scorecardresearch
 

Bunty Aur Bubly 2 Review: पुराने का मजा बरकरार, सिद्धांत-शारवरी ने दिया फुल ऑन एंटरटेनमेंट

Bunty Aur Bubly 2 Review: रानी मुखर्जी और सैफ अली खान की ये नई फिल्म कितने मजे करवा पाई है आइये जानते हैं.

Bunty Aur Bubly 2: Rani Mukherjee, Saif Ali Khan Bunty Aur Bubly 2: Rani Mukherjee, Saif Ali Khan
फिल्म:बंटी और बबली 2
3/5
  • कलाकार : रानी मुखर्जी, सैफ अली खान, सिद्धांत चतुर्वेदी, शरवरी वाघ
  • निर्देशक :वरुण के शर्मा

15 साल बाद फिर ठगी की दुनिया में उतरे हैं बंटी और बबली. ये सिर्फ फिल्म नहीं एक ब्रांड है. अलग तरीके की कहानी का ब्रांड....अलग तरह की कॉमेडी का ब्रांड. जब 2005 में अभिषेक बच्चन और रानी मुखर्जी बंटी-बबली बन आए थे, सभी का तगड़ा मनोरंजन हुआ और कुछ नया देखने को मिल गया. अब 2021 है और हमारे बीच आ गई है बंटी और बबली 2. अभिषेक नहीं हैं, लेकिन रानी बरकरार हैं. सिद्धांत चतुर्वेदी और शरवरी वाघ को भी बड़ा मौका दे दिया है. अलग कहानी, अलग सपनों के साथ इस फ्रेंचाइस को आगे बढ़ाया गया है. अब डायरेक्टर वरुण वी शर्मा ने कितने मजे करवा दिए हैं, पता लगाते हैं.

कहानी

असली बंटी और बबली को ठगी छोड़े 15 साल बीत गए हैं. दोनों राकेश त्रिवेदी ( सैफ अली खान) और विम्मी त्रिवेदी ( रानी मुखर्जी) अपनी गृहस्ती में बिजी चल रहे हैं. एक बच्चा भी है, ऐसे में एक हैपी फैमिली वाली फीलिंग जारी है. लेकिन दूसरी तरफ उन्हीं के नाम का इस्तेमाल कर नए बंटी बबली मार्केट में आ चुके हैं. अंदाज वही पुराना है, बस ठगी में टेक्नोलॉजी का तड़का लगा दिया गया है. ये भी लोगों को पैसों का चूना लगा रहे हैं, ये भी हर चोरी के दौरान अपने लुक बदल रहे हैं और ये भी झूठ बोलने में एकदम माहिर दिखाए गए हैं. नए बंटी बने हैं सिद्धांत चतुर्वेदी और नई बबली के रोल में नजर आ रही हैं शरवरी वाघ.

Dhamaka Review: कार्तिक आर्यन की एक्टिंग का 'धमाका', लेकिन फिल्म कर गई चूक

अब चोरी कर रहे हैं, जुगाड़ भी लगा रहे हैं लेकिन पिछली फिल्म की तरह यहां भी दोनों की अपनी मजबूरियां हैं. एक तरफ बंटी इंजनीरिंग की पढ़ाई जरूर करके आया है, लेकिन नौकरी नहीं लगी है. दूसरी तरफ बबली को अपना स्टॉर्टअप खोलना है, लेकिन पैसे नहीं है. बस इन्हीं मजबूरियों के नाम पर ठगी का सिलसिला शुरू होता है और बंटी और बबली 2.0 सक्रिय हो जाते हैं. अब भागने में क्योंकि माहिर हैं, ऐसे में पुलिस इंसपेक्टर जटायु सिंह ( पंकज त्रिपाठी) का उनको पकड़ना अपने आप चुनौती है. लेकिन नौकरी पर खतरा है, इसलिए किसी भी हालत में गिरफ्तारी जरूरी है. 

इसका समाधान निकाला जाता है- पुरानी बंटी और बबली को फिर एक्टिव करके. मतलब दो नए चोरों को पकड़ने की जिम्मेदारी पुराने और शातिर चोरों को दे दी गई है. अब जब दोनों एक दूसरे से टकराएंगे, तो जबरदस्त हंगामा, खूब तोड़-फोड़ होगी और देखने को मिल जाएगा ढेर सारा बवाल. अब ये बवाल हंसाता है या नहीं, पहले वाला मैजिक बरकरार है या नहीं, वरुण की बंटी और बबली 2 देख डालिए, जवाब मिल जाएगा.

फुल ऑन एंटरटेनमेंट देने में कामयाब

लॉकडाउन के बाद जब से हॉल फिर खुले हैं, सभी को ऐसी फिल्म चाहिए जो फैमिली के साथ देख भी सके और जो सभी को हंसाने का पूरा दमखम भी रहे. अब बंटी और बबली 2 के मेकर्स के लिए खुशखबरी है. जो काम अक्षय की सूर्यवंशी नहीं कर पाई थी, बंटी और बबली 2 ने वो कर दिखाया है. फिल्म का सबसे बड़ा मकसद एंटरटेनमेंट देना था, वहां ये पास हो गई है. फुल नंबर बनते हैं क्योंकि लगातार कहानी ने बांधकर रखा है और हर बवाल ने दर्शकों को हंसने का मौका भी दिया है.

सिंगर पर बाल्टी भरकर हुई नोटों की बारिश, स्टेज पर बिखरा पैसा ही पैसा, Video देख होंगे हैरान

अब मनोरंजन जरूर पूरा लगता है, लेकिन कहानी पुरानी फिल्म जितनी ठोस नहीं है. इस बार की जितनी भी ठगी दिखाई गई हैं, वो या तो पिछली फिल्म जैसी ही हैं या फिर उनका स्केल अब छोटा कर दिया गया है. ऐसे में ये पहलू थोड़ा खटक जाता है. किसी बड़ी चोरी का आप इंतजार करते रह जाते हैं, लेकिन ऐसा होता नहीं. 

एक्टिंग में सभी का कमाल, पंकज लगे खास

मतलब मनोरंजन सही है, कहानी थोड़ी कमजोर है और एक्टिंग डिपार्टमेंट शानदार. सभी ने इतना गजब का काम कर दिया है कि आप बस तारीफ करते रह जाएंगे. बात सबसे पहले सैफ अली खान की करते हैं जिन्होंने अभिषेक बच्चन को रिप्लेस कर दिया है. सैफ की कॉमिक टाइमिंग बेहतरीन कही जाएगी. रानी संग उन्होंने ऐसी ट्यूनिंग जमा ली है कि आपकी नजरें उनसे हटने नहीं वाली. हमारी पुरानी बबली रानी भी फुल फॉर्म भी काम कर गई हैं. वहीं पुराना स्वैग और कुछ नए कलेवर के साथ उनका स्क्रीन पर आना मुस्कान लाया है. नए बंटी और बबली भी फिल्म में जान डाल गए हैं.

Sooryavanshi review: ना सिंघम वाला स्वैग...ना सिंबा वाली डायलॉगबाजी, कमजोर पड़ गई अक्षय की फिल्म

सिद्धांत चतुर्वेदी को इस फिल्म में बढ़िया स्क्रीन टाइम दिया गया है. गली बॉय के रैपर ने इस फिल्म में अपनी कॉमेडी से भी जलवा बिखेरा है. हर लुक में छाए हैं और हर अंदाज में दिल जीत गए हैं. बॉलीवुड डेब्यू कर रहीं शरवरी वाघ भी अच्छा काम कर गई हैं. रानी की तरह उनके किरदार में भी चुलबुला पन है जो हंसा देता है. अब इन सब के अलावा फिल्म की सबसे बड़ी यूएसपी बन उभरे हैं पंकज त्रिपाठी जिन्होंने इंस्पेक्टर जटायु सिंह बन इतना हंसा दिया है कि पेट में दर्द होने लग जाए. सबसे बेहतरीन तो उनका वो लहजा है जो उन्होंने अंत तक पकड़कर चला. कह सकते हैं कि उनका एक और किरदार फैन्स के लिए यादगार बन गया है. 

ऐसे में सिर्फ एंटरटेनमेंट और साफ-सुथरी कॉमेडी के लिए बंटी और बबली 2 देखी जा सकती है. एक्टिंग भी अच्छी है इसलिए कहानी आपको बांधकर रखेगी. अब ये बंधन आगे भी जारी रहने की पूरी उम्मीद है, फिल्म देख आप समझ जाएंगे कैसे.....

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें