scorecardresearch
 

क्या वजह थी कि कभी सामान्य नहीं रह पाए गुरु दत्त संग गीता दत्त के रिश्ते?

गीता दत्त के जीवन का दर्द उनकी गायकी में जब उतरा तो सीधे लोगों के दिलों तक पहुंचा. मगर गुरु दत्त से शादी के बाद उनका करियर बिगड़ता चला गया.

गीता दत्त गीता दत्त

बॉलीवुड इंडस्ट्री में यूं तो ढेरों सिंगर्स ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा मगर कुछ सिंगर्स इस दौरान खास पहचान बनाने में कामयाब रहे. ऐसी ही एक सिंगर थीं गीता दत्त. गीता दत्त का पारिवारिक जीवन हमेशा उतार-चढ़ाव से भरा रहा. उनके जीवन का दर्द उनकी गायकी में जब उतरा तो सीधे लोगों के दिलों तक पहुंचा. मगर गुरु दत्त से शादी के बाद ना तो उनके करियर ने ही उड़ान भरी और नाहि उनकी पर्सनल लाइफ ही ट्रैक पर आ पाई. चीजें बिगड़ती चली गईं और एक दिन गीता दत्त के निधन के बाद सब कुछ खत्म हो गया.

गीता दत्त का जन्म 23 दिसंबर, 1930 को बंगाल में हुआ था. गानों की शौकीन गीता दत्त अभिनय की भी शौकीन थीं. मगर पर्सनल लाइफ में डिस्टरबेंस इतना तगड़ा था कि इसका सीधा असर उनके करियर पर पड़ा. वरना लता के दौर में लता को टक्कर देने वाली एकलौती गायिका गीता दत्त की झोली में इससे ज्यादा शोहरत होती और सम्मान भी. बता रहे हैं गीता दत्त और गुरु दत्त के रिश्ते के कुछ ऐसे पहलू जिसने दोनों के रिश्तों में दरार पैदा कर दी.

गीता दत्त और गुरु दत्त दोनों ही बहुत बड़े कलाकार थे. कई रिपोर्ट्स में ऐसा माना जाता है कि दोनों में ईगो का टकराव था. गीता और गुरु की शादी 11 साल तक चली. मगर इस दौरान दोनों के बीच प्यार बढ़ने के बजाय कम होता चला गया. माना जाता है कि दोनों के रिश्तों में काफी ज्यादा गलतफहमियां थीं. गीता को हमेशा लगता था कि गुरु का किसी के साथ अफेयर चल रहा है. इस वजह से वे कभी भी गुरु पर भरोसा नहीं कर पाईं. इसके बाद गुरु के जीवन में वहीदा रहमानन की एंट्री ने दोनों के रिश्ते में बड़ी दरार पैदा कर दी.

गुरु दत्त लगाते थे रोक-टोक-

इसके अलावा एक ये किस्सा भी दोनों के रिश्ते को लेकर काफी ज्यादा चर्चा में रहा है कि गुरु दत्त ने शादी के बाद गीता से कह दिया था कि वे किसी और निर्देशक के लिए नहीं गाएंगी. इसके बाद गीता दत्त का करियर ढलने लगा. वे डिप्रेशन में चली गई थीं. दोनों के बीच खटास का चरम तब आया जब गुरु दत्त कागज के फूल बना रहे थे. इस दौरान वहीदा संग उनके अफेयर के चर्चे हर तरफ थे.

गीता दत्त को तन्हाई का सहारा मिला. वे नशे की आदी हो गईं और इसका असर उनके करियर के साथ-साथ सेहत पर भी पड़ा. लिवर डैमेज की वजह से 20 जुलाई, 1972 को गीता दत्त ने हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह दिया. गीता दत्त ने छोटे से करियर में ही वर्सेटाइल सिंगिंग की और हर मिजाज के गाने गाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें