scorecardresearch
 

नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी: जानिए- कैसे 60 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स उठाएंगे इसका फायदा

इसे इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी खड़गपुर (IIT Kharagpur) के द्वारा चलाया जा रहा है. खास बात है कि पिछले साल तैयार हुई इस लाइब्रेरी में अभी तक 60 लाख से ज्‍यादा छात्र रजिस्‍ट्रेशन करा चुके हैं.और रोजाना हज़ारो की संख्या में छात्र इससे जुड़ भी रहे हैं. 

X
प्रतीकात्मक फोटो (Getty) प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 60 लाख से ज्यादा छात्र कर चुके है रेजिस्ट्रेशन
  • 7 करोड़ से ज्यादा स्लेबस से जुड़े डॉक्यूमेंट

कोरोना महामारी के दौरान देशभर के करोड़ों छात्र घर से बैठकर पढ़ाई कर रहे हैं. स्कूलों में भी ऑनलाइन के माध्यम से छात्रों को शिक्षा दी जा रही है. ऑनलाइन पढ़ाई में नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया छात्रों की पहली पसंद बनकर उभरी है. देश में कोरोना की पहली लहर आने के बाद भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय की ओर से इसे तैयार किया गया था. 

इसे इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी खड़गपुर (IIT Kharagpur) के द्वारा चलाया जा रहा है. खास बात है कि पिछले साल तैयार हुई इस लाइब्रेरी में अभी तक 60 लाख से ज्‍यादा छात्र रजिस्‍ट्रेशन करा चुके हैं.और रोजाना हज़ारो की संख्या में छात्र इससे जुड़ भी रहे हैं. 
 
ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली में अब नोट बुक डिजिटल तो किताबे भी डिजिटल और इन्ही डिजिटल किताबो का छात्र जमकर फायदा उठा रहे है. नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी ऑफ इंडिया से रोजाना तकरीबन दो लाख डॉक्‍यूमेंट पढ़ाई के लिए इस्‍तेमाल किए जा रहे हैं. यह संख्‍या लगातार बढ़ रही है. इस लाइब्रेरी के प्‍लेटफॉर्म को इस्‍तेमाल करने के लिए रजिस्‍ट्रेशन अनिवार्य है ऐसे में अभी तक 60 लाख के लगभग बच्‍चे यहां रजिस्‍टर्ड हैं.

टीचर्स ने aajtak.in से बातचीत में कहा कि इससे छात्रों को बहुत फायदा मिला है. सभी बुक वो ऑनलाइन पढ़ सकते हैं, यहां सिलेबस से अलग भी कोई जानकारी या कोई किताब जानकारी के लिए आप पढ़ना चाहे तो पढ़ सकते हैं. बता दें कि नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी में करीब 32 लाख छात्र इस लाइब्रेरी पर सक्रिय हैं. यहां छात्रों के लिए 7.3 करोड़ पढ़ाई से संबंधित दस्‍तावेज या किताबों का मेटेरियल उपलब्‍ध है. जिसमें से 60-70 फीसदी मेटेरियल पूरी तरह फ्री है. हालांकि इस लाइब्रेरी से संबंधित किसी भी किताब या डॉक्‍यूमेंट के इस्‍तेमाल पर कोई शुल्‍क नहीं है लेकिन बाकी बचा हुआ करीब 30 फीसदी मेटेरियल सब्‍सक्रिप्‍शन पर मिलता है. ऐसे में करीब छह करोड़ के आसपास किताबें यहां से बच्‍चे किसी भी वक्‍त इस्‍तेमाल कर सकते हैं.

वहीं छात्रों ने कहा कि यहां से हम अपनी किताबों को डाउनलोड कर सकते हैं. हमें हर किताब यहां मिल जाती है मुझे पिछले महीने ही इसका पता चला बहुत ज्यादा अब हम इसको यूज़ करते हैं. इस लाइब्रेरी में प्राइमरी से लेकर पोस्‍ट ग्रेजुएशन तक की किताबें उपलब्‍ध हैं. इसके साथ ही यहां छात्रों से लेकर टीचर्स, रिसर्चर्स, लाइब्रेरियन और अन्‍य प्रोफेशनल के लिए भी किताबें मौजूद हैं.

यहां मिलने वाला कंटेंट या मेटेरियल ऑडियो, वीडियो, डॉक्‍यूमेंट और किताबों के अलावा थीसिस के रूप में है. लाइब्रेरी में सीबीएसई , यूपी बोर्ड , हरियाणा बोर्ड , एमपी बोर्ड सहित कुल 17 राज्‍यों के बोर्ड का सिलेबस और किताबें ऑनलाइन मौजूद हैं. रजिस्‍टर्ड छात्रों को सभी मेटेरियल एक क्लिक पर मिल रहा है. छात्रों को अगर कोई किताब बाजार में नहीं मिल रही तो वह यहां उपलब्‍ध है. छात्रों का कहना है कि वे इसमें 2 से 3 घंटे डेली देते है. यहां हम बिना पैसे किताबें हम डाउनलोड करके पढ़ सकते हैं. (Report: Varun Sinha)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें