scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: ताबड़तोड़ थप्पड़ खा रहा ये शख्स नहीं है बिहार पंचायत चुनाव का प्रत्याशी

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में माइक हाथ में लिए एक शख्स के साथ फूलों का हार पहने एक आदमी को देखा जा सकता है. दोनों में किसी बात को लेकर चर्चा चल रही है.

वायरल वीडियो से ली गई तस्वीर वायरल वीडियो से ली गई तस्वीर

बिहार में होने जा रहे पंचायत चुनावों को लेकर सियासी सरगर्मियां तेज हो गई हैं. ये चुनाव 24 सितंबर से 12 दिसंबर के बीच 11 चरणों में होंगे. पंचायत चुनावों को देखते हुए राज्य के कई ग्रामीण इलाकों में आचार संहिता भी लागू हो गई है.

इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. वीडियो में माइक हाथ में लिए एक शख्स के साथ फूलों का हार पहने एक आदमी को देखा जा सकता है. दोनों में किसी बात को लेकर चर्चा चल रही है. आस-पास कुछ लोग भी खड़े दिख रहे हैं. जिस शख्स के हाथ में माइक है वो अचानक फोटोशूट के बहाने हार पहने आदमी को एक घर पीछे ले जाता है और जोर-जोर से थप्पड़ मारने लगता है.

वीडियो शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि फोटो खींचने के बहाने गांव के मुखिया पद के प्रत्याशी को एक पत्रकार ने थप्पड़ मारे. एक फेसबुक यूजर ने वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा है, "ऐसे कौन मुख्या प्रत्याशी के साथ फोटो सूट करता है भाई". एक वेरिफाइड फेसबुक अकाउंट से भी ये वीडियो पोस्ट किया गया है. वीडियो के कैप्शन में लिखा है, "पत्रकार हो तो ऐसा आज नेता जी कल अंधभक्तो का नम्बर तय है। #AviDandiya#MKD#सत्य#अंभक्तमुक्तभारत #गोदी_मीडिया #उद्धव२०२४".

इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि वायरल वीडियो के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक है. वीडियो में दिख रहे लोग कोई पत्रकार या चुनावी प्रत्याशी नहीं बल्कि कलाकार हैं. ये वीडियो बिहार में होने वाले पंचायत चुनावों को देखते हुए सिर्फ मनोरंजन के मकसद से बनाया गया है.

क्या है सच्चाई

रिवर्स सर्च की मदद से हमें यही वीडियो Harsh Rajput नाम के एक यूट्यूब चैनल पर मिला. इस वीडियो को 9 सितंबर 2021 को अपलोड किया गया था. वीडियो की शुरुआत में एक डिस्क्लेमर दिया गया है, जिसमें लिखा है, "ये वीडियो स्क्रिप्टेड है और मनोरंजन के मकसद से बनाया गया है". दर्शकों को वीडियो में उपयोग अभद्र भाषा के चलते हेडफोन लगाने की हिदायत भी दी गई है. इसी वीडियो में वायरल पार्ट को 2 मिनट 30 सेकेंड के बाद देखा जा सकता है.

वीडियो में रिपोर्टिंग कर रहे शख्स ने अपना नाम धर्मेंद्र धाकड़ बताया है. धर्मेंद्र कहते हैं कि ये समय पंचायत चुनाव का चल रहा है. चुनाव में खड़े प्रत्याशी अपने मतदाताओं को लुभाने में लगे हैं. इसी वीडियो में आगे धर्मेंद्र फूलों का हार पहने एक मुखिया पद के प्रत्याशी के पास जाते हैं और उनसे बातचीत करते हैं. बातचीत के दौरान धर्मेंद्र प्रत्याशी से मास्क न पहनने पर सवाल करते हैं. जवाब में प्रत्याशी कहता है, "कोरोना है ही नहीं न ही मरीज निकल रहे हैं इसलिए मास्क नहीं पहना है". इसी बात पर धर्मेंद्र फोटो खींचने के बहाने मुखिया प्रत्याशी को एक घर के पीछे लेकर जाते हैं और ताबड़तोड़ थप्पड़ जड़ना शुरू कर देते हैं. थप्पड़ मारते हुए धर्मेंद्र कोरोना में मास्क पहने की हिदायत भी देते हैं.

वीडियो के बारे में और जानकारी जुटाने के लिए हमने वीडियो में रिपोर्टिंग कर रहे धर्मेंद्र धाकड़ से फोन पर संपर्क किया. बातचीत में धर्मेंद्र ने हमें बताया कि वीडियो में न तो कोई चुनाव प्रत्याशी है और न ही कोई पत्रकार है. धर्मेंद्र आगे कहते हैं कि वीडियो में दिख रहे लोग कलाकार हैं और ये वीडियो सिर्फ मनोरंजन के मकसद से बनाया गया है. धर्मेंद्र ने बताया कि वीडियो बिहार के डेहरी में फिल्माया गया है.

अपने यूट्यूब चैनल के बारे में बात करते हुए धर्मेंद्र ने कहा, "उनका असली नाम हर्ष राजपूत है. धर्मेंद्र उनका एक किरदार है जो फनी वीडियो के द्वारा लोगों का मनोरंजन करता है, इसलिए लोग उनको धर्मेंद्र धाकड़ के नाम से जानते हैं. हर्ष मूल रूप से बिहार के औरंगाबाद के रहने वाले हैं और वहीं से अपना यूट्यूब चैनल चलाते हैं.

हमारी पड़ताल में साफ हो जाता है कि वीडियो में ताबड़तोड़ थप्पड़ खा रहा शख्स कोई मुखिया प्रत्याशी नहीं बल्कि एक कलाकार है और ये वीडियो भी मनोरंजन के मकसद से ही बनाया गया है.

(सौरभ भटनागर के इनपुट के साथ)

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

फोटो खींचने के बहाने एक पत्रकार ने गांव के मुखिया पद के प्रत्याशी को थप्पड़ जड़े.

निष्कर्ष

वीडियो में दिख रहे लोग कलाकार हैं और ये वीडियो मनोरंजन के मकसद से बनाया गया है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें