scorecardresearch
 

करन जौहर को अक्षय कुमार ने दी संभलकर बोलने की नसीहत

करन जौहर के बयान को खारिज करते हुए अक्षय कुमार ने कहा कि उन्‍हें अपने देश पर गर्व है और भारत में बहुत ज्‍यादा सहिष्‍णुता है.

अक्षय कुमार अक्षय कुमार

करण जौहर के विवादित बयान पर छिड़ी जंग के बीच अक्षय कुमार बोले कि देश में सबको बोलने की आजादी है. अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए अक्ष्‍ाय ने कहा कि हमारा देश बहुत ज्‍यादा सहिष्‍णु है और यहां आपको बोलने की आजादी है. लेकिन जो भी बोलें सोच-समझ कर बोलें. कई बार हम बोलते कुछ हैं और उसका मतलब कुछ और हो जाता है इसलिए आप जब भी मीडिया के सामने बोलें तो सारे तथ्‍य की पुष्टि करके बोलें. मुझे नहीं लगता कि हमारे देश में बोलने की आजादी नहीं. मुझे अपने देश पर गर्व है.

करण जौहर के बयान पर जहां बॉलीवुड के कई और स्‍टार सामने आए हैं वहीं उनके बयान पर राजनीतिक घमासान भी शुरू हो गया है. जानिए किसने क्‍या कहा:

करन जौहर: मेरा मानना है कि अभिव्यक्ति की आजादी दुनिया में सबसे बड़ा मजाक है. मुझे लगता है कि लोकतंत्र दूसरा सबसे बड़ा मजाक है. मुझे वास्तव में हैरानी है कि हम लोकतांत्रिक कैसे हैं? अभिव्यक्ति की आजादी कैसे है? एक फिल्मकार के तौर पर मैं हर स्तर पर चाहे वह पर्दे पर कुछ दिखाना हो या कुछ लिखना हो, खुद को बंधा हुआ महसूस करता हूं.

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी: मोदी सरकार बुद्धिजीवियों के खिलाफ है. वे उदार आवाजों के खिलाफ हैं. हर कहीं तनाव बढ़ रहा है. सरकार के प्यारे अनुपम खेर के अलावा दूसरे सभी कलाकार, चित्रकार, फिल्मकार कह रहे हैं कि यह सरकार बुद्धिजीवियों के खिलाफ है.

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा: पूरी दुनिया देख रही है कि भारत सबसे सहिष्णु देश है.

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी: जो भारत की सहिष्णुता पर सवाल खड़े कर रहे हैं, उनमें देश की संस्कृति और परंपराओं का कोई ज्ञान नहीं है. वे निरक्षर हैं. यह सच है कि चुनावों की घोषणाएं होते ही असहिष्णुता का मुद्दा सिर उठाता है.


बुक लॉन्‍च का था मौका
जौहर ने अपनी जीवनी ‘एैन अनसूटेबल बॉय’ लिखने वाली लेखिका पूनम सक्सेना और लेखिका-स्तंभकार शोभा डे के साथ बातचीत के दौरान कहा कि उन्हें महसूस होता है कि भारत एक 'मुश्किल देश' है जहां किसी के व्यक्तिगत जीवन के बारे में बात करने पर लोग सलाखों के पीछे जा सकते हैं.

एफआईआर किंग बन गया हूं
हाल में शाहरूख खान और आमिर खान देश में 'बढ़ती असहिष्णुता' के खिलाफ बोलने पर विवादों में आ गए थे.समलैंगिकता 'दोस्ताना' और विवाहेतर संबंधों 'कभी अलविदा ना कहना' जैसे विवादित विषयों पर फिल्म बना चुके निर्माता-निर्देशक ने कहा, 'मुझे लगता है कि मैं जहां कहीं भी जाता हूं, मेरे लिए हमेशा किसी न किसी तरह का कानूनी नोटिस इंतजार कर रहा होता है.' उन्होंने पिछले साल मुंबई में हुए एआईबी रोस्ट को लेकर मचे विवाद की तरफ संकेत करते हुए कहा, 'मैं एक तरह का एफआईआर किंग बन गया हूं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें