scorecardresearch
 
एजुकेशन न्यूज़

जानिए कौन हैं भाजपा नेता अनिल विज, जो कोरोना वैक्सीन के ट्रायल में हुए शामिल

Haryana minister Anil Vij
  • 1/7

भारत बायोटेक कंपनी की ओर से बनाई जा रही कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन का आज से तीसरा ट्रायल शुरू हो गया है. इस ट्रायल में हरियाणा के मंत्री अनिल विज भी वॉलंटियर में शामिल हैं, उनके ऊपर इस वैक्सीन का ट्रायल हो रहा है. आइए जानें उनके बारे में. 

Haryana minister Anil Vij
  • 2/7

अनिल विज वर्तमान में हरियाणा के गृहमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री दोनों पदों पर हैं. अनिल विज ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि वह कोवैक्सीन परीक्षण में वॉलंटियर के तौर पर खुद को डॉक्टरों की देखरेख में सबसे पहले टीका लगवाएंगे.

Haryana minister Anil Vij
  • 3/7

अनिल विज ने 2019 में अंबाला कैंट से छठी बार विधान सभा सीट जीती है. वो साल 1970 से सक्रिय राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने एबीवीपी की स्टूडेंट विंग से राजनीति शुरू की थी. 

Haryana minister Anil Vij
  • 4/7

1970 में, वह ABVP के महासचिव बने थे. लेकिन फिर 1974 में भारतीय स्टेट बैंक में नौकरी ज्वाइन कर ली.लेकिन जब 
1990 में सुषमा स्वराज राज्यसभा के लिए चुनी गईं तो अंबाला छावनी सीट खाली हो गई. तब विज ने सर्विस से इस्तीफा देकर बीजेपी से उपचुनाव लड़ा. 

Haryana minister Anil Vij
  • 5/7

बता दें क‍ि Covaxin के तीसरे चरण का ट्रायल हरियाणा के रोहतक से शुक्रवार हो गया है. मंत्री अनिल विज ने पहला टीका लगवाया है. देश में कुल 25 हजार 800 लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल होना है. पीजीआई रोहतक के वाइस चांसलर ने कहा था कि कोवैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल शुक्रवार से शुरू हो गया. पहले 200 वॉलियंटर्स को डोज दी जा रही है.

Haryana minister Anil Vij
  • 6/7

अन‍िल व‍िज ने इसमें खुद ही अपना नाम द‍िया था. अब जब उन्हें पहली डोज दी जा चुुकी है. अब इसके 28 दिन बाद दूसरी डोज दी जाएगी. अनिल विज ने ख़ुद पर वैक्सीन का परीक्षण करवाया है. हालांकि वो कई बीमारियों से ग्रसित भी हैं और हाल ही में उनका ऑपरेशन भी हुआ था. ट्रायल से पहले उनके तमाम तरह के टेस्ट किए गए. अब आज उन्हें ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा और इसके रिजल्ट अब आने शुरू हो जाएंगे.

Haryana minister Anil Vij
  • 7/7

भारत बायोटेक वैक्सीन का निर्माण इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के साथ मिलकर कर रही है. देश में कुल 25 हजार 800 लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल होना है. पीजीआई रोहतक उन तीन सेंटर में से एक है जहां तीसरे फेज में 200 वॉलियंटर्स पर वैक्सीन का ट्रायल किया जाना है. इस दौरान उनमें एंटीबॉडी की स्थिति का अध्ययन किया जाएगा.