scorecardresearch
 

सरोज खान के निधन से सदमे में डायरेक्टर, बोले- उनकी कमी को पूरा करना मुश्किल

सुधीर मिश्रा ने कहा- मुझे उनके साथ दो फिल्मों में काम करने का मौका मिला लेकिन मैं इतना कह सकता हूं कि उनकी कमी को पूरा करना बॉलीवुड के लिए बेहद मुश्किल होगा.

सरोज खान सरोज खान

जब से कोरियोग्राफर सरोज खान के देहांत की खबर आई है तब से हर कोई सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है. सरोज खान के साथ दो फिल्मों ‘’चमेली’’ (2003) और ‘’कलकता मेल’’ (2003) में साथ काम कर चुके एक्टर,डायरेक्टर और राइटर सुधीर मिश्रा भी उनके देहांत से सदमे में हैं.

आजतक के साथ बातचीत में उन्होंने कहा, ‘ सरोज खान जी का देहांत फिल्म इंडस्ट्री के लिए काफी बड़ा लॉस है. सरोज जी पुराने डांस डायरेक्टर्स और नए डांस डायरेक्टर्स के बीच एक पुल की तरह थी जिन्होंने अपने पुराने अनुभवों को ना सिर्फ नए कोरियोग्राफर्स के साथ साझा किया बल्कि उनके नए अनुभवों को भी अपने डांस में समाहित किया, आज सरोज के साथ ही वो कनेक्शन भी खत्म हो गया है. हिन्दी सिनेमा का जो एक अंदाज होता है भावों के जरिए डांस को बयान का, उनके बगैर वो अदांज़-ए-बयां खत्म हो जाएगा.’’

बिना स्क्र‍िप्ट पढ़े ही 'दिल बेचारा' के लिए राजी हो गए थे सुशांत, डायरेक्टर ने बताया

सनी देओल से संजय दत्त तक, सरोज खान के इशारे पर इन हीरोज ने किया डांस

सरोज खान कमाल थीं-सुधीर मिश्रा

सुधीर मिश्रा आगे कहते हैं कि ‘हांलाकि मुझे उनके साथ दो फिल्मों चमेली (2003) और कलकता मेल (2003) में काम करने का मौका मिला, लेकिन एक बात जो मैंने उनमें गौर की थी वो ये कि वो बड़ी दिलचस्प, मज़ाकिया और कमाल की औरत थीं. मैं इतना कह सकता हूं कि उनकी कमी को पूरा करना बॉलीवुड के लिए बेहद मुश्किल होगा.’

वैसे हम आपको बता दें कि फिल्म ‘’चमेली’’ और ‘’कलकता मेल’’ इन दोनों ही फिल्मों के राइटर और डायरेक्टर सुधीर मिश्रा थे.

सुधीर मिश्रा बॉलीवुड के वो नामचीन डायरेक्टर और राइटर हैं जो कई दशकों से दर्शकों का मनोरंजन करते चले आ रहे हैं और बॉलीवुड के लगभग हर नए पुराने नामचीन कलाकार के साथ काम कर चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें