scorecardresearch
 

या तो मुस्लिम तुष्टीकरण दिखता है या उनमें भय, बीच का रास्ता क्यों नहीं होता, बोले आयुष्मान

एजेंडा आज तक 2019 में बॉलीवुड एक्टर आयुष्मान खुराना ने शिरकत की. आयुष्मान ने नागरिकता संशोधन बिल, छात्रों के विरोध प्रदर्शन और उन पर हुई हिंसा पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

X
 आयुष्मान खुराना (Photo credit: Shekhar Ghosh/India Today) आयुष्मान खुराना (Photo credit: Shekhar Ghosh/India Today)

एजेंडा आज तक 2019 में बॉलीवुड एक्टर आयुष्मान खुराना ने शिरकत की. उनके सेशन अंधाधुन सुपरहिट्स को सुशांत मेहता ने मॉडरेट किया. इवेंट में आयुष्मान खुराना ने नागरिकता संशोधन कानून (CAA), छात्रों के विरोध प्रदर्शन और उन पर हुई हिंसा पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

नागरिकता बिल पर क्या बोले आयुष्मान खुराना

नागरिकता बिल कानून पर बोलते हुए आयुष्मान ने कहा- सरकार की भी जिम्मेदारी है कि वे जो भी बिल लेकर आ रहे हैं उसे लेकर स्टूडेंट्स और उनके बीच कम्यूनिकेशन गैप नहीं होना चाहिए. वो क्या कहना चाहते हैं वो सरकार को देखना चाहिए. अगर स्टूडेंट्स को लगता है कि अल्पसंख्यक सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं तो सरकार को इसके पीछे की वजह जाननी चाहिए. ये देखना बहुत जरूरी है.

आयुष्मान ने सवाल उठाते हुए कहा- हमें हमेशा से ये लगता है कि सरकार मुस्लिमों को खुश करती है या फिर उन्हें इंसिक्योर बनाती है. हमें बीच का रास्ता क्यों नहीं मिलता है? वो देखना चाहिए. मुझे लगता है भारत युवाओं का देश है. देश का भविष्य उनके हाथ में है.

''हमें युवाओं को और सशक्त करना चाहिए. ये बात सिर्फ अल्पसंख्यक यूनिवर्सिटी के लिए नहीं है. क्योंकि स्टूडेंट्स का कोई धर्म नहीं होता है. स्टूडेंट्स ना हिंदू हैं ना मुस्लिम, वो बस एक स्टूडेंट हैं. अगर मैं आर्टिकल 15 जैसी फिल्म करता हूं तो मेरा स्टैंड लेना जरूरी होता है.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें