scorecardresearch
 

फिल्म 'उड़ता पंजाब' को लेकर पंजाब में खिंची सियासी तलवारें

जल्द रिलीज होने जा रही फिल्म 'उड़ता पंजाब' पर बैन लगाए जाने की बात पर पंजाब सरकार और विपक्षी पार्ट‍ियां आमने सामने आ गई हैं.

इन दिनों फिल्म 'उड़ता पंजाब' अपने कंटेंट को लेकर खूब चर्चा में है. सेंसर बोर्ड से लेकर सि‍यासी गलि‍यारों इस फिल्म की चर्चा हो रही है. जल्द रिलीज होने जा रही इस मल्टीस्टारर फिल्म को लेकर हाल ही में सेंसर बोर्ड द्वारा रोक लगाने की बात सामने आई है. हालांकि इस फिल्म के प्रोड्यूसर अनुराग कश्यप ने फिल्म पर बैन लगाए जाने की बात से इनकार किया है.

बोर्ड ने फिल्म पर रोक लगाने की वजह फिल्म में बहुत ज्यादा गालियों का इस्तेमाल बताया है. लेकिन इस फिल्म पर लगी रोक की चर्चा के बाद पंजाब में राजनीतिक तलवारें खिंच गई हैं. अगले साल पंजाब में विधानसभा चुनाव है और कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया है कि फिल्म को राजनीतिक कारणों से रोका गया जा रहा है. शाहिद कपूर, आलिया भट्ट और करीना कपूर स्टारर यह फिल्म 17 जून को रिलीज होने वाली थी लेकिन फिलहाल सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म पर रोक लगा दी है. बोर्ड ने फिल्म में ज्यादा गालियों और ड्रग्स लेने के सीन्स पर आपत्ति जताई है. लेकिन पंजाब में अब ये फिल्म बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन चुकी है. कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने पंजाब सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि अभिव्यक्ति की आजादी को दबाने और राज्य में फैले नशे के असल हालात दिखाए जाने की वजह से इस फिल्म पर दबाव डालने की कोशिश की जा रही है.

पंजाब कांग्रेस चीफ कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तो केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है. पंजाब में सरकार बनाने के सपने देख रही आम आदमी पार्टी को तो जैसे बैठे-बिठाए पंजाब सरकार पर हमला करने के लिये मुद्दा मिल गया है. हाल ही में आम आदमी पार्टी में शामिल हुए पंजाब के बड़े हास्य कलाकार गुरप्रीत घुग्गी भी इस फिल्म पर लगी रोक को अकाली-बीजेपी सरकार के दबाव में लिया गया फैसला बता रहे है.

भले ही अकाली दल और पंजाब सरकार ये कह रही हैं कि फिल्म पर लगी रोक से उनका कोई लेना-देना नहीं है लेकिन सूत्रों की मानें तो अकाली दल ने इस फिल्म को लेकर चिंता जताई थी. आरोप लगाया था कि इसमें पंजाब को गलत ढंग से दिखाया गया है और इसी दबाव के चलते केन्द्र सरकार के अंडर आने वाले CBFC ने इस फिल्म पर दूसरे कारणों का हवाला देते हुए रोक लगाई है. इसी वजह से पंजाब में विपक्षी पार्टियां अकाली दल को निशाना बनाने में लगी है.

वहीं पंजाब पुलिस के पूर्व महानिदेशक शशिकांत का कहना है की फिल्म को जान बूझकर केंद्र सरकार ने रोका है इस फिल्म के निर्माता मुझसे मिले थे तो मैंने उनको पहले ही आगाह कर दिया था साथ ही उन्होंने इस फिल्म में मेरा नाम भी दिया है तो कहीं न कहीं इसके पीछे ड्रग्स की सच्चाई को देखने से रोकना है. गौरतलब है की शशिकांत काफी लम्बे समय से ड्रग्स की रोकथाम के लिए कानूनी और सामाजिक लड़ाई लड़ रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें