scorecardresearch
 

बिहार की इस यूनिवर्सिटी की बड़ी लापरवाही, ग्रेजुएशन की परीक्षा में स्टूडेंट को दिए 100 में 555 नंबर

विश्वविद्यालय द्वारा जो रिजल्ट जारी किया गया है, उसे चेकर, मेकर के अतिरिक्त परीक्षा नियंत्रक से लेकर कुलपति व प्रतिकुलपति द्वारा भी अप्रूव किया गया है.

X
Munger University Munger University
स्टोरी हाइलाइट्स
  • स्टूडेंट को मिले 108.5 फीसदी नंबर
  • कुल प्राप्तांक भी 1,130 हुआ

बिहार के मुंगेर विश्वविद्यालय द्वारा सत्र 2018-21 स्नातक पार्ट-3 के बीए का रिजल्ट जारी किया गया है. लेकिन इसमें विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग की बड़ी लापरवाही सामने आई है. विश्वविद्यालय द्वारा एक विद्यार्थी को स्नातक के तीनों पार्ट को मिलाकर कुल 800 की जगह 868 अंक दे दिया गया है. साथ ही, स्टूडेंट को पार्ट-3 के ऑनर्स विषय के पेपर-5 में कुल 100 अंक के बदले 555 अंक दिया गया है. 

इतना ही नहीं, स्टूडेंट को कुल 108.5% अंक दिया गया. बताते चलें कि विश्वविद्यालय द्वारा स्नातक पार्ट-3 के कला संकाय का रिजल्ट जिसके टीआर के वेबकॉपी को विश्वविद्यालय के ऑफिशियल वेबसाइट पर भी अपलोड कर दिया गया है.

इस रिजल्ट में केकेएम कॉलेज, जमुई के इतिहास ऑनर्स के एक छात्र दिलीप कुमार साह (जिसका रोल नंबर 118040073) को उसके पार्ट-3 के पेपर-5 विषय में कुल 100 अंकों में 555 अंक दिया गया. इसके कारण ही उसका कुल प्राप्तांक भी 1,130 हो चुका है. सबसे आश्चर्य की बात है कि उसे कुल 108.5% प्राप्त हुए हैं. 

मार्कशीट
मार्कशीट

बता दें कि कई तकनीकी कारणों और सही से रिजल्ट प्रकाशन को लेकर ही परीक्षा विभाग अपने दो बार रिजल्ट प्रकाशित करने के दावे की तिथि पर इसे प्रकाशित नहीं कर पाया था. विश्वविद्यालय द्वारा जो रिजल्ट जारी किया गया है, उसे चेकर, मेकर के अतिरिक्त परीक्षा नियंत्रक से लेकर कुलपति व प्रतिकुलपति द्वारा भी अनुमोदित किया गया है. वहीं, मामले में फोन पर परीक्षा नियंत्रक डॉ रामाशीष पूर्वे ने बताया कि गलती हुई है इसे ठीक कर लिया जाएगा. प्रतिकुलपति ने कहा कि अंतिम वर्ष होने के बाद इस प्रकार की गलती होना चिंताजनक है. इस मामले में परीक्षा नियंत्रक से पूछा जाएगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें