लगातार बढ़ रही है.

पिछले डेढ़ दशक से इस बात को लेकर भी काफी शोध हुआ है कि मुजफ्फरपुर में लीची की उपज काफी होती है. क्या इस वजह से तो बच्चों में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम की शिकायत तो नहीं हो रही है. श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज और अस्पताल के शिशु विभाग के हेड ऑफ डिपार्टमेंट डॉ. गोपाल शंकर साहनी का कहना है कि उन्होंने खुद इस विषय को लेकर काफी शोध किया है और पाया है कि इस बीमारी का लीची से कोई लेना देना नहीं है.

हालांकि, मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. सुनील कुमार शाही का कहना है कि इस बात को लेकर और शोध होना चाहिए कि कहीं लीची की वजह से तो बच्चों में सालाना यह बीमारी नहीं देखी जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें