scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: 'हर-हर शंभू' गाने वाली अभिलिप्सा और फरमानी नाज के बीच झगड़े का भ्रम फैलाने में जुटे फर्जी अकाउंट्स

इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने पाया कि अभिलिप्सा के नाम पर चल रहे ये सभी अकाउंट फर्जी हैं. हमने अभिलिप्सा के नाम पर चल रहे ट्विटर अकाउंट्स के स्क्रीनशॉट उनके प्रवक्ता लखवीर सिंह को भेजे. उन्होंने बताया कि अभिलिप्सा का नाम बेवजह विवादों में खींचने वाले इन अकाउंट्स के खिलाफ वो शिकायत करेंगे.

X
ओडिशा की गायिका अभिलिप्सा पांडा ‘हर-हर शंभू’ गाना गाकर चर्चा में आई हैं. ओडिशा की गायिका अभिलिप्सा पांडा ‘हर-हर शंभू’ गाना गाकर चर्चा में आई हैं.

‘हर-हर शंभू’ गाने ने पिछले कई दिनों से इंस्टाग्राम रील्स से लेकर कांवड़ यात्रा तक हर जगह धूम मचा रहा है. इसे ओडिशा की गायिका अभिलिप्सा पांडा और जीतू शर्मा ने गाया था. कुछ समय पहले यूपी के  मुजफ्फरनगर की गायिका फरमानी नाज भी इस गाने को अपने अंदाज में गाकर चर्चा में आ गईं. लेकिन इससे खफा होकर देवबंदी उलेमा ने उनके खिलाफ फतवा जारी कर दिया.

इन सब घटनाक्रमों के बीच अभिलिप्सा पांडा के नाम पर बने कुछ ऐसे ट्विटर अकाउंट सामने आ गए हैं, जिनसे फरमानी नाज के खिलाफ लगातार नफरत भरे ट्वीट किए जा रहे हैं.

इनके जरिये कहा जा रहा है कि ‘हर-हर शंभू’ गाना मूल रूप से अभिलिप्सा पांडा और जीतू शर्मा ने गाया, लेकिन सारा क्रेडिट, सारी लाइमलाइट फरमानी नाज ले गईं.

पांडा


बहुत सारे लोग इन ट्विटर अकाउंट्स को अभिलिप्सा का असली अकाउंट मान रहे हैं. इन ट्वीट्स के स्क्रीनशॉट फेसबुक पर भी वायरल हो गए हैं. 

पांडा

इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने पाया कि अभिलिप्सा के नाम पर चल रहे ये सभी अकाउंट फर्जी हैं. अभिलिप्सा के प्रवक्ता लखवीर सिंह ने ‘आजतक’ को बताया कि उनके असली ट्विटर अकाउंट ‘@Abhilipsaoff’ और ‘@Abhi_30_Lipsa’ हैं. 

तो आइए, एक-एक करके अभिलिप्सा के नाम पर चल रहे फर्जी ट्विटर अकाउंट्स की बात करते हैं.

 

@AbhilashaPnda

इस अकाउंट की डीपी में अभिलिप्सा की तस्वीर लगी है. लेकिन नाम अभिलाषा लिखा है. जाहिर है, अभिलिप्सा अपना खुद का नाम गलत तो नहीं लिखेंगी. ये अकाउंट मई 2020 में बना था लेकिन इससे सारे ट्वीट अगस्त 2022 में ही किए गए हैं. और सारे ही फरमानी नाज के विरोध में हैं.

पांडा

@AbhilipsaPanda_

ये अकाउंट भी जनवरी, 2022 में बना था लेकिन इससे पहला ट्वीट 4 अगस्त को किया गया था. इसके भी ज्यादातर ट्वीट फरमानी नाज के खिलाफ ही किए गए हैं.

पांडा

@abhilipsatweets

ये अकाउंट जुलाई में बना था और इससे सिर्फ 7 ट्वीट किए गए हैं. सारे ही 4 अगस्त और उसके बाद के हैं. इस अकाउंट के जरिये भी फरमानी नाज पर निशाना साधा गया है.

पांडा

फरमानी के बारे में क्या बोलीं अभिलिप्सा?  

‘एबीपी न्यूज’ के एक इंटरव्यू में जब फरमानी नाज के ‘हर-हर शंभू’ गाना गाने को लेकर अभिलिप्सा की प्रतिक्रिया पूछी गई तो उन्होंने कहा, “हमने शंभूनाथ पर एक कंपोज्ड मंत्र बनाया है, उन्हीं के मंत्रों को एक नए तरीके से प्रेजेंट किया है. एक धर्म तक सीमित नहीं रह गया है. चाहे वो मेरे मुसलमान भाई-बहन हों या वो मेरे क्रिश्चन भाई-बहन हों- सभी को इतना पसंद आ रहा है. देख कर खुशी होती है जब लोग इसको गाते हैं, इसको दोहराते हैं.”

 

 

नकली ट्विटर एकाउंट्स की शिकायत की जाएगी

हमने अभिलिप्सा के नाम पर चल रहे ट्विटर अकाउंट्स के स्क्रीनशॉट उनके प्रवक्ता लखवीर सिंह को भेजे. उन्होंने बताया कि अभिलिप्सा का नाम बेवजह विवादों में खींचने वाले इन अकाउंट्स के खिलाफ वो शिकायत करेंगे. 

साफ है, अभिलिप्सा की तस्वीरें चुराकर उनके नाम पर बनाए गए फर्जी ट्विटर अकाउंट्स के जरिये फरमानी नाज और मुस्लिम समुदाय को बुरा-भला कहा जा रहा है.

अपडेट: ये खबर छपने के बाद हमारी अभिलिप्सा पांडा से बात हुई. उन्होंने हमें बताया कि उनके ‘@Abhi_30_Lipsa’   और ‘@Abhilipsaoff’ नाम से दो ट्विटर अकाउंट हैं. इनमें से ‘@Abhi_30_Lipsa’ को वेरिफाई करवाने की कोशिशें चल रही हैं. रिपोर्ट को इस जानकारी के हिसाब से अपडेट किया गया है.

अभिलिप्सा ने ये भी कहा कि उन्हें फरमानी नाज या किसी के भी ‘हर हर शंभू’ गाना गाने से कोई समस्या नहीं है. बल्कि उन्हें अच्छा लगता है कि अलग-अलग धर्मों के लोग इस गीत को गा रहे हैं.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

ओडिशा की गायिका अभिलिप्सा पांडा ने अपने एक ट्वीट में लिखा, एक मुस्लिम लड़की मेरा हक मार रही है. हर-हर शंभू मैंने गाया है, वो उसे अपना बता रही है.

निष्कर्ष

ये ट्वीट अभिलिप्सा के नाम पर बने एक फर्जी अकाउंट से किया गया है. अभिलिप्सा के असली ट्विटर अकाउंट ‘@Abhilipsaoff’ और ‘@Abhi_30_Lipsa’ हैं.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें