scorecardresearch
 

आंखों की रोशनी नहीं लेकिन मेहनत के दम पर खड़ी की है 25 करोड़ के टर्नओवर की कंपनी

उनकी आंखों की रोशनी भले ही चली गई लेकिन हिम्मत नहीं टूटी. जानिए इस शख्स की संघर्ष गाथा जो ठेले पर हाथ से बनी मोमबत्ती बेचता था और आज 25 करोड़ के टर्नओवर की कंपनी के साथ 100 से ज्यादा पैरालंपिक मेडल्स विजेता भी है...

जिनके पास खोने के लिए कुछ नहीं होता, उनके पास पाने के लिए सारा जहां होता है. इस बात को सच साबित किया है भवेश भाटिया ने. भले ही वह आंखों से देख नहीं सकते लेकिन ऐसे लोगों के लिए रोजगार उपलब्ध करा रहे हैं जो भवेश की ही तरह दुनिया नहीं देख सकते हैं. यह उनकी मेहनत का ही फल है कि कभी फेरी लगाकर अपना घर चलानेवाले भवेश आज 25 करोड़ रुपये के टर्नओवर वाली सनराइज कंपनी के मालिक हैं.

भवेश बचपन से अंधे नहीं थे. उनके आंखों की रोशनी धीरे-धीरे जाती रही. वे रेटिना मस्कुलर डिटेरियेशन नामक बीमारी से ग्रस्त थे. इसमें मरीज के आंखों की रोशनी समय के साथ घटती जाती है. इस बीमारी के कारण उनके सहपाठी भी उनका मजाक उड़ाते थे. उन्होंने जब इसकी शिकायत अपनी मां से की उन्होंने समझाया कि वे तुम्हारे दोस्त बनने के लिए ऐसा करते हैं. बस मां की इस सीख से उन्होंने उन सभी को अपना दोस्त बना लिया जो उनको कभी उनकी कमजोरी की वजह से चिढ़ाते है.  

भवेश जब 23 साल के थे उनकी आंखों की रोशनी पूरी तरह चली गई और यहीं से शुरू हुआ था संघर्ष का कठिन दौर. लेकिन कहते हैं न मुसीबत अकेले नहीं आती और भी परेशानियां साथ लाती है. जब उनकी आंखों की रोशनी गई तब उनकी मां का कैंसर का इलाज का चल रहा था और वह इसके लिए रकम जोड़ने का प्रयास कर रहे थे. लेकिन बहुत खर्च के बावजूद उनकी मां नहीं बच पाईं.

इसके बाद भवेश बहुत टूट गए थे लेकिन मां की एक सीख उन्होंने गांठ बांध ली थी कि अगर वह दुनिया नहीं देख सकते तो कुछ ऐसा करें कि दुनिया उनको देखे. इसके बाद भवेश कुछ ऐसा करने की तलाश में जुट गए जिससे न केवल उनकी जिंदगी बेहतर बन सके बल्कि वह अपने जैसे तमाम अन्य लोगों की जिंदगी को भी बेहतर बना सकें.

कैसे हुई बिजनेस की शुरुआत:
भवेश को बचपन से ही हाथों से छोटी-छोटी चीजें बनाना अच्छा लगता था. पहले वे पतंग बनाते थे और इसके बाद मोमबत्तियां बनाने लगे. इसी बीच उन्हें प्रशिक्षण की जरूरत महसूस हुई तो उन्होंने नेशनल एसोसिएशन ऑफ ब्लाइंड इंस्टीट्यूट से मोमबत्तियां बनाने का प्रशिक्षण लिया. फिर वह हाथ से बनाई मोमबत्तियाें को महाबलेश्वर के स्थानीय बाजार में ठेले पर बेचने लगे.

मोमबत्ती के बिजनेस ने ही दिलाया जीवनसाथी :
अपनी जीवन संगिनी नीता से भवेश की मुलाकात मोमबत्तियाें के जरिए हुई. वह उनसे मोमबत्तियां खरीदने आई थीं और उनके व्यवहार से प्रभावित होकर उनको अपना दिल दे बैठीं. काफी मिलने-जुलने के बाद उन्होंने शादी करने का फैसला किया. हालांकि नीता के परिवार ने इसका खासा विरोध किया लेकिन उन्होंने अपना फैसला नहीं बदला.

नीता का साथ मिलने के बाद उनकी जिंदगी थोड़ी आसान जरूर हुई लेकिन घर की आर्थिक स्थिति तब भी अच्छी नहीं थी. कहीं से भी बिजनेस के लिए ऋण नहीं मिल रहा था. उनकी जिंदगी का सबसे बड़ा समय वह था जब उन्हें सतारा बैंक से 15 हजार रुपये का लोन मिला. इससे उन्होंने मोम, ठेला और जरूरत की कई सारी चीजें खरीदीं. मेहनत रंग लाई और उनका बिजनेस चल निकला.

उन्होंने बाद में सनराइज कैंडल्स कंपनी बनाई जो आज 9000 डिजाइन वाली सादी और सुगंधित मोमबत्तियां बनाती है. आज उनके ग्राहकों की लिस्ट में रिलायंस इंडस्ट्रीज, बिग बाजार, रैनबैक्सी, नरोद इंडस्ट्रीज और रोटरी क्लब जैसी प्रमुख कंपनियां हैं. फिलहाल इस कंपनी का टर्नओवर 25 करोड़ रुपये से ज्यादा है.

बिजनेस के अलावा खेल में दिलचस्पी:
मोमबत्ती का कारोबार जमाने के बाद भवेश ने जिंदगी को एंजॉय करना नहीं छोड़ा और न ही एक ही मंजिल पर अपने कदम रोके. उन्होंने बिजनेस के साथ शॉर्टपुट, डिस्कस और जेवलिन थ्रो जैसे खेलों की भी प्रैक्टिस शुरू कर दी. आज उनके पास पैरालंपिक स्पोर्ट्स में कुल 109 मेडल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें