scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: द्रौपदी मुर्मू ने नहीं कही है भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की बात, वायरल ट्वीट फर्जी है

इस सियासी गहमा-गहमी के बीच सोशल मीडिया पर द्रौपदी मुर्मू के नाम से लिखे गए एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है. उस ट्वीट पर विश्वास किया जाए तो अगर मुर्मू राष्ट्रपति बन जाती हैं तो उनका “पहला कर्त्तव्य भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाना होगा”.

X
द्रौपदी मुर्मू ने नहीं कही है भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की बात द्रौपदी मुर्मू ने नहीं कही है भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की बात

देश में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को पूरा हो चुका है. फैसला 21 जुलाई को आएगा और तब पता चलेगा कि एनडीए की द्रौपदी मुर्मू राष्ट्रपति बनती हैं या फिर विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा.

इस सियासी गहमा-गहमी के बीच सोशल मीडिया पर द्रौपदी मुर्मू के नाम से लिखे गए एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है. उस ट्वीट पर विश्वास किया जाए तो अगर मुर्मू राष्ट्रपति बन जाती हैं तो उनका “पहला कर्त्तव्य भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाना होगा”. स्क्रीनशॉट में द्रौपदी मुर्मू की एक छोटी सी तस्वीर भी दिखाई दे रही है और साथ ही नीचे 'जय श्री राम' भी लिखा हुआ है.

इस स्क्रीनशॉट को 'हिंदुस्तानी हिन्दू' नाम के एक फेसबुक यूजर ने पोस्ट किया है जिस पर 12 हजार से भी ज्यादा लाइक्स हो चुके हैं और सैकड़ो लोग इसे शेयर कर चुके हैं.

इसी तरह के एक ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न यहां देखा जा सकता है.

एक अन्य फेसबुक यूजर ने इस स्क्रीनशॉट को शेयर करते हुए मुर्मू पर तंज कसा, "मरमु जी करेंगी बेड़ा पार. यही उम्मीद थी आपसे और कर भी क्या सकती हैं. अब संविधान तो गया काम से".

इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने पाया कि ये ट्वीट फर्जी है. द्रौपदी मुर्मू का ट्विटर पर कोई अकाउंट नहीं है. साथ ही, खबर लिखे जाने तक उन्होंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है. 

कैसे पता लगाई सच्चाई?

सबसे पहले हमने द्रौपदी मुर्मू के इस बयान के बारे में मीडिया रिपोर्ट खोजने की कोशिश की. जाहिर है कि चुनाव के बीच अगर राष्ट्रपति उम्मीदवार मुर्मू ने ऐसा कुछ कहा होता तो वो सुर्खियों में जरूर होता. लेकिन हमें इस बयान की पुष्टि करने वाली कोई न्यूज रिपोर्ट नहीं मिली.

वायरल स्क्रीन शॉट के मुताबिक द्रौपदी मुर्मू का ट्विटर हैंडल  "draupadi_m_”  है . लेकिन इसे ट्विटर पर सर्च करने पर हमें ऐसा कोई भी अकाउंट नहीं मिला जो इस समय चल रहा हो. जब हमने ये पता लगाया कि क्या "draupadi_m_"  हैंडल वाला कोई एकांउट पहले चल रहा था तो हमें इस एकांउट का एक कैश्ड वर्जन मिला. कैश्ड वर्जन गूगल पर कुछ समय के लिए बनने वाला एक तरह का आर्काइव होता है.

कैश्ड वर्जन में देखा जा सकता है कि मुर्मू के नाम पर बना ये वायरल ट्विटर अकाउंट जून 2022 में बनाया गया था. साथ ही, इसके बायो सेक्शन में साफ लिखा था कि ये किसी और का बनाया हुआ एक 'फैन पेज' है. यानि इस एकांउट से द्रौपदी मुर्मू का कोई लेना-देना नहीं है.

इसके अलावा कैश्ड वर्जन में इस अकाउंट के कई ट्वीट्स देखे जा सकते हैं जिसमे वायरल ट्वीट भी मौजूद है.

हमने ट्विटर पर भी "to:draupadi_m_" लिख कर सर्च किया. ऐसा करने पर हमेें दूसरे यूजर्स के कुछ पुराने ट्वीट मिले जो लोगों ने इस अकाउंट के डिलीट होने से पहले भेजे थे. इनमें से एक यूजर ने वायरल ट्विटर अकाउंट के बायो सेक्शन का एक स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए इसे फर्जी बताया था. 

मुर्मू के पीए सूरज कुमार महतो ने 'आजतक' को बताया कि द्रौपदी मुर्मू अभी तक ट्विटर पर नहीं हैं और उनके नाम से वायरल हो रहे ट्वीट्स फर्जी हैं.

इससे पहले भी राष्ट्रपति उम्मीदवारों के नाम से कई ट्विटर अकाउंट और फर्जी बयान वायरल हो चुके हैं. उस वक्त भी हमने उनकी सच्चाई बताई थी. ऐसे ही कुछ फैक्ट चेक आप यहां और यहां पढ़ सकते हैं.


(रिपोर्ट: संजना सक्सेना)

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया यूजर्स

दावा

द्रौपदी मुर्मू ने अपने ट्वीट में लिखा कि राष्ट्रपति बनते ही उनका पहला कर्त्तव्य भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाना होगा.

निष्कर्ष

ये ट्वीट फर्जी है. द्रौपदी मुर्मू का ट्विटर पर कोई अकाउंट नहीं है. साथ ही, खबर लिखे जाने तक उन्होंने ऐसा कोई बयान नहीं दिया है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया यूजर्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें