scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: गुलनाज हत्याकांड के खिलाफ नहीं है तेजस्वी यादव का यह कैंडल मार्च

बिहार के वैशाली जिले में छेड़खानी का विरोध करने पर 20 साल की गुलनाज खातून को हाल ही में कुछ दबंगों ने जिंदा जला दिया था. इस दर्दनाक घटना के कुछ दिनों बाद ही उसकी मौत हो गई थी.

वायरल तस्वीर वायरल तस्वीर

बिहार के वैशाली जिले में छेड़खानी का विरोध करने पर 20 साल की गुलनाज खातून को हाल ही में कुछ दबंगों ने जिंदा जला दिया था. इस दर्दनाक घटना के कुछ दिनों बाद ही उसकी मौत हो गई थी. मामले के मुख्य आरोपी चंदन रॉय को गिरफ्तार कर लिया गया है और दो अन्य आरोपियों की तलाश जारी है.  

इस घटना को लेकर बिहार के लोगों में खासा रोष है. इस बीच ‘justiceforgulnaaz’ हैशटैग के साथ आरजेडी नेता तेजस्वी यादव की कैंडल मार्च​ करते हुए फोटो सोशल मीडिया पर खूब शेयर हो रही है. इस फोटो के साथ कहा जा रहा है, “बिहार का बेटा और न्याय के लिए प्रतिबद्ध तेजस्वी यादव ने कैंडिल मार्च निकाल बिहार की बेटी के साथ हुई हैवानियत के लिए सड़क पर उतर कर दरिन्दों के लिए सजा की लगाई गुहार. बिहार (वैशाली) की बेटी गुलनाज खातून को न्याय दो.”

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.
 
इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि वायरल फोटो साल 2018 की है जब तेजस्वी यादव गुंजन खेमका नाम के व्यवसायी की हत्या और बिहार में बढ़ते अपराध के विरोध में एक कैंडल मार्च में शामिल हुए थे. गुलनाज हत्याकांड से इस फोटो का कोई लेना-देना नहीं है.

फेसबुक पर ये फोटो काफी वायरल है.  खबर लिखे जाने तक ये दावा करने वाले एक पोस्ट पर तकरीबन 1500 लोग रीएक्शन दे चुके थे.

क्या है सच्चाई

हमने पाया कि सोशल मीडिया पर शेयर हो रही ये फोटो साल 2018 में पटना में निकाले गए एक कैंडल मार्च की है. ये कैंडल मार्च गुंजन खेमका नाम के एक व्यवसायी की हत्या और बढ़ते अपराधों के विरोध में व्यापारी संगठनों ने निकाला था, जिसमें ‘राष्ट्रीय जनता दल’ के नेता तेजस्वी यादव भी शामिल हुए थे.

वायरल फोटो में किसी भी व्यक्ति ने मास्क नहीं लगाया हुआ है, जिससे इसके पुराने होने का शक होता है. रिवर्स सर्च करने पर ये तस्वीर हमें टेंड्समैप वेबसाइट की एक पोस्ट में मिली, जहां इसे साल 2018 का बताया गया है.

कीवर्ड सर्च के जरिए हमें तेजस्वी यादव के फेसबुक पेज पर ठीक वही तस्वीर मिल गई जो सोशल मीडिया पर शेयर हो रही है. यहां इसे 24 दिसंबर 2018 को अपलोड किया गया था.

तेजस्वी ने 24 दिसंबर 2018 को ही ट्विटर पर इस कैंडल मार्च से जुड़ी और भी कई तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा था, “व्यवसायी गुंजन खेमका की हत्या और बिहार में बढ़ते अपराध के विरोध में आज शाम पटना में विभिन्न सामाजिक, व्यावसायिक और औधोगिक संगठनों द्वारा आयोजित कैंडल मार्च में भाग लेकर शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन किया. कैंडल मार्च पटना के जेपी गोलंबर से डाकबंगला चौराहे तक निकाला गया.” इस बारे में मीडिया में खबरें भी छपी थीं.

तेजस्वी यादव ने 17 नवंबर को गुलनाज हत्या कांड मामले से जुड़ा पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का ट्वीट शेयर करते हुए नीतीश सरकार पर निशाना साधा था.

पड़ताल से ये बात साफ है कि तेजस्वी यादव ने गुलनाज हत्या कांड पर रोष जरूर जताया है, लेकिन वायरल फोटो का इस हत्याकांड से कोई लेना-देना नहीं है. ये साल 2018 की फोटो है जिसमें तेजस्वी व्यवसायी गुंजन खेमका की हत्या के विरोध में कैंडल मार्च करते दिख रहे हैं.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने बिहार के वैशाली में हुए गुलनाज खातून हत्याकांड के विरोध में कैंडल मार्च किया.

निष्कर्ष

ये तस्वीर 2018 की है जब तेजस्वी यादव ने व्यवसायी गुंजन खेमका की हत्या के विरोध में कैंडल मार्च किया था.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें