scorecardresearch
 

लालू से गठबंधन तोड़ने के अलावा नहीं था कोई विकल्प: नीतीश कुमार

नीतीश के मुताबिक जब लालू प्रसाद के परिवार के सदस्यों पर आरोप लगा तो उन्हें चाहिए था कि सामने आकर इसकी सफाई देते. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और मुझे मजबूर किया कि संबंध को तोड़ दिया जाए.

एजेंडा आजतक 2017: विचारों के आदान-प्रदान का महामंच एजेंडा आजतक 2017: विचारों के आदान-प्रदान का महामंच

एजेंडा आजतक 2017 के खास सत्र बिहार में बहार है, नीतीशे कुमार हैं में शिरकत कर रहे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि आरजेडी के साथ गठबंधन की स्थिति ऐसे मोड़ पर पहुंच गई थी कि उनके पास गठबंधन तोड़ने के अलावा कोई और विकल्प नहीं था.

नीतीश के मुताबिक जब लालू प्रसाद के परिवार के सदस्यों पर आरोप लगा तो उन्हें चाहिए था कि सामने आकर इसकी सफाई देते. लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया और मुझे मजबूर किया कि संबंध को तोड़ दिया जाए. नीतीश ने लालू प्रसाद के बेटे और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के बर्ताव का जिक्र करते हुए कहा कि साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यदि आरजेडी का बड़ा नेता या मेरी कैबिनेट का कोई मंत्री मेरी बात को काटने के काम करे तो ऐसी सरकार का कोई मतलब नहीं था.

इसे भी पढ़ें: जिग्नेश, अल्पेश और हार्दिक कांग्रेस के ही आदमी हैं: रूपाणी

वहीं महागठबंधन को तोड़ने पर नीतीश कुमार ने कहा कि जिस दिन महागठबंधन को बनाया गया इसी दिन आभास हो गया था कि महागठबंधन ज्यादा दिनों तक नहीं चलेगा. नीतीश कुमार ने कहा कि उनके डीएनए में हमेशा एनडीए रहा है. नीतीश कुमार ने कहा कि एनडीए में वापस आना न सिर्फ उनके लिए नैचुरल था बल्कि राज्य की जनता को भी यह एहसास नहीं है कि कोई अहम बदलाव हुआ है.

नीतीश कुमार के मुताबिक धर्मनिर्पेक्षता पर ज्यादातर लोग महज चर्चा करते हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि राज्य मंि भागलपुर दंगों का हवाला देते हुए कहा कि केन्द्र की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने इस दंगे में दोषियों का बचाने का काम किया. लिहाजा, ऐसे वक्त में कांग्रेस धर्मनिर्पेक्षता के अपने राग को छोड़ देता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें