scorecardresearch
 

बिहार के IPS विकास वैभव होंगे SKD मेमोरियल अवार्ड से सम्मानित

बिहार के IPS विकास वैभव सत्येंद्र के दुबे SKD  मेमोरियल अवार्ड -2019 से के लिए चुने गए हैं. जानिए- उनके बारे मेें और क्यों दिया जाता है ये अवॉर्ड

IPS अफसर विकास वैभव IPS अफसर विकास वैभव

  • IPS विकास को मिलेगा वैभव सत्येंद्र के दुबे (SKD) मेमोरियल अवार्ड
  • सत्येंद्र के दुबे भारतीय इंजीनियर थे. जिनकी हत्या कर दी गई थी

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) ने इस साल 2003 बैच के बिहार के आईपीएस ऑफिसर विकास वैभव को सत्येंद्र के दुबे (SKD) मेमोरियल अवार्ड -2019  के लिए चुने गए हैं.

जानें- विकास वैभव के बारे में

विकास वैभव ने मानवीय मूल्यों को कायम रखते बिहार के कई बहुमूल्य कार्य किए हैं. वर्तमान में वह भागलपुर रेंज में डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल (DIG) के रूप में तैनात हैं.

जानें-  सत्येंद्र के दुबे (SKD) मेमोरियल अवार्ड -2019 के बारे में

आईआईटी-कानपुर ने 2005 में अपने सबसे प्रतिभाशाली पूर्व छात्र सत्येंद्र कुमार दुबे की स्मृति में इस प्रतिष्ठित पुरस्कार की स्थापना की थी, जो किसी भी आईआईटी के पूर्व छात्र के लिए है, जिसने  समाज में अपने कार्यों से 'मानवीय मूल्य' को बरकरार रखा.

आपको बता दें, सत्येंद्र कुमार दुबे बिहार में भारतीय इंजीनियरिंग सेवा के अधिकारी थे और झारखंड के कोडरमा में NHAI में परियोजना निदेशक थे, लेकिन 2003 में 27 नवंबर को स्वर्णिम चतुर्भुज राजमार्ग निर्माण परियोजना में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के कारण बिहार के गया में उनकी हत्या कर दी गई थी.

बता दें, आईआईटी कानपुर के निदेशक अभय करंदीकर के अनुसार, 2019 SKD मेमोरियल अवार्ड IIT कानपुर के डायमंड जुबली स्थापना दिवस के अवसर पर 2 नवंबर को विकास वैभव को प्रदान किया जाएगा.

IPS विकास वैभव नेशनल इन्वेस्ट‍िगेशन एजेंसी (NIA) में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. वो अभी भागलपुर रेंज के डीआईजी हैं. पर्यावरण और ऐतिहासिक धरोहरों से इनका विशेष प्रेम रहा है. साथ में फोटोग्राफी का भी इन्हें शौक है. वैभव दो लोकप्रिय ब्लॉग चलाते हैं. 

पहला silentpagesindia.blogspot.com और दूसरा- copinbihar.blogspot.com. इन ब्लॉग में वह बिहार के उन प्रयासों और प्रयासों को उजागर करते हैं जो मानवीय मूल्यों को बनाए रखते हैं.

वैभव ने कहा, "पुलिस का मतलब केवल बंदूक चलाना या लाठी-पकड़ करना नहीं है, बल्कि मानव हित और बुद्धिमत्ता की रक्षा करना और बढ़ावा देना भी है. उनका कहना है पुलिस का पद एक प्रकार मानवीय मूल्यों पर आधारित है  जिस पर लोग भरोसा करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें