scorecardresearch
 

अमेरिका से भारत आकर किया बकरी पालन का काम, करते हैं अच्छी कमाई

महाराष्ट्र के बुलढाड़ा जिले के रहने वाले डॉ. अभिषेक भराड ने अमेरिका में प्रतिष्ठित नौकरी छोड़कर गांव लौटकर बकरी पालने का काम शुरू किया और आज लाखों रुपये का कारोबार करते हैं.

फोटो साभार -फेसबुक प्रोफाइल फोटो साभार -फेसबुक प्रोफाइल

भारत में पढ़ाई करने के बाद लोग बाहर चले जाते हैं और वहां हमेशा के लिए बस जाते हैं. हालांकि एक शख्स ने इसके विपरीत काम किया. इस शख्स ने अमेरिका में वैज्ञानिक की नौकरी छोड़ भारत आने का फैसला किया और खुद का व्यापार शुरू किया. महाराष्ट्र के बुलढाड़ा जिले के रहने वाले डॉ. अभिषेक भराड ने अमेरिका में प्रतिष्ठित नौकरी छोड़कर गांव लौटकर बकरी पालने का काम शुरू किया और आज लाखों रुपये का कारोबार करते हैं.

अभिषेक ने पंजाबराव देशमुख कृषि विद्यापीठ से 2008 में बीएससी करने के बाद अमेरिका से लुइसियाना स्टेट यूनिवर्सिटी से मास्टर्स (एमएस.) और फिर वहीं से अपनी पीएचडी पूरी की. पीएचडी के बाद उन्हें वैज्ञानिक के तौर पर अमेरिका में ही नौकरी मिल गई, हालांकि उन्होंने 2 साल बाद नौकरी छोड़ दी. अमेरिका से अपने गांव लौटकर उन्होंने बकरी पालन का काम शुरू किया.

जूते पॉलिश कर जुटाए पैसे, अब गरीबों के लिए बनवा दिया अस्पताल

अभिषेक ने 120 बकरियों के साथ इस एग्री बिजनेस की शुरुआत की और धीरे-धीरे ये संख्या दोगुना हो गई. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आज उनके पास 350 से भी ज्यादा बकरियां हैं. न्होंने बकरियों के चारे के लिए 6 एकड़ की जमीन पर मक्का और बाजरा जैसी फसलें भी बोई हैं. ताकि बकरी को अच्छा चारा मिल सके. उन्हें एक बकरी बेचने पर करीब 10 हजार रुपये की कमाई होती है और इस तरह वो हर महीने 10 लाख रुपये से अधिक कमा लेते हैं.

जानें- रिक्शा चलाने वाला कैसे बन गया करोड़ों का मालिक

साथ ही अभिषेक गांव के लोगों को शिक्षित करने के लिए प्रयास कर रहे हैं और एक ग्रुप बनाकर वैज्ञानिक तरीके से खेती कराने पर जोर दे रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें