scorecardresearch
 

जानें अंतरिक्ष में पहुंचने के बाद कहां रहते हैं एस्‍ट्रोनॉट

अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन, जिसे खासतौर पर इंसानों की सुविधाओं का ख्‍याल रखते हुए बनाया गया है. जानें इस स्‍पेस स्‍टेशन के बारे में.

X
International Space Station
International Space Station

अंतरिक्ष की दुनिया रहस्‍यों से भरी है. तभी तो इन रहस्‍यों को जानने के लिए अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष के मिशन पर जाते हैं. लेकिन इतने बड़े अंतरिक्ष में एस्‍ट्रोनॉट जाते कहां है? अक्‍सर ये सवाल हमारे अंदर उठता है. इस सवाल का जवाब है इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS), जिसे खासतौर पर इंसानों की सुविधाओं का ख्‍याल रखते हुए बनाया गया है.

जानिए स्पेस में कैसे सोते, खाते और बाथरूम जाते हैं एस्ट्रोनॉट

क्या है अंतरिक्ष स्टेशन?
अंतरिक्ष स्टेशन को ऑर्बिटल स्टेशन के नाम से भी जाना जाता है. इसे इंसानों के रहने के लिहाज से सभी सुविधाओं को ध्‍यान में रखते हुए डिजाइन किया गया है. दूसरे शब्दों में कहा जा सकता है कि यह अंतरिक्ष में मानव निर्मित ऐसा स्टेशन है, जिससे पृथ्वी से कोई अंतरिक्ष यान जाकर मिल सकता है. ये स्टेशन एक प्रकार के मंच की तरह होता है. जहां से पृथ्वी का सर्वेक्षण किया जा सकता है, आकाश के रहस्य मालूम किए जा सकते हैं.

कैसे बना यह स्‍पेस सेंटर
1998 में अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन का निर्माण शुरू हुआ था. पहले इसे सिर्फ 15 साल के लिए अंतरिक्ष में रखने की बात थी लेकिन एक करार के बाद इसका इस्तेमाल 2020 तक किया जाएगा. 2003 में शटल यान कोलंबिया हादसे का शिकार हो गया था जिसके बाद नासा ने ISS को खाली छोड़ने का फैसला किया था लेकिन बाद में स्टेशन पर हर वक्त अंतरिक्ष यात्री रखने का फैसला किया गया.

जानिए इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) के बारे में रोचक तथ्य

1. इस स्‍पेस स्‍टेशन को बनाने में 16 देश शामिल हैं, अमेरिका, रूस, कनाडा, जापान, बेल्जियम, ब्राजील, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, नार्वे, स्‍पेन, स्‍वीडन, स्विजरलैंड और यूके.

2. धरती पर हाईवे पर 65 मील प्रति घंटा भले ही स्‍टैंडर्ड स्पीड हो लेकिन ऑर्बिट पर ISS पांच मील प्रति सेकेंड की रफ्तार से दौड़ता है. इसका मतलब है कि यह स्टेशन हर 90 मिनट में ग्रह का एक चक्कर लगा लेता है.

3. स्‍पेस स्‍टेशन 357 फीट में बना हुआ है, जो एक फुटबॉल के मैदान से भी बड़ा है.

4. इसका वजन 420,000 किलोग्राम है. यह 320 कारों के वजन के बराबर है.

5. अंतरिक्ष के रहस्‍यों का पता लगाने के लिए बने इस स्‍टेशन को बनाने में लगभग 120 बिलियन डॉलर लगे हैं.

6. पूरे स्टेशन में सिर्फ दो बाथरूम हैं. अंतरिक्ष यात्रियों और प्रयोगशाला के जानवरों का यूरिन फिल्टर होकर फिर से स्टेशन के ड्रिकिंग वॉटर सप्लाई में चला जाता है, जिससे अंतरिक्ष यात्रियों को कभी पानी की कमी ना झेलनी पड़े.

7. ISS में ऑक्सीजन ELECTROLYSIS की प्रक्रिया के जरिए आती है.

8. ISS के इलेक्ट्रिक सिस्टम में 8 मील का तार है. यह न्यूयॉर्क के सेंट्रल पार्क की परिधि से भी बड़ा है.

9. आप स्पेस में हैं इसका मतलब ये नहीं है कि आपके कंप्यूटर में वायरस नहीं आ सकता. स्टेशन के 52 कंप्यूटर में एक से ज्यादा बार वायरस अटैक हो चुका है.

10. अंतरिक्ष यात्री दिन में तीन बार खाना खाते हैं. लेकिन वे खाना बैठ कर नहीं खाते. वो बस खुद को स्थिर कर के हवा में तैरते रहते हैं.

11. स्‍पेस सेंटर रात के समय आकाश में चंद्रमा और शुक्र के बाद तीसरा सबसे चमकदार है. अगर आप की आंखे तेज हैं तो आपको ये फास्ट मूविंग प्लेन की तरह आकाश में दिख जाएगा.

12. अंतरिक्ष में किसी भी समय जब कोई अंतरिक्षयात्री यान से निकलकर अंतरिक्ष में कदम रखता है, तो उसे स्पेस वॉक कहते हैं. 18 मार्च, 1965 को रूसी अंतरिक्षयात्री एल्केसी लियोनोव ने पहली बार स्पेस वॉक की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें