scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: रंजन गोगोई ने नहीं किया ये किसान विरोधी ट्वीट

राज्यसभा सांसद और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के एक कथित ट्वीट का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रहा है, जिसमें वे किसानों पर मोदी विरोधी होने का आरोप लगा रहे हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ट्वीट

राज्यसभा सांसद और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के एक कथित ट्वीट का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रहा है, जिसमें वे किसानों पर मोदी विरोधी होने का आरोप लगा रहे हैं.

आंदोलन में हिस्सा ले रहे किसानों को संबोधित इस ट्वीट में लिखा है, “हल छोड़कर ट्रैक्टर, बोलेरो, फॉर्च्यूनर, एयर कंडीशंड ट्रक से दिल्ली पहुंचकर काजू किशमिश बिरयानी तंदूरी चर रहे हैं. फूटमसाज से लेकर नए गद्दे तकिये कम्बल का आनंद ले रहे हैं. इन गरीब किसानों को बिल से नहीं, मोदी से परेशानी है. लेकिन मोदी सरकार के दिए किसान सम्मान निधि से परेशानी नहीं.”

एक फेसबुक यूजर ने @THEGOGAI ट्विटर हैंडल से किए गए इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए लिखा, “भूतपूर्व जस्टिस रंजन गगोई का अन्नदाताओ के खिलाफ ये बयान शर्मनाक है.”

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.  

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि सोशल मीडिया पर ट्वीट का जो स्क्रीनशॉट वायरल है, वो पूर्व जस्टिस रंजन गोगोई के एक पैरोडी अकाउंट से किया गया है. गोगोई ने किसान आंदोलन से जुड़ा इस किस्म का कोई बयान नहीं दिया है.

फेसबुक पर बहुत सारे लोग इस वायरल स्क्रीनशॉट को रंजन गोगोई का असली बयान समझ कर शेयर कर रहे हैं. बहुत सारे लोग इस पर गुस्सा जताते हुए कह रहे हैं कि मुख्य न्यायाधीश जैसे अहम पद पर रह चुका व्यक्ति भला किसानों के प्रति ऐसा असंवेदनशील बयान कैसे दे सकता है!

हमने इस ट्विटर अकाउंट में ऐसी कई बातें दिखीं जिनसे पता लगता है कि ये रंजन गोगोई का असली ट्विटर अकाउंट नहीं हो सकता. एक-एक कर इनके बारे में बात करते हैं.

1. पैरोडी अकाउंट है ये

इस अकाउंट के बायो सेक्शन में स्पष्ट तौर पर लिखा है कि ये एक पैरोडी/फैन अकाउंट है. इस अकाउंट से किए गए किसान विरोधी ट्वीट को रंजन गोगोई का असली ट्वीट इसलिए समझा जा रहा है क्योंकि फेसबुक पर इसका जो स्क्रीनशॉट शेयर किया जा रहा है, उससे स्पष्ट नहीं हो रहा है कि ये एक पैरोडी अकाउंट है.  

2. ‘गोगोई’ की स्पेलिंग गलत है

इस अकाउंट के बायो सेक्शन में गोगोई की अंग्रेजी स्पेलिंग ‘gogai’ लिखी है, जबकि भारत सरकार की वेबसाइट के मुताबिक, उनके सरनेम की सही स्पेलिंग ‘Gogoi’ है. बायो सेक्शन में और भी कई अंग्रेजी शब्दों की स्पेलिंग गलत लिखी है, जैसे ‘PERODY’ और ‘formar’.

3. पहले ‘SGBJP’ था इस हैंडल का नाम

हमने ट्वीटबीवर टूल की मदद से इस अकाउंट का ​ट्विटर आईडी नंबर ‘1180213314816598016’ निकाला. हर ट्विटर अकाउंट का सिर्फ एक ट्विटर आईडी नंबर होता है. भले ही उसका यूजरनेम बदल जाए, पर ये नंबर नहीं बदलता. हमने जब इस नंबर को यांडेक्स सर्च इंजन पर सर्च किया, तो हमें पता चला कि इससे पहले ये आईडी ‘SGBJP’ के नाम से सक्रिय थी.

हमें Thegogai नाम का एक यूट्यूब चैनल भी मिला जिस पर ‘SGBJP’ नाम के ट्विटर हैंडल का जिक्र है. ये हैंडल अब सस्पेंड दिखा रहा है. हमें @THEGOGAI हैंडल के नाम से चल रहे इस पैरोडी अकाउंट का एक पुराना आर्काइव्ड पेज भी मिला. उस वक्त इसका हैंडल ‘@SGBJP’ था. इस पेज में उस वक्त भी रंजन गोगोई की वही डिस्प्ले पिक्चर लगी हुई थी जो अब लगी है.

हमें ट्विटर पर रंजन गोगोई का कोई आधिकारिक अकाउंट नहीं मिला. रंजन गोगोई ने किसान आंदोलन के बारे में अब तक कोई बयान नहीं दिया है. यानी ये बात साफ है कि पैरोडी अकाउंट से किए गए एक ट्वीट को लोग रंजन गोगोई का असली ट्वीट समझ रहे हैं.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

राज्यसभा सांसद रंजन गोगोई ने एक ट्वीट के जरिये कहा है कि किसानों को कृषि बिल से नहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से परेशानी है.

निष्कर्ष

राज्यसभा सांसद रंजन गोगोई के नाम से जिस ट्वीट का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है, वो एक पैरोडी अकाउंट से किया गया है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें