scorecardresearch
 

आशा भोंसले कैसे बनी सुरों की मल्लिका

जादुई आवाज की मल्लिका आशा भोसले ने बॉलीवुड को एक से बढ़कर एक गाने दिए है. उन्हें बॉलीवुड में जितना गैल्मर मिला है उतनी ही उनकी ज़िन्दगी में मुश्किले भी रही है.आशा ने 10 साल की उम्र में ही आपने सिंगिंग करियर शुरू कर दिया था. उन्होंने फिल्मों के साथ -साथ प्राइवेट एल्बम में भी हजारों गाने गाए हैं1950 में आशा ने बॉलीवुड प्लेबैक सिंगर्स से भी ज्यादा गाने गाए थे. जिसमे से ज्यादातर गाने लो बजट फिल्में के होते थे. 1960 के दशक में गीता दत्त और लता मंगेशकर का बॉलीवुड में सिक्का चलता था.तब आशा वो गाने गया करती थी जिन्हें ये फेमस सिंगर्स रिजेक्ट कर देती थीं.आशा को पहली कमियाबी फ़िल्म नया दौर से मिली. जिसमे उन्होंने रफी के साथ मिल कर उड़ें जब जब जुल्फें तेरी गाना गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें