scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: नामीबिया से लाए गए चीते के गाय का शिकार करने का वीडियो गलत, इसमें दिख रहा जानवर तेंदुआ है

मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में नामीबिया से लाए गए चीतों को शिकार के लिए चीतल की व्यवस्था की गई है लेकिन इस पर बिश्नोई समाज के लोगों ने अब विरोध शुरू कर दिया है. इस बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें यह दावा किया जा रहा है कि अब इन चीतों को शिकार के लिए गायें दी जा रही हैं लेकिन वीडियाे की सच्चाई कुछ और ही है.

X
नामीबिया से भारत लाए गए चीतों को खाने के लिए गायें देने का दावा किया जा रहा नामीबिया से भारत लाए गए चीतों को खाने के लिए गायें देने का दावा किया जा रहा

क्या नामीबिया से भारत लाए गए चीतों को खाने के लिए अब गायें मुहैया कराई जा रही हैं? सोशल मीडिया पर कुछ लोग एक वीडियो शेयर करते हुए ऐसा ही दावा कर रहे हैं.

वीडियो में एक चित्तीदार जानवर गाय का शिकार करता दिख रहा है. कई सोशल मीडिया यूजर्स कह रहे हैं कि ये जानवर हाल ही में भारत लाए गए चीतों में से एक है. ऐसा कहते हुए लोग पीएम मोदी पर निशाना साध रहे हैं.  


मिसाल के तौर पर, एक फेसबुक यूजर ने इस वीडियो को पोस्ट करते हुए लिखा, “हिरण के बाद गाय बनी आहार. मोदीजी के चीते के भोजन गाय के बाद मानव का भोजन हो तो कोई अतिश्योक्ति नही होनी चाहिए. आखिर क्या चाहते हैं मोती जी.”

वीडियो में हिरण के बाद गायों को चीतों का शिकार बनता दिखाया गया है


इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने पाया कि न तो ये वीडियो हाल-फिलहाल का है और न ही इसमें गाय का शिकार करता दिख रहा जानवर चीता है. ये वीडियो तेंदुए के गाय पर हमला करने का है जो इसी साल अगस्त में वायरल हुआ था. जबकि भारत में चीते 17 सितंबर को लाए गए थे.

कैसे पता लगाई सच्चाई?  

कीवर्ड सर्च के जरिये तलाशने पर हमें ये वीडियो आईएफएस अधिकारी साकेत बडोला के 15 अगस्त, 2022 के एक ट्वीट में मिला. यहां साकेत ने गाय का शिकार कर रहे जानवर को तेंदुआ बताया है.


ये वीडियो हमें अगस्त, 2022 की कई मीडिया रिपोर्ट्स में भी मिला. सभी रिपोर्ट्स साकेत बडोला के ट्वीट के आधार पर ही लिखी गई थीं. सभी खबरों में गाय का शिकार कर रहे जानवर को तेंदुआ ही बताया गया है.

तेंदुए और चीते के बीच का अंतर

‘फर्स्टपोस्ट’ की रिपोर्ट के मुताबिक, चीते और तेंदुए के बीच उनकी खाल को देखकर अंतर किया जा सकता है. जहां चीते के शरीर पर काले रंग के गोलाकर या अंडाकार धब्बे होते हैं, वहीं तेंदुए के शरीर के धब्बों का आकार गुलाब की तरह होता है. इन्हें रोजेट्स कहते हैं.

हमने ये वीडियो दुधवा नेशनल पार्क, उत्तर प्रदेश के फील्ड डायरेक्टर संजय पाठक और उत्तर प्रदेश के रिटायर्ड प्रमुख वन संरक्षक के. प्रवीण राव  को  भेजा. दोनों ने हमें बताया कि वीडियो में गाय का शिकार कर रहा जानवर तेंदुआ है, न कि चीता. 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, हाल ही में मध्य प्रदेश के ‘कूनो नेशनल पार्क’ में नामीबिया से भारत लाए गए चीतों के खाने लिए 181 चीतल छोड़े गए हैं. इसे लेकर बिश्नोई समाज ने आक्रोश जताया है. कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए नेता कुलदीप बिश्नोई ने इसकी निंदा की  है.

साफ है, तेंदुए के गाय का शिकार करने के एक पुराने वीडियो को हाल ही में नामीबिया से लाए गए चीतों काे गाय परोसे जाने का वीडियो बताया जा रहा है. 

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

वीडियो में देखा सकता है कि कैसे हाल ही में भारत लाए गए चीतों को खाने के लिए गाय मुहैया कराई जा रही है.

निष्कर्ष

गाय का शिकार करते तेंदुए का ये वीडियो अगस्त में वायरल हुआ था. वहीं भारत में चीते नामीबिया से 17 सितंबर को लाए गए थे.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें