scorecardresearch
 

8वीं के बाद छोड़ दिया था स्कूल, आज हैं करोड़ों के मालिक

त्रिशनित अरोड़ा, उम्र महज 24 साल की है. पर एक साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट होने के साथ-साथ TAC कंपनी के मालिक हैं, जिसके 4 ऑफिस भारत में और 1 दुबई में भी है. इतना ही नहीं ये पंजाब राज्य के IT एडवाइजर भी हैं.  

त्रिशनित अरोड़ा, फेसबुक से ली गई तस्वीर त्रिशनित अरोड़ा, फेसबुक से ली गई तस्वीर

ऐसा माना जाता है कि अगर आपने अपनी पढ़ाई पूरी नहीं की तो आप जीवन में कभी सफल नहीं हो सकते. लेकिन आज हम एक ऐसे लड़के के बारे में बता रहे हैं, जिसने 8वीं में पढ़ाई छोड़ दी और एक कंपनी का मालिक बन गया. मुंबई के रहने वाले त्रिशनित अरोड़ा का पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगता था, जिससे उनका पूरा परिवार परेशान था.

हालांकि उनकी रुची ही उनकी सफलता बनी और आज वो महज 23 साल की उम्र में साइबर सिक्युरिटी एक्सपर्ट बन चुके हैं. 'Humans of Bombay' के फेसबुक पेज पर उनकी इंस्पिरेशनल स्टोरी शेयर हुई थी. जिसमें बताया गया है कि कैसे वो स्कूल की पढ़ाई छोड़कर भी अपना मुकाम हासिल किया.

झोपड़-पट्टी में रहने वाला ये लड़का बना ISRO का साइंटिस्ट

वीडियो गेम से लगाव

त्रिशनित अरोड़ा ने बताया है कि बचपन से ही उन्हें कम्प्यूटर में रुची थी. ज्यादातर समय उनका वीडियो गेम खेलने में ही जाता था. देर तक कम्प्यूटर में बैठने पर उनके पिता को काफी टेंशन होती थी और वो रोज कम्प्यूटर का पासवर्ड बदल दिया करते थे. लेकिन त्रिशनित रोज पासवर्ड को क्रेक कर दिया करता था. इस चीज को देखकर उनके पिता भी प्रभावित हो गए और नया कम्प्यूटर लॉकर दे दिया. एक वक्त ऐसा आया जिससे उनकी जिंदगी बदल गई.

स्कूल छोड़ करने लगे प्रोजेक्ट्स पर काम

एक दिन त्रिशनित की स्कूल प्रिंसिपल ने उनके माता-पिता को स्कूल बुलाकर कहा कि उनका बच्चा 8वीं में फेल हो गया है. जिसके बाद उनके माता-पिता ने पूछा आखिर वो करना क्या चाहते हैं. जिसके बाद उन्होंने फैसला लिया कि वो कम्प्यूटर में ही अपना करियर बनाएंगे और फिर उन्होंने स्कूल छोड़ दिया.

स्कूल छोड़ने के बाद वह कम्प्यूटर की बारीकियों को सीखने लगे. 19 साल की उम्र में वो कम्प्यूटर फिक्सिंग और सॉफ्टवेयर क्लीनिंग करना सीख गए थे. जिसके बाद वो छोटे प्रोजेक्ट्स पर काम करने लगे.

मांग कर खाते थे रोटी, अब डीयू में प्रोफेसर बने दिव्यांग दीपक

जब मिला पहला चेक

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक उनको पहला चेक 60 हजार रुपये का मिला था. जिसके बाद उन्होंने पैसे बचाकर खुद की कंपनी में खर्च करने का सोचा. आज जिसका नाम TAC security solution है. जो एक साइबर सिक्युरिटी कंपनी है. बता दें, 8वीं फेल होने के बाद उन्होंने 12वीं डिस्टेंस से की और BCA पूरा किया.

इस लड़की ने बॉक्सिंग में जीता गोल्ड, गरीबी में कटे थे बचपन के दिन

त्रिशनित अब तक CBI,पंजाब राज्य और क्राइम ब्रांच के लिए ट्रेनिंग सेशन कर चुके हैं, साथ ही रिलायंस से लेकर सरकारी ऑफिस तक उनके क्लाइंट की लिस्ट में शामिल हैं. उनका सपना एक दिन बिलियन डॉलर साइबर सिक्योरिटी कंपनी खोलने का है. अरोड़ा यहां तक पहुंचने का सारा श्रेय अपने पापा को देते हैं. त्रिशनित अब तक 'हैकिंग टॉक विद त्रिशनित अरोड़ा' 'दि हैकिंग एरा' और 'हैकिंग विद स्मार्ट फोन्स' जैसी किताबें लिख चुके हैं. बता दें, इनके 4 ऑफिस भारत में और 1 दुबई में भी है. इतना ही नहीं ये पंजाब राज्य के IT एडवाइजर भी हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×