scorecardresearch
 

पद्मावती की रिलीज के लिए कुछ भी करेंगे भंसाली, मैं उनके साथ: रणवीर सिंह

पद्मावती की रिलीज के लिए कुछ भी करेंगे भंसाली, मैं उनके साथ: रणवीर सिंह

X
रणवीर सिंह रणवीर सिंह

पद्मावती में अलाउद्दीन खिलजी का किरदार निभा रहे रणवीर सिंह ने विवाद पर चुप्पी तोड़ी है. संजय लीला भंसाली और दीपिका पादुकोण को मिली धमकियों के बाद उन्होंने कहा, 'वो फिल्म और भंसाली के साथ खड़े हैं.'दीपिका ने भी फिल्म को लेकर मौजूदा गतिरोध पर गुस्सा जाहिर किया है.

हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, "मैं 200 परसेंट फिल्म के साथ खड़ा हूं. संजय लीला भंसाली के साथ भी वैसे ही खड़ा हूं. मैं फिल्म के लिए उनके (भंसाली) विजन के साथ भी खड़ा हूं. उनके पास एक विजन है. वो इसे रिलीज करने के लिए सबकुछ करेंगे.'

रणवीर ने कहा, 'जिस किसी को इस बारे में कंसर्न है, मैं उनसे अनुरोध करता हूं कि इंतज़ार करें और फिल्म देखें. कोई संजय सर पर डाउट नहीं कर सकता. वो एक शानदार फिल्म मेकर हैं और भारतीय संस्कृति - सभ्यता की बहुत इज्जत करते हैं.'

पद्मावती 'फिक्शन' है या 'इतिहास'? CBFC को मिले डॉक्युमेंट्स में कैटेगरी खाली

अच्छे इरादों वाले अच्छे इंसान हैं भंसाली

रणवीर ने कहा, 'वो (भंसाली) कभी किसी का दिल नहीं दुखा सकते. वो कभी ऐसा कुछ नहीं करेंगे जो गलत हो. वो अच्छे इरादों वाले अच्छे इंसान हैं. वो एक फिल्म बनाना चाहते थे जिसपर पूरे देश को गर्व हो. फिल्म को लेकर जो भी हो रहा है वह काफी दुखद है. मैं उस आदमी (भंसाली) के लिए दुख महसूस कर रहा हूं जिसके अच्छे प्रयासों और भावनाओं को किनारे किया जा रहा है. मैं उनसे मिलाना चाहता हूं और गले लगाना चाहता हूं.'

1 हफ्ते में दूसरी बार फूटा दीपिका का गुस्सा

दीपिका पादुकोण ने कहा, 'उन्हें देश की न्याय व्यवस्था पर पूरा यकीन है. फिल्म के विरोध में जिस तरह की हरकतें हो रही हैं उसे देखकर हंसी आती है.'कहा, 'मैंने फिल्म को अपने दो साल दिए हैं. जो कुछ हो रहा है उससे मैं बहुत दुखी हूं.' इससे पहले इसी हफ्ते फिल्म पर जारी विवाद में दीपिका ने पहली बार बोलते हुए कहा था, 'फिल्म की रिलीज बहुत जरूरी है और इसे रिलीज होने से कोई नहीं रोक सकता.'

राजपूतों और भंसाली के बीच मध्यस्थता को तैयार हैं मेवाड़ के 'महाराजा', रखी शर्त

मुझे पद्मावती पर गर्व

दीपिका ने कहा था, 'एक महिला के रूप में मैं इस फिल्म का हिस्सा बनकर और इस कहानी को दुनिया को बताने के लिहाज से बेहद गर्व महसूस कर रही हूं. ये एक ऐसी कहानी है जिसे जरूर बताया जाना चाहिए.'

दीपिका ने यह सवाल भी किया था, 'हम एक राष्ट्र के रूप में कहां पहुंच गए हैं? ये डरावना है, ये बहुत डरावना है, हम आगे बढ़ने के बदले पीछे जा रहे हैं. हमारी अगर किसी को जवाबदेही है तो वह सिर्फ सेंसर बोर्ड को है और मैं जानती हूं और मुझे पूरा विश्वास है कि इस फिल्म को रिलीज होने से कोई नहीं रोक सकता. ये सिर्फ पद्मावती से सं‍बंधि‍त नहीं हैं बल्कि हम एक बहुत बड़ी लड़ाई लड़ रहे हैं.'

क्या झूठ बोल रहे हैं पद्मावती के निर्माता? सेंसर ने वापस कर दी है फिल्म

सफाई दे चुके हैं भंसाली

बता दें कि पद्मावती में अलाउद्दीन खिलजी और रानी पद्मिनी के बीच ड्रीम सीक्वेंस को लेकर विवाद था जिस पर मेकर्स की ओर से सफाई आ चुकी है. भंसाली ने हाल ही में सोशल मीडिया में एक बार फिर कहा कि फिल्म में इस तरह का कोई सीक्वेंस नहीं है. ये फिल्म 1 दिसंबर को रिलीज होनी है.

भंसाली के सपोर्ट में फिल्म इंडस्ट्री

सियासी पचड़े में फंसी पद्मावती के खिलाफ कई बड़े राजनेता मैदान में उतर आए हैं. हालांकि फिल्म इंडस्ट्री से संजय लीला भंसाली को मजबूत सपोर्ट मिला है. सोमवार को फिल्म इंडस्ट्री के पांच संगठनों ने बैठक कर कहा कि सरकार को पद्मावती की रिलीज के लिए सुरक्षित माहौल देना चाहिए. भंसाली को मिल रही धमकियों और पद्मावती पर विरोध के खिलाफ मनोरंजन जगत के पांच संगठन 16 नवंबर को 15 मिनट के लिए शूटिंग पर रोक लगाकर अपना विरोध जाहिर करेंगे. उससे पहले दीपिका ने कई सवाल खड़े किए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें